Submit your post

Follow Us

सीवान पत्रकार मर्डर केस: पांच पकड़ाए, लड्डन मियां की तलाश

19
शेयर्स

बिहार के सीवान में जिन पत्रकार राजदेव रंजन का मर्डर हो गया था. उनके मर्डर के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को अरेस्ट कर लिया है. पुलिस बता रही है ये पांच शूटर हैं, 13 मई को हुए मर्डर में ये पांचों थे.

पुलिस ने बताया कि पांचों पकड़े गयों के नाम रोहित कुमार, विजय कुमार, राजेश कुमार, रिसु कुमार और सोनू कुमार हैं. इनके पास से मर्डर में यूज की गई देसी पिस्तौल और बाइक धर ली गई है. कुछ लोग अभी फरारी काट रहे हैं.

WhatsApp-Image-20160525 (1)
शूटर रोहित कुमार की तस्वीर

पता लगा कि इन पांचों को लड्डन मियां ने मर्डर की सुपारी दी थी. लड्डन मियां, पूर्व आरजेडी सांसद शहाबुद्दीन का खासमखास है. और फिलहाल फरार है. एडीजी ने बताया कि ‘जिन पांच को पकड़ा है उनने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है. पत्रकार के मर्डर को लेकर इन्वेस्टीगेशन चालू है. एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद कुछ साफ हो जाएगा. सीबीआई अपनी जांच कर रही है. अगर सबूत में किसी का नाम आता है तो उसको छोड़ेंगे नहीं. पुलिस लड्डन मियां की तलाश कर रही है.’

ये है लड्डन मियां की तस्वीर 

f3568cbe-9486-488f-88b8-f375bb75370d

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अयोध्या : मुस्लिम पक्ष ने कहा, 'केवल हमसे ही सारे सवाल क्यों पूछे जा रहे?'

इस पर हिन्दू पक्ष ने कोर्ट में क्या कह दिया?

राफेल बनाने वालों ने राजनाथ सिंह से ऐसी बात कह दी कि निर्मला सीतारमण का दिल बैठ जाए

टैक्स को लेकर क्या कह दिया?

हिंदू राष्ट्र की बात करते-करते पाकिस्तान की बात क्यों करने लगे संघ प्रमुख भागवत?

मोहन भागवत ने और भी बहुत कुछ कहा है, जो संघ के पुराने विचारों से मेल नहीं खाता.

'राम-राम' नहीं कहा तो अलवर में पति को पीटा, पत्नी के कपड़े उतारने की कोशिश की

पति-पत्नी मुसलमान थे.

भिखारिन के अकाउंट से इतने पैसे मिले कि बैंक भी सकते में है

यहां लाखों नहीं, करोड़ों की बात हो रही है.

क्या है गौतम नवलखा केस, जिसे सुनने से अबतक CJI समेत सुप्रीम कोर्ट के 5 जज इनकार कर चुके हैं

किसी भी जज ने कोई कारण नहीं बताया है, पूर्व जज ने कहा था, कारण बताने से पारदर्शिता बढ़ती है.

टीवी पर शुरू हो रहा है 'दी लल्लनटॉप क्विज' सौरभ द्विवेदी के साथ, पूरी जानकारी पाइए

टीवी के इतिहास का सबसे मस्त क्विज, शनिवार 5 अक्टूबर से.

चिन्मयानंद को बचाने के लिए वकील ने कोर्ट में गजब का तर्क दिया है

और ऐसी बात जिसका केस से कोई संबंध नहीं.

योगी का नया ऐप ये काम कर देगा, किसी ने सोचा भी नहीं था

ये क्या बवाल मोल ले लिया योगी जी ने.

चिन्मयानंद और कुलदीप सेंगर के फोन में ऐसा क्या ख़ास है कि पुलिस उलझ गयी है

माथापच्ची हो रही, लेकिन उनका फोन नहीं खुल पा रहा.