Submit your post

Follow Us

क्या लद्दाख में चीन की आक्रामक पैट्रोलिंग भारत के लिए खतरे की निशानी है?

भारत और चीन के बॉर्डर पर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. पहले नाकू ला. और अब लद्दाख क्षेत्र में भी तनाव चल रहा है. पैंगोंग झील के पास भारतीय और चीनी सैनिकों के आमने-सामने आने के दो हफ्ते बाद, चीन ने गश्त तेज कर दी है और झील पर तीन गुना नावें तैनात कर दी हैं. वे भारत के कंस्ट्रक्शन और एक निश्चित पॉइंट से आगे गश्त को लेकर आपत्ति कर रहे हैं. मामले को लेकर अधिकारियों ने कहा कि लद्दाख में तनाव स्थिति को खराब कर सकता है.

इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि पहले चीन गश्ती के लिए तीन नावों का इस्तेमाल कर रहा था. भारत के पास भी इतनी ही नावें  हैं. लेकिन अब चीन ने नौ नावें तैनात कर दी हैं. बता दें कि भारत 45 किलोमीटर लंबे पैंगोंग झील के पश्चिमी हिस्से को कंट्रोल करता है.

Pangong Tsu 2
पैंगोग लद्दाख में है जो कि अब एक केंद्र शासित प्रदेश है. फोटो: गूगल मैप्स

दिक्कत कहां आ रही?

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पश्चिमी क्षेत्र की बात करें तो चीन पैंगोंग झील में एक तिहाई उल्लंघन करता है. चीन ने न सिर्फ झील में नावों की बढ़ोतरी की है. उनके गश्त भी आक्रामक हैं. अप्रैल के आख़िर से ऐसा होना शुरू हुआ है. झील के उत्तरी तट पर पहाड़ हैं, जिसे सेना फिंगर्स कहती है. भारत का दावा है कि LAC फिंगर 8 के साथ को-टर्मिनस है, जबकि चीन का दावा है कि LAC फिंगर 2 से गुजरता है.

सूत्रों के मुताबिक़ चीन ने कुछ दिन पहले जोर देकर कहा था कि भारत फिंगर 2 से आगे पेट्रोलिंग के लिए न आए. भारत फिंगर 4 तक क्षेत्र को फिजिकली कंट्रोल करता है. 5-6  मई को फिंगर 5 के पास भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई थी. इसी क्षेत्र में भारत के व्हीकल ट्रैक के निर्माण को लेकर चीन की आपत्ति है.

सेना का क्या कहना है?

सूत्रों के मुताबिक़ तनाव बढ़ गया है. हम अपने क्षेत्र में निर्माण कर रहे हैं. चीन के सड़क संकरे हैं और बहुत कम मोड़ हैं. ऐसे में हम जब गश्ती करते हैं तो वो हमें क्षेत्र से वापस जाने को कहते हैं. लेकिन संकरे रास्ते की वजह से गाड़ी मोड़कर नहीं जा सकते हैं. यह तीखेपन को और बढ़ाता है. यह क्षेत्र हमेशा से भारत और चीन के बीच सुलझा हुआ क्षेत्र है.

नई दिल्ली में सेना के अधिकारियों ने बताया कि पैंगोंग झील के करीब गर्मियों के महीनों में LAC पर ऐसी गतिविधियां देखने को मिलती हैं. असल में सर्दियों में पोस्ट खाली कर दी जाती है. उसके बाद सेना की नई यूनिट की तैनाती होती है. दोनों पक्षों की अलग-अलग धारणाओं की वजह से टकराव की स्थिति बन जाती है.


पैंगोंग झील के पास भारत-चीन के सैनिक क्यों झगड़ते रहते हैं, इसके बारे में यहां क्लिक करके विस्तार से पढ़ सकते हैं.


विडियो- पैंगोंग झील के पास भारत-चीन सैनिक फिर से लड़ गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.