Submit your post

Follow Us

बिली बाउडन से चार कदम आगे निकला ये अंपायर, सिर के बल देता है डिसीज़न!

अंपायरिंग काफी कठिन जॉब है. हमेशा एकाग्रता बनाए रखनी होती है. एक गलत फैसले की वजह से मैच का परिणाम भी बदल सकता है. अक्सर मैदानी अंपायर बेहद गंभीर मुद्रा में ध्यान लगाए क्रिकेट फील्ड पर नज़र आते हैं. हालांकि, कुछ अंपायर्स ऐसे भी हुए हैं, जो अपने अंदाज़ या यूं कहें कि अंपायरिंग सिग्नल देने की वजह से मशहूर हुए. और हमारे ज़हन में सबसे पहला नाम बिली बाउडन का ही आता है. जब भी बिली बाउडन को चौके, छक्के या आउट का सिग्नल देना होता था. वह अलग अंदाज़ में दिया करते थे.

हालांकि, बिली बाउडन अब इंटरनेशनल क्रिकेट में सक्रिय नहीं हैं. उन्हें ICC ने अपने एलीट पैनल से निकाल दिया है. और इस समय बिली बाउडन न्यूज़ीलैंड की घरेलू सर्किट में अंपायरिंग कर रहे हैं.  लेकिन ऐसा लगता है कि क्रिकेट को नया बिली बाउडन मिल गया है. एकदम अपडेटेड वर्जन.

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है. यह वीडियो एक क्रिकेट मैच का है. जहां वाइड बॉल का सिग्नल देने के लिए अंपायर दोनों हाथ फैलाकर नहीं बल्कि सिर के बल खड़े होकर पैरों को फैलाकर वाइड का सिग्नल देते हैं. नो बॉल होने पर ये अंपायर पहले बैक जंप लगाता है. फिर नो बॉल का सिग्नल देता हैं. इसी तरह चौके-छक्के लगने पर भी ये अंपायर गोविंदा की तरह डांस मूव्स दिखाता है. इस अंपायर का नाम है –दीपक राजाराम नाइकनवरे.

दीपक राजाराम के इस वायरल वीडियो को पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन ने भी शेयर किया है. माइकल वॉन दीपक के अंदाज़ पर फ़िदा हो गए हैं. माइकल ने वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा,

‘निश्चित रूप से हमें इस व्यक्ति को ICC एलीट पैनल में शामिल होते देखना चाहिए.’

बता दें कि दीपक राजाराम नाइकनवरे का ये वायरल वीडियो पुरंदर प्रीमियर लीग का है. दीपक भिवरी ब्लास्टर्स और केडेपाथर किंग्स के बीच खेले जा रहे मुकाबले में अंपायरिंग कर रहे थे. और इसी दौरान उन्होंने अलग-अलग अंदाज़ में अंपायरिंग सिग्नल दिए. फैन्स को एंटरटेन किया. और उनका वीडियो वायरल हो गया.

दैनिक जागरण से बातचीत के दौरान दीपक राजाराम नाइकनवरे (Deepak Rajaram Naiknavare) ने अपनी अंपायरिंग को लेकर कई दिलचस्प बताें बताईं. दीपक ने कहा,

‘मैं पिछले 9-10 साल से अंपायरिंग कर रहा हूं. महाराष्ट्र में राजनेताओं की ओर से टेनिस बाल टूर्नामेंट आयोजित किए जाते हैं. उनके फाइनल मैच में अंपायरिंग के लिए मुझे खासतौर पर आमंत्रित किया जाता है. एक मैच के पांच-छह हजार रुपये मिल जाते हैं. मैंने अंपायरिंग के लिए कहीं कोई प्रशिक्षण नहीं लिया है. सब कुछ टीवी और मैदान में देखकर सीखा. मैं भले मैदान पर दर्शकों का मनोरंजन करता हूं लेकिन अंपायरिंग की अपनी जिम्मेदारियों को लेकर बेहद गंभीर हूं और बहुत सोच-समझकर कोई फैसला सुनाता हूं क्योंकि उसपर हार-जीत निर्भर करती है.’

इतना ही नहीं, दीपक न्यूज़ीलैंड के अंपायर बिली बाउडन को अपना आइडल मानते हैं. और उन्हीं की तरह बनना भी चाहते हैं. दीपक का कहना है कि उनके पिता की इच्छा थी कि वह अंपायरिंग में कुछ अलग करें. और इसी वजह से दीपक ने अलग-अलग अंदाज़ में सिग्नल देना शुरू किया. आलम ये है कि दीपक की अंपायरिंग देखने के लिए हज़ारों की तादाद में क्रिकेट फैन्स आते हैं और मैच के साथ-साथ उनके अंदाज़ का भी लुत्फ उठाते हैं.


ऑस्ट्रेलिया ने मैच से तीन दिन पहले ही क्यों कर दी प्लेइंग XI की घोषणा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.