Submit your post

Follow Us

मेरठ: उत्पाती बंदरों ने लैब टेक्नीशियन से ब्लड सैंपल छीन लिए, तो हड़कंप मच गया

दिल्ली और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में बंदरों के आतंक की खबरें आती रहती हैं. हेमा मालिनी और सुदीप बंद्योपाध्याय जैसे सांसद इस मुद्दे को संसद में भी उठा चुके हैं. बंदरों के उत्पात का एक वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. बंदर पेड़ पर बैठे हैं. उनके हाथ में हैं मेडिकल सैंपल कलेक्शन. बंदर इस सैंपल को खाने की कोशिश कर रहा है. बाद में उसे गिरा देता है.

क्या बंदरों ने कोरोना जांच के सैंपल छीन लिए?

घटना उत्तर प्रदेश के मेरठ मेडिकल कॉलेज की है. ‘इंडिया टुडे’ की रिपोर्ट के मुताबिक़, एक लैब टेक्नीशियन तीन लोगों की जांच के सैंपल ले जा रहे थे. तभी कुछ बंदर आए और उनसे सैंपल छीनकर पेड़ पर चढ़ गए. कॉलेज के प्रमुख अधीक्षक डॉ. धीरज बाल्यान ने इस बात की पुष्टि की कि बंदरों द्वारा छीने गए सैंपल संदिग्ध कोरोना मरीज़ों के थे. उन्होंने वन विभाग को इसकी सूचना दी. बंदरों को पकड़ने की कोशिश की गई, लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ. थक-हारकर मरीज़ों के सैंपल दोबारा लेने पड़े. आसपास के लोगों में अब डर फैल गया है कि वे सैंपल अब भी बंदरों के पास हैं, और इसकी वजह से कोरोना संक्रमण फैलेगा. मेरठ के जिला अधिकारी अनिल ढींगरा ने कहा कि मामले की छानबीन चल रही है.

रुटीन चेकअप के ब्लड सैंपल थे: प्रिंसिपल

इस बारे में मेरठ मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल एस.के. गर्ग ने कहा कि वे कोरोना टेस्ट के लिए गले से लिए हुए सैंपल न होकर, कोरोना मरीजों के रुटीन चेकअप के ब्लड सैंपल थे. उन्होंने कहा कि कोरोना सैंपल को ठंडे बॉक्स में ले जाया जाता है. लेकिन चूंकि ये जनरल रुटीन टेस्ट के ब्लड सैंपल थे, इसलिए इन्हें बिना बॉक्स के ले जाया जा रहा था.

बंदरों का आतंक कोई नई बात नहीं

2018 में आगरा के नई मंडी इलाके में बंदरों ने विजय बंसल नाम के व्यापारी से उनका बैग छीन लिया था. बैग में दो लाख रुपए थे. बंदरों ने एक बहुमंज़िला इमारत पर चढ़कर नोट फेंकने और फाड़ने शुरू कर दिए थे. विजय 60,000 रुपए ही रिकवर कर पाए थे. 2019 में ताजमहल पर तैनात CISF के जवानों को बंदरों से निपटने के लिए गुलेल दी गई थी. फरवरी, 2020 में वृंदावन का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें कई बंदरों के इकट्ठे होकर निकुंज गोयल नामक शख्स पर हमला कर दिया था. किसी पड़ोसी ने झाड़ू से बंदरों को भगाकर उनकी जान बचाई थी.

इसी महीने दिल्ली के साउथ एवेन्यू इलाके में एक बंदर के एटीएम को डैमेज करने का सीसीटीवी फुटेज सामने आया था. मेरठ मेडिकल कॉलेज में भी बंदर मरीज़ों और स्टाफ को परेशान करते रहे हैं.


वीडियो देखें: वृंदावन का बंदर सांप लेकर क्यों भागा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.