Submit your post

Follow Us

साईं बाबा के गुज़रने के 102 साल बाद उनके जन्मस्थान को लेकर बवाल क्यों मचा है?

जानकार बताते हैं कि साईंबाबा का जन्म 1838 में हुआ था. मृत्यु हुई 1918 में. यानी उन्हें इस दुनिया से गए 102 साल बीत चुके हैं. अब इतने साल बाद इस बात को लेकर बवाल हो रहा है कि उनका जन्म कहां हुआ था. विवाद शुरू हुआ महाराष्ट्र सरकार के एक फैसले से. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 17 जनवरी को घोषणा की कि राज्य के परभणी जिले का पाथरी गांव साईंबाबा की जन्मस्थली है. सरकार ने गांव के विकास और इसे टूरिज्म के लिहाज से विकसित करने के लिए 100 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा भी कर दी. घोषणा होते ही शिरडी के साईं भक्त नाराज़ हो गए. उनका भी दावा रहा है कि साईं बाबा का जन्म शिरडी में हुआ था. बस यहीं से विवाद शुरू हुआ.

उद्धव की अपील के बाद बंद वापस लिया गया

शिरडी के आस-पास के 25 गांव महाराष्ट्र सरकार के फैसले के विरोध में हैं. ग्रामीणों ने अनिश्चितकालीन बंद का ऐलान कर दिया. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपील की, तो बंद तो वापस ले लिया गया, लेकिन शिरडी इस फैसले से सहमत नहीं है.

पाथरी के नेता बोले- हमारे पास 29 सबूत

पाथरी के एनसीपी नेता बाबाजनी दुर्रानी ने सरकार के फैसले पर खुशी जताते हुए कहा, ‘सरकार के फैसले के बाद अब इसमें कोई शक नहीं है कि साईं बाबा का जन्म पाथरी में ही हुआ था. इस बात को साबित करने के लिए हमारे पास 29 सबूत हैं.’ शिरडी के शिवसेना नेता कमलाकर कोटे ने जवाब दिया कि उनके पास दुर्रानी से ‘एक सबूत ज्यादा है.’

2018 में राष्ट्रपति की बात पर भी विवाद हुआ था

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 2018 में शिरडी दौरे पर गए थे. वहां उन्होंने कहा था, ‘कुछ लोग पाथरी को साईं बाबा की जन्मस्थली मानते हैं. उनकी भावनाओं का सम्मान करते हुए पाथरी को भी विकास के लिए कुछ फंड मिलना चाहिए.’ इसके बाद कमलाकर कोटे 22 लोगों का प्रतिनिधिमंडल लेकर दिल्ली में राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे और उनसे कहा कि साईं बाबा का जन्मस्थान शिरडी ही था. विवाद पनपता देख राष्ट्रपति को अपना पाथरी दौरा रद्द करना पड़ा.

शिरडी साईं मंदिर की 2855 करोड़ रुपए की संपत्ति

‘श्री साईंबाबा संस्थान ट्रस्ट’ की ऑडिट रिपोर्ट के मुताबिक, मंदिर की कुल संपत्ति 2017-18 में करीब 2693 करोड़ रुपए थी, जो 2018-19 में बढ़कर 2855 करोड़ रुपए हो गई. इस फाइनेंशियल ईयर में अब तक मंदिर में करीब 260 करोड़ रुपए का डोनेशन आ चुका है. ये आंकड़ा पिछले साल 247 करोड़ रुपए था. 2017 में साईं बाबा की 100वीं पुण्यतिथि के मौके पर शिरडी में एयरपोर्ट भी शुरू किया गया था.

पहले भी शिरडी से जुड़े विवाद सामने आए हैं

2017 में राजस्व विभाग ने मंदिर ट्रस्ट पर 4 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया था. मंदिर ट्रस्ट को रेवेन्यू से जुड़े मामलों में अनियमितता का दोषी पाया गया था. करीब एक एकड़ की जमीन ऐसी थी, जो शिरडी के भक्तों ने ब्रिटिश राज के दौरान मंदिर के नाम पर किराये पर ली थी. मामला इसी जमीन से जुड़ा था.

इसी तरह 2018 में श्री साईंबाबा संस्थान ट्रस्ट की ओर से मंदिर प्रांगण में लगे तमाम बोर्ड का रंग सफेद से बदलकर भगवा किया जा रहा था. विवाद हुआ तो काम रोक दिया गया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.