Submit your post

Follow Us

सीवान पत्रकार मर्डर केस: पांच पकड़ाए, लड्डन मियां की तलाश

5
शेयर्स

बिहार के सीवान में जिन पत्रकार राजदेव रंजन का मर्डर हो गया था. उनके मर्डर के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को अरेस्ट कर लिया है. पुलिस बता रही है ये पांच शूटर हैं, 13 मई को हुए मर्डर में ये पांचों थे.

पुलिस ने बताया कि पांचों पकड़े गयों के नाम रोहित कुमार, विजय कुमार, राजेश कुमार, रिसु कुमार और सोनू कुमार हैं. इनके पास से मर्डर में यूज की गई देसी पिस्तौल और बाइक धर ली गई है. कुछ लोग अभी फरारी काट रहे हैं.

WhatsApp-Image-20160525 (1)
शूटर रोहित कुमार की तस्वीर

पता लगा कि इन पांचों को लड्डन मियां ने मर्डर की सुपारी दी थी. लड्डन मियां, पूर्व आरजेडी सांसद शहाबुद्दीन का खासमखास है. और फिलहाल फरार है. एडीजी ने बताया कि ‘जिन पांच को पकड़ा है उनने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है. पत्रकार के मर्डर को लेकर इन्वेस्टीगेशन चालू है. एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद कुछ साफ हो जाएगा. सीबीआई अपनी जांच कर रही है. अगर सबूत में किसी का नाम आता है तो उसको छोड़ेंगे नहीं. पुलिस लड्डन मियां की तलाश कर रही है.’

ये है लड्डन मियां की तस्वीर 

f3568cbe-9486-488f-88b8-f375bb75370d

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस में मचा हंगामा, तो योगी ने की ये बड़ी कार्रवाई

सेक्स चैट से शुरू हुआ था मामला, "घूसखोरी" और पोस्टिंग पर अटकी बात

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...