Submit your post

Follow Us

'कोरोना देवी' का व्रत रखना झारखंड में एक औरत के लिए बहुत भारी पड़ गया

देश के कुछ पिछड़े इलाकों में ‘कोरोना देवी’ की पूजा की खबरें आ चुकी हैं. अंधविश्वास की वजह से कुछ लोगों को लगता है कि इस देवी की पूजा करने से कोरोना वायरस से बचना संभव है. ताजा मामला झारखंड के पलामू जिले की है, जहां ‘कोरोना देवी’ के लिए व्रत रखने से एक औरत की मृत्यु हो गई है.

अफवाह थी कि जो व्रत रखेंगे, उनके अकाउंट में पैसे डाले जाएंगे

पलामू जिले के सिलदिली के टोला सिकनी में प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर एक अफवाह फैल गई. कहा जाने लगा कि प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण से बचने के लिए कोरोना देवी का व्रत रखने के लिए कहा है. और जो औरतें व्रत रखेंगी, उनके अकाउंट में पैसे डाले जाएंगे. ऐसा सुनकर 20-25 महिलाओं ने व्रत रखा. उनमें से एक थीं वशिष्ठ पासवान की पत्नी 40 वर्षीय वैजयंती देवी. दिनभर भूखा रहने से उनका ब्लड प्रेशर नीचे गिरने लगा. पेट में दर्द होने लगा और लकवे के लक्षण दिखने लगे. परिवार वाले इलाज के लिए उन्हें मोदीनगर ले जाने लगे. रास्ते में रतनाग गांव के समीप उसकी मृत्यु हो गई.

पांडू ब्लॉक की पुलिस ने लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेज दिया है. थाना प्रभारी ने लोगों को कहा है कि कोरोना एक महामारी है, इससे बचने के लिए किसी तरह के अंधविश्वास में न पड़ें. मास्क का इस्तेमाल करें और दूसरे लोगों से हमेशा कुछ दूरी बनाए रखें.

कई जगहों पर चल रही ऐसी पूजा

‘कोरोना देवी’ की पूजा उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम के कई इलाकों में चल रही है. ट्विटर पर भी ऐसे कई वीडियो देखने को मिले. औरतें पूजा करते हुए कोरोना देवी के लिए गीत भी गाती हैं. उन्हें लगता है कि पूजा के बाद एक हवा आएगी और वायरस को ख़त्म कर देगी. इस पूजा के दौरान न तो उनमें से कोई औरत मास्क लगाती है, न ही सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन किया जाता है. इससे संक्रमण के फैलने का जोखिम कहीं अधिक बढ़ जाता है. देखिए ‘इंडिया टुडे’ का यह वीडियो, जिसमें महिलाओं को यह पूजा करते हुए देखा जा सकता है.

भ्रामक जानकारी और अंधविश्वास से बचें

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वॉरियर्स को शुक्रिया कहने के लिए देशवासियों को थाली बजाने के लिए कहा था. बाद में उन्होंने जनता को एकजुटता दिखाने के लिए घरों की लाइट बंद कर दीये, मोमबत्ती और फ्लैशलाइट जलाने के लिए कहा था. उस समय भी यह अंधविश्वास चारों तरफ फैला था कि थालियों की आवाज़ से या मोमबत्तियों की गर्मी से कोरोना वायरस मर जाएगा.

यह कई बार कहा जा चुका है कि भ्रामक जानकारी कोरोना वायरस से लड़ने में बाधक है. इस बीमारी के बारे में सही जानकारी लोगों तक पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया था +919013151515.

इस नंबर पर ‘Hi’ लिखकर भेजें और कोरोना महामारी से जुड़ी जानकारी प्राप्त करें. जितना संभव हो, घर से बाहर जाने से बचें. अगर बाहर जाना भी पड़े, तो मास्क जरूर लगाएं और लोगों से उचित दूरी बनाए रखें.


वीडियो देखें: हल्के बुखार पर केजरीवाल ने कोरोना टेस्ट करवाया, जिसकी रिपोर्ट आ गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.