Submit your post

Follow Us

उत्तराखंड के जंगलों में 964 जगहों पर लगी आग, NDRF की टीमों को मदद के लिए भेजा गया

उत्तराखंड के जंगल सुलग रहे हैं. 3 और 4 अप्रैल यानी दो दिन में इस आग से चार इंसानों और सात जानवरों की मौत हो चुकी है. पूरे प्रदेश में 964 जगहों पर आग लगी हुई है. करीब 62 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में हैं. सरकार के मुताबिक 37 लाख की संपत्ति का नुकसान हो चुका है. सीएम तीरथ सिंह रावत ने इस आग को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भी बात की. हालात की गंभीरता को देखते हुए NDRF की टीमों को तैनात किया जा रहा है. केंद्र सरकार ने दो हेलीकॉप्टरों की भी व्यवस्था की है जिनसे आग बुझाने का काम किया जाएगा.

कहां-कहां लगी हुई है आग?

इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़े दिलीप सिंह के मुताबिक,

“बागेश्वर में सबसे अधिक आग लगी हुई है. रुद्रप्रयाग का जो केदारनाथ वाला रेंज है जंगल का उसमें बहुत जबरदस्त आग लगी है. नैनीताल में आग लगी है, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चंपावत और उधमसिंहनगर के भी अधिकतर जगहों पर आग लगी हुई है. पूरे प्रदेश के जंगल ही इस वक्त आग की चपेट में हैं. इन इलाकों में हर तरफ धुआं है.”

Uttarakhand Fire
दिन और रात सुलग रहे हैं जंगल. फोटो सोर्स- आजतक

इतनी बड़ी जगह में कैसे लगी आग?

दिलीप बताते हैं कि आग सूखे पत्तों से लगी होगी और फिर बढ़ती चली गई. वैसे तो हर साल इस वक्त जंगलों में आग लगती है, लेकिन 2016 के बाद से ये सबसे बड़ी आग है. वो बताते हैं,

“ये पतझड़ का सीजन होता है. इस बार बारिश भी नहीं हुई है. वैसे हर बार इस सीजन में बारिश होती है, लेकिन इस बार बारिश नहीं हुई. 2016 में बहुत बड़ी आग लगी थी, लेकिन उसके बाद आग इतनी बड़ी कभी नहीं लगी. हर बार बारिश हो जाती थी और आग कंट्रोल हो जाती थी.”

“कोविड के दौरान जंगलों में साफ-सफाई भी नहीं हो पाई. आमतौर पर जंगल में फायर कट किया जाता है. फायरलाइन आदि का सिस्टम भी नहीं हो पाया. एक से डेढ साल के पत्ते, टहनियां आदि जंगल में जमा हो रखी थीं. इस वजह से इस बार जब आग लगी तो काबू के बाहर निकल गई.”

Fire
जंगल में लगी आग बुझाते दमकलकर्मी. फोटो सोर्स- आजतक

अभी आग की क्या स्थिति है?

अब तक की जानकारी के मुताबिक 964 जगहों पर आग लग चुकी है. चार लोगों और सात जानवरों की मौत हो गई है. वन विभाग के मुताबिक 37 लाख रुपये की वन-संपदा जल चुकी है. लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि नुकसान इससे कहीं बड़ा हो सकता है. इंडिया टुडे के बागेश्वर संवाददाता जगदीश पांडेय की रिपोर्ट के मुताबिक अलग-अलग जगहों पर आग भड़की हुई है जिससे जानवरों के चारे की समस्या पैदा हो गई है साथ ही आबादी वाले इलाकों में ये भी डर है कि जंगली जानवर निकल कर रिहायशी इलाकों में आ सकते हैं.

सरकार क्या कर रही है?

हालात की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 4 अप्रैल को पूरे प्रदेश के बड़े अधिकारियों, वन विभाग, आपदा प्रबंधन विभाग और सभी जिलाधिकारियों के साथ एक वर्चुअल मीटिंग की. इस मीटिंग में आग बुझाने को लेकर बात हुई. मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने बताया कि,

“प्रदेश में आग की बढ़ती घटनाओं को रोकने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जी के साथ बात हुई. उन्होंने NDRF की टीमें देने और दो हेलीकॉप्टर देने पर सहमति दी है. चॉपरों से अब आग को बेहतर तरीके से बुझाया जा सकेगा. हालात की गंभीरता को देखते हुए वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के अवकाश पर रोक के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही प्रदेश भर में तैनात किए गए फायर वॉचर्स को भी जंगलों पर 24 घंटे निगरानी करने के निर्देश दिए हैं.”

आग से पर्यावरण और जीव जंतुओं को भारी नुकसान

इंडिया टुडे के नैनीताल संवाददाता लीला सिंह बिष्ट की रिपोर्ट के मुताबिक यहां करीब 700 तरह के पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती हैं जिनके जीवन पर अब संकट के बादल मंडरा रहे हैं. वहीं उधमसिंह नगर से आई रिपोर्ट के मुताबिक जंगल के काफी हिस्से ऐसे हैं जो आबादी से सटे हुए हैं. ऐसे में आग की घटना बड़ा नुकसान कर सकती है. लोग अपने पालतू जानवरों के लिए चारा जंगल से लेते हैं ऐसे में चारे की समस्या भी पैदा हो गई है साथ ही काफी इलाकों में लोग पानी लेने भी जंगल जाते हैं और अब उनके सामने भी परेशानी खड़ी हो गई है.


वीडियो- उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अब उल्टा बोलने के पहले ये ज़रूर देख लें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

मनसुख हीरेन की मौत के बाद क्या सब चल रहा है?

क्या अनिल देशमुख कोरोना पीड़ित होते हुए भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे?

क्या अनिल देशमुख कोरोना पीड़ित होते हुए भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे?

इस पर अब विवाद क्यों हो रहा है?