Submit your post

Follow Us

जानिए, आदमी के पेट में कैसे पहुंच गईं लोहे की 639 कीलें

2.41 K
शेयर्स

हम छोटे से थे. विज्ञान क्या बला होती है, जानते भी नहीं थे. मगर तब भी हमें पता था कि एक चीज होती है, लोहा. और दूसरी चीज होती है, चुंबक. ये जो चुंबक होता है, वो लोहे को खींच लेता है. सट से खिंचा चला आता है लोहा. चुंबक से चिपक जाता है. इससे पहले कि हम विज्ञान का नाम जानते, हमको लोहे और चुंबक का रिश्ता मालूम चल गया. ये वाली खबर लिखते हुए एकाएक बचपन की ये बात याद आ गई.

मरीजे की एक्स-रे रिपोर्ट. पेट में कीलों के अलावा ढेर सारी मिट्टी भी मिली.
मरीज की एक्स-रे रिपोर्ट. पेट में कीलों के अलावा ढेर सारी मिट्टी भी मिली.

मरीज के पेट में था एक किलो लोहा

ये खबर आई है कलकत्ता से. वहां एक कॉलेज कम अस्पताल है. कलकत्ता मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल. यहां एक मरीज आया. उसके पेट में कीलें थीं. लोहे की कीलें. बिहार के पाठक कांटी पढ़ें. तो डॉक्टरों को इस मरीज के पेट से कीलें निकालनी थीं. ऑपरेशन करते समय डॉक्टरों को चुंबक की याद आई. चुंबक का इस्तेमाल करके उन्होंने कीलें निकालीं. घंटे तक मशक्कत करते रहे डॉक्टर. पता है, उस आदमी के पेट में कितनी कीलें थीं? 639. ज्यादातर कीलें ढाई इंच की थी. मुड़ी हुई थीं. वजन करो तो एक किलो से ज्यादा लोहा. पेट में बहुत सारी मिट्टी भी थी. इसी मिट्टी में मिलाकर मरीज ने कीलें खाई थीं.

ये ऑपरेशन करीब एक घंटे 45 मिनट तक चला. मरीज भी बिल्कुल ठीकठाक है (सांकेतिक तस्वीर)
ये ऑपरेशन करीब एक घंटे 45 मिनट तक चला. मरीज भी बिल्कुल ठीकठाक है (सांकेतिक तस्वीर)

चुंबक से चुन-चुनकर कीलें निकाली गईं

वो जो मरीज था, उसने एक बार में नहीं खाई थीं कीलें. थोड़ी-थोड़ी करके. फिर एक बार वो डॉक्टर के पास आया. उसको पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द हो रहा था. उल्टी भी होती थी. फिर डॉक्टरों ने उसके पेट में झांककर देखा. मशीन से तो उसके पेट में दिखीं बहुत सारी कीलें. फिर डॉक्टरों ने एक्स-रे किया. पक्का करने के लिए कि कीलें हैं. फिर प्लानिंग हुई. अस्पताल के सीनियर डॉक्टर जुटे. चुंबक की मदद ली गई. डॉक्टरों ने चुन-चुनकर सारी कीलें निकाल दीं. अच्छे से तसल्ली करने के बाद ही वापस पेट को सिला गया.

ये सारी कीलें मरीज के पेट से निकाली गई हैं. वो कब से कीलें खा रहा था, ये नहीं मालूम. इतना पता है कि शायद मिट्टी में मिलाकर खाता था.
ये सारी कीलें मरीज के पेट से निकाली गई हैं. वो कब से कीलें खा रहा था, ये नहीं मालूम. इतना पता है कि शायद मिट्टी में मिलाकर खाता था.

बड़ी अजीब बीमारी है स्कीजोफ्रेनिया, बहुत परेशान करती है

ये जो मरीज था, वो स्कीजोफ्रेनिया का मरीज था. ये बहुत बुरी बीमारी है. मनोवैज्ञानिक परेशानी. इसमें इंसान को लगता है कि पूरी दुनिया उसे मारने पर तुली है. लोग उसका पीछा कर रहे हैं. उसके खिलाफ साजिश रच रहे हैं. उसे सबके ऊपर शक होता है. इसमें इंसान के सोचने-समझने की ताकत पर बड़ा असर पड़ता है. दवा से सुधार तो होता है, लेकिन पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाता. मेरी एक प्रोफेसर थीं. मनोविज्ञान पढ़ाती थीं. उनको भी थी ये परेशानी. उनको वो दिखता था, जो किसी को नहीं दिखता था. पढ़ाते-पढ़ाते एक ओर देखकर जोर से बोलने लगतीं. वहां कोई नहीं होता था. मगर उनको नज़र आता था. कहतीं, बिल क्लिंटन उनके पीछे पड़ा है. हॉस्टल के कैंपस में रहती थीं तो रात को एक्स्ट्रा क्लास के लिए हमें अपने घर बुलातीं. कई बार लाइट बुझाकर चिल्लाने लगतीं. उनकी छत पर गूलर गिरता. उनको लगता उनके पति के भेजे भूत आए हैं. उनको मारने. वो हमसे कहतीं कि हम उनके साथ मिलकर भूतों को मारें. हम भी उनको दिखाने के लिए हवा में हाथ-पैर हिलाते. कई बार हम बच्चे मन ही मन हंसते. कई बार हमारी सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाती. वो पढ़ाती अच्छा थीं, लेकिन बीमार थीं. बाद में चली गईं. कनाडा. वहीं रहने लगीं.


ये भी पढ़ें: 

इंडिया में वो जगह जहां लोग हाथियों की लीद में से खाना निकाल कर खा रहे हैं

दुनिया में आपने बहुत कुछ देखा होगा, ऐसी लाइब्रेरी नहीं दखी होगी

योगी आदित्यनाथ के भाई क्या करते हैं, क्या आप जानते हैं?

इस लड़की के शरीर से पसीने की जगह खून निकलता है

हरियाणा में जिनके लिए पीजी बनने जा रहा है, उनके बारे में कभी सोच भी नहीं सकते

लोन लेने से पहले इस खबर को पढ़ लो, फिर आगे बढ़ना

इस लड़की का पेट निकाला जा चुका है, खाना बनाती है और इसका खाना दुनिया देखती है

रेलवे ने गलती से दिया 99 परसेंट डिस्काउंट, लेकिन एक चीज अच्छी हुई!


हिमाचल चुनाव: सिर पर घास का गट्ठर लादे ‘प्रधान जी’ बोलीं, ‘मोदी से कोई उम्मीद नहीं’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
doctors finds 639 iron nails inside the stomach of a patient, uses magnet to takes out nails

क्या चल रहा है?

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए विधायकों को जो गिफ्ट मिला, उसके बारे में तो सोचा भी नहीं होगा

गोवा में कांग्रेस के 15 में से 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे.

फिर से क्यों रोक दी गई है कश्मीर में चल रही 'अमरनाथ यात्रा'

वजह करीब 90 साल पुरानी है.

टीम लौटेगी इंडिया तो कोच शास्त्री और कोहली से पूछे जाएंगे ये तीन सवाल!

कुछ और लोगों की क्लास लगनी तय है.

एमपी में कुत्तों का ट्रांसफर, सीएम हाउस की सुरक्षा के लिए छिंदवाड़ा से लाया गया कुत्ता

बीजेपी ने कमलनाथ सरकार पर साधा निशाना.

जिस अम्पायर की इंग्लैंड के ख़िलाफ़ हिस्ट्री गड़बड़ है, वही करेगा फाइनल में अम्पायरिंग

लेओ भइय्या, नया झाम संभालो!

WC फाइनल के टिकट पर भारतीयों का कैसा कब्ज़ा है, ये न्यूज़ीलैंड के नीशम का ट्वीट पढ़ समझ जाएंगे

टीम पर इतना भरोसा था कि सारे टिकट खरीदकर बैठ गए थे क्रिकेट फैन्स.

इंडिया बाहर हो गई लेकिन खाली हाथ नहीं आई, जानिये जीते हुए मैचों से कितनी कमाई हुई

9 में से 7 मैच जीतने का हुआ है इंडिया को फ़ायदा.

एबी डिविलियर्स का धमाका, बोले- मैंने वर्ल्डकप टीम में लेने की डिमांड नहीं की थी

रिटायरमेंट पर आलोचना पर कहा- पैसे के लिए नहीं लिया रिटायरमेंट.

कंगना रनौत वाला मामला और बिगड़ गया, अब प्रेस क्लब भी अड़ गया कि माफ़ी तो मांगनी ही होगी

कंगना ने मीडिया के लिए नालायक, नंगे, सस्ते और बिकाऊ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया था.

ऋषिकेश का मशहूर लक्ष्मण झूला क्यों बंद हो रहा है?

इस ऐतिहासिक पुल को 12 जुलाई से बंद कर दिया गया.