Submit your post

Follow Us

हाथरस में पीड़िता का परिवार क्यों कह रहा है कि उन्हें कैद कर दिया गया है?

यूपी के हाथरस में पीड़िता का गांव अब करीब-करीब पुलिस छावनी में तब्दील हो चुका है. ना वाहनों की आवाजें और ना ही बच्चों का शोर. फिलहाल गांव में कुछ सुनाई देता है तो सिर्फ पुलिस की बातें और सायरन की आवाजें. हाथरस के डीएम के मुताबिक, यहां तीन स्तर की सुरक्षा का बंदोबस्त किया गया है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सुरक्षा इंतजाम काफी सख्त कर दिए गए हैं. लेकिन पीड़ित परिवार ने हाई कोर्ट में गुहार लगाई है कि इस कड़ी सुरक्षा के कारण वे घर में कैद हो गए हैं.

CCTV और मेटल डिटेक्टर भी लगे

पूरे गांव में भारी भरकम पुलिस बल तैनात है. यहां तक कि घर के बाहर CCTV कैमरे और मेटल डिटेक्टर भी लगा दिए गए हैं. पीड़िता के परिवार से मिलने से पहले रजिस्टर में नाम-पता लिखवाना होता है. गांव में अनजान चार पहिया और दो पहिया वाहनों का आना-जाना पहले ही बंद कर दिया गया है.

Hathras Sp Suspend
हाथरस के गांव में भारी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है. (फाइल फोटो)

घर के हर सदस्य को दो शैडो दिए गए

यूपी सरकार की ओर से परिवार के हर सदस्य की सुरक्षा के लिए दो पुलिसकर्मियों की व्यवस्था की गई है. परिवार के लोगों को कहीं जाना हो तो भी पुलिस को बताना होगा, और शैडो को साथ ले जाना होगा. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित परिवार की महिलाएं शौच के लिए भी जाती हैं तो महिला कॉन्स्टेबल उनके साथ सुरक्षा के लिए रहती हैं. शायद यही कारण है कि पीड़ित परिवार ने अब हाई कोर्ट में अर्जी लगाई है.

हाई कोर्ट की शरण में पीड़ित परिवार

पीड़ित परिवार की ओर से एक सामाजिक कार्यकर्ता सुरेंद्र कुमार ने हाई कोर्ट में ये अर्जी दाखिल की है. इसमें कहा गया है कि परिवार घर में कैद होकर रह गया है. लोग मिलने नहीं आ पा रहे हैं. परिवार अपनी बात किसी से खुलकर नहीं कह पा रहा है. अर्जी में मांग की गई है कि उन्हें लोगों से मिलने जुलने और अपनी बात कहने की छूट दी जाए.

बाबरी मस्जिद विध्वंस में इलाहाबाद हाईकोर्ट का बारहा नाम आता है. कई मौक़ों पर कोर्ट के आदेशों ने मामले को अलग दिशा दी.
परिवार की तरफ से हाई कोर्ट से गुहार लगाई गई है कि उन्हें किसी से मिलने नही दिया जा रहा है.

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा था?

सुप्रीम कोर्ट में 6 अक्टूबर को सुनवाई के दौरान पीड़ित परिवार की सुरक्षा का मुद्दा उठा था. इस पर कोर्ट ने यूपी सरकार से हलफनामा देकर ये बताने को कहा था कि सिक्योरिटी के क्या-क्या इंतजाम किए गए हैं. चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबडे ने इस मामले को बहुत ही असाधारण और चौंकाने वाला बताया था.

सियासत भी गरम है

हाथरस में 19 साल की लड़की की कथित गैंगरेप के बाद मौत को लेकर माहौल काफी गरम है. कांग्रेस, सपा, बसपा, आम आदमी पार्टी और भीम आर्मी समेत कई पार्टियों ने यूपी सरकार पर निशाना साधा है. वहीं सरकार ने पूरे मामले को साजिश करार दिया है. आरोप लगाए जा रहे हैं कि यूपी को जातीय दंगों की आग में जलाने की साजिश रची जा रही है. पुलिस ने पीएफआई नाम के संगठन से कथित तौर पर जुड़े कई लोगों को गिरफ्तार भी किया है.


वीडियो – हाथरस केस: आधी रात को अंतिम संस्कार पर यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में क्या सफाई दी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दो बार छह छ्क्के लगा चुका वह भारतीय, जिसे करोड़पति बनना रास ना आया

गणित के मास्टर भी हैं CSK को पीटने वाले राहुल त्रिपाठी.

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

साथ ही ये भी बताया कि 14 सितंबर से अब तक क्या-क्या किया.

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

क्या ये चिराग पासवान के लिए ज़मीन तैयार करने की रणनीति है?

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

स्टूडेंट्स, अभिभावकों की लिखित सहमति से ही स्कूल जा सकते हैं.

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे हैं राहुल-प्रियंका.

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?