Submit your post

Follow Us

ग्रेग चैपल बोले, द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया से सीखकर तैयार की भारतीय टीम

IPL खत्म होते ही भारतीय क्रिकेट टीम इंटरनेशनल क्रिकेट के लिए तैयार है. विराट कोहली की अगुवाई में टीम जून के महीने में इंग्लैंड रवाना होगी. लेकिन इसी बीच भारत को श्रीलंका में भी एक सीरीज़ खेलनी है. अब उसके लिए भारत टीम कैसे भेजी जाए?

लेकिन ये भारतीय टीम की बैंच स्ट्रेंथ की ताकत ही है कि हमारी ए टीम इंग्लैंड में होगी और बी टीम श्रीलंका जाने के लिए तैयार है.

इसी चीज़ को देखते हुए भारतीय टीम के पूर्व कोच और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ग्रेग चैपल का एक बयान आया है. दरअसल चैपल को लगता है कि भारतीय टीम और राहुल द्रविड़ ने बैंच स्ट्रेंथ तैयार करने वाली ट्रिक ऑस्ट्रेलिया से सीखी है.

चैपल का मानना है कि NCA प्रमुख राहुल द्रविड़ ने ‘ऑस्ट्रेलियन ब्रेन्स’ की तकनीक को सीखा और यंग टैलेंट को निखारने का काम किया है. जिससे की टीम इंडिया की बैंच स्ट्रेंथ मजबूत हो सके.

ग्रेग चैपल ने cricket.com.au. से कहा,

”भारत ने सफलता हासिल की और ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि राहुल द्रविड़ ने हमसे सीखा, देखा कि हम क्या कर रहे हैं और भारत में इसे दोहराया. उनके पास बड़ी जनसंख्या होने की वजह से विकल्प ज़्यादा थे.”

चैपल ने इस बातचीत में आगे ऑस्ट्रेलिया का भी ज़िक्र किया. उन्होंने कहा,

”ऐतिहासिक रूप से हम युवा खिलाड़ियों को तैयार करने में बेस्ट थे और उन्हें व्यवस्था से जोड़कर रखते थे, लेकिन मुझे लगता है कि पिछले कुछ सालों में इसमें काफी बदलाव आया है.”

उन्होंने आगे कहा,

”मैंने युवा खिलाड़ियों का समूह देखा है जिनमें बहुत प्रतिभा है लेकिन उन्हें मौके नहीं मिल रहे. हम ऐसे एक भी खिलाड़ी को खोने का जोखिम नहीं उठा सकते.”

ग्रेग चैपल को लगता है कि युवाओं को खोजने में इंग्लैंड और भारत, ऑस्ट्रेलिया से आगे निकल गए हैं. उन्होंने कहा,

”मुझे लगता है कि हम टैलेंटिड खिलाड़ियों को खोजने में अपना स्थान गंवा चुके हैं. मुझे लगता है कि अब इंग्लैंड हमसे बेहतर कर रहा है और भारत भी हमसे बेहतर कर रहा है.”

इसके साथ ही उन्होंने उदाहरण देते हुए ऑस्ट्रेलिया में भारत की जीत का ज़िक्र किया. उन्होंने कहा,

”इसी साल की शुरुआत में कई अहम खिलाड़ियों के चोटिल होने के कारण भारत की दूसरे दर्जे की टीम ने ऑस्ट्रेलिया को उसी की सरजमीं पर हराकर बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी जीती.”

चैपल के इस हार को याद करने का एक कारण ये भी है कि विराट, बुमराह जैसे कई खिलाड़ियों के ना होने पर ऑस्ट्रेलिया को हराने वाली टीम के ज़्यादातर खिलाड़ी राहुल द्रविड़ की कोचिंग में सीखकर ही भारतीय टीम तक पहुंचे हैं.

चैपल ने कहा,

”अगर आप ब्रिस्बेन टेस्ट में खेली भारतीय टीम को देखेंगे तो पाएंगे कि उसमें तीन-चार नए प्लेयर्स थे. हर किसी ने ये ही कहा कि ये भारत की दूसरी इलेवन है. ये खिलाड़ी भारत ए के लिए काफी मैच खेले थे.”

अब इसे ऑस्ट्रेलियन ब्रेन से सीखना कहें या राहुल द्रविड़ की काबीलियत कि भारत ने अपनी बैंच स्ट्रेंथ को भी अपनी पहली टीम जितना मजबूत बना लिया है.


कोरोनावायरस के बीच केविन पीटरसन ने भारत से लौटते ही क्या कहा है? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी के हर जिले में कोरोना से जुड़ी शिकायतों की सुनवाई की हाई कोर्ट ने स्पेशल व्यवस्था कर दी है

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने चुनावी ड्यूटी में जान गंवाने वालों पर भी अहम फैसला दिया है.

नदी में कोरोना पीड़ितों के शव बहाने से क्या पानी संक्रमित हो जाता है?

बिहार और यूपी में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं.

कनाडा के बाद अब अमेरिका में भी 12 से 15 साल के बच्चों को लगेगी फाइज़र की वैक्सीन

ये वैक्सीन भारत कब तक आएगी.

डॉक्टरों की सबसे बड़ी संस्था IMA ने कोरोना पर सरकार को खूब सुनाया है!

कहा-स्वास्थ्य मंत्रालय का रवैया हैरान करने वाला.

दिल्ली में फिर बढ़ा लॉकडाउन, इस बार और भी सख़्ती

दिल्ली के सीएम ने क्या बताया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.