Submit your post

Follow Us

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले का कवर्धा (Kawardha) कस्बा. बीते कुछ दिनों से यहां के हालात काफी तनावपूर्ण हैं. रविवार 3 अक्टूबर की शाम से यहां कर्फ्यू लगा है. यानी धारा 144. वजह है एक सड़क के किनारे पोल पर लगा “धार्मिक” झंडा. जिसे हटाने को लेकर दो समुदायों के बीच पहले बहस हुई और फिर हिंसा भड़क गई. इसमें तीन पुलिसकर्मियों समेत करीब एक दर्जन लोग चोटिल हुए हैं. घटना की वजह से आसपास के तीन ज़िलों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं.

पुलिस ने किया फ्लैग मार्च

आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक़ भारी उपद्रव और तोड़फोड़ के बाद पुलिस ने कवर्धा को छावनी में तब्दील कर दिया है. हज़ारों की संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं. इलाके में फ्लैग मार्च भी किया गया है. इस घटना के वीडियो फ़ुटेज के ज़रिए उपद्रव में शामिल करीब 70 लोगों की पहचान पुलिस ने की है. वो ये भी दावा कर रही है कि इनमें से करीब 58 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. एहतियात के तौर पर फ़िलहाल कवर्धा में सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और शिक्षण संस्थानों को बंद रखा गया है. कवर्धा, बेमेतरा और राजनंदनगांव ज़िले में इंटरनेट सेवाओं को सस्पेंड कर दिया गया है.

Chattisgarh 1
घटना में हुए तोड़-फोड़ की तस्वीर. (फ़ोटो-आजतक)

क्या है मामला?

आजतक के रिपोर्टर सतीश और रविश पाल सिंह के मुताबिक़ रविवार 3 अक्टूबर को कवर्धा के लोहारा नाका चौक पर कुछ युवकों ने एक “धार्मिक” झंडा लगा दिया था. इसे लेकर दुर्गेश नाम के एक युवक की पिटाई भी कर दी गई थी. बाद में मामला दो गुटों की झड़प में तब्दील हो गया जिसने हिंसक रूप ले लिया. दोनों गुटों की तरफ से जमकर पत्थरबाज़ी हुई.

वहीं, हालात पर क़ाबू पाने के लिए प्रशासन ने धारा 144 लगा दी. लेकिन लोगों का ग़ुस्सा शांत नहीं हुआ. मंगलवार 5 अक्टूबर को एक संगठन ने कवर्धा बंद का ऐलान किया. उसने घटना के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने के लिए रैली निकाली. इंडिया टुडे से ही जुड़े रमेश तंबोली की रिपोर्ट के मुताबिक, रैली में बीजेपी सांसद सतीश पांडे ने भी शिरकत की थी. बाद में इसी प्रदर्शन में हिंसा हो गई. भीड़ ने दूसरे पक्ष के लोगों पर जमकर पथराव किया. कुछ जगहों पर तोड़फोड़ भी की गई. स्थिति पर क़ाबू पाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया, आंसू गैस के गोले भी छोड़े.

पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने अंग्रेज़ी अख़बार हिंदुस्तान टाइम्स से कहा,

“मंगलवार को एक दक्षिणपंथी संगठन ने एक विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया था. प्रदर्शनकारी दूसरे समुदाय वाले बहुल इलाक़े में गए और वहां हिंसक हो गए. हालात पर क़ाबू पाने के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया है. कुछ पुलिसकर्मियों सहित कुछ लोगों को मामूली चोटें आईं, लेकिन उनकी हालत स्थिर है.”

बताते चलें कि बीजेपी नेता और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह कवर्धा के ही रहने वाले हैं. छत्तीसगढ़ के तत्कालीन वन मंत्री मोहम्मद अकबर भी इसी जिले से हैं. रमन सिंह ने इस घटना के लिए स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा,

“दो समुदायों के बीच एक मामूली मामले को हल करने में प्रशासन और पुलिस नाकाम रही, जिस वजह से हिंसा और झड़प हुई. प्रशासन विफल रहा. लेकिन अब शहर शांत है. जो भी हुआ वो दुर्भाग्यपूर्ण था.”

इस बीच खबर है कि बीजेपी नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल बुधवार 6 अक्टूबर को कवर्धा पहुंचा और हिंसा में घायल पार्टी कार्यकर्ताओं का हाल जाना. छत्तीसगढ़ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक के नेतृत्व में इस डेलीगेशन ने इलाके का दौरा भी किया.


वीडियो-छत्तीसगढ़ का वो घोटाला, जिसमें रमन सिंह को घेरने वाले CM भूपेश बघेल का दांव उल्टा पड़ गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कौन है दीपक चाहर को क्लीन बोल्ड करने वाली लड़की?

कौन है दीपक चाहर को क्लीन बोल्ड करने वाली लड़की?

मैच के बाद दीपक ने किया प्रपोज.

भारत को हराने पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम को मिलेंगे मुंहमांगे पैसे!

भारत को हराने पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम को मिलेंगे मुंहमांगे पैसे!

T20 वर्ल्ड कप में भारत को हराओ और ब्लैंक चेक पाओ.

IIT Kharagpur के इस छात्र ने नाबालिग स्टूडेंट्स के साथ बहुत घिनौनी हरकत की है!

IIT Kharagpur के इस छात्र ने नाबालिग स्टूडेंट्स के साथ बहुत घिनौनी हरकत की है!

टीचर्स को भी नहीं बख्शा!

चेन्नई को पीटकर राहुल ने बता ही दिया अपना प्लान!

चेन्नई को पीटकर राहुल ने बता ही दिया अपना प्लान!

पंजाब से हारकर क्या बोले धोनी?

साहित्य का नोबेल पाने वाले अब्दुलरजाक गुरनाह कौन हैं?

साहित्य का नोबेल पाने वाले अब्दुलरजाक गुरनाह कौन हैं?

खुद शरणार्थी थे, सो शरणार्थियों पर बहुत कुछ लिखा है.

प्रमोशन में आरक्षण सही या गलत? सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई में केंद्र सरकार ने बता दिया

प्रमोशन में आरक्षण सही या गलत? सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई में केंद्र सरकार ने बता दिया

सुप्रीम कोर्ट ने डेटा मांगा था, सरकार ने पेश कर दिया.

ड्रग्स केस में आर्यन खान को नहीं मिली बेल, मगर अभी जेल नहीं जाएंगे

ड्रग्स केस में आर्यन खान को नहीं मिली बेल, मगर अभी जेल नहीं जाएंगे

आज रात NCB दफ्तर में परिवार वालों से मिलने की मिली इजाज़त.

लखीमपुर हिंसा: आशीष मिश्रा, सुबह 10 बजे क्राइम ब्रांच पहुंच जाओ!

लखीमपुर हिंसा: आशीष मिश्रा, सुबह 10 बजे क्राइम ब्रांच पहुंच जाओ!

यूपी पुलिस ने आशीष मिश्रा के घर के बाहर नोटिस चिपका दिया है.

कश्मीर में फौजियों से ज्यादा आम नागरिकों पर आतंकी हमले, अब प्रिंसिपल-टीचर की हत्या

कश्मीर में फौजियों से ज्यादा आम नागरिकों पर आतंकी हमले, अब प्रिंसिपल-टीचर की हत्या

श्रीनगर के स्कूल में घुसकर आतंकियों ने बरसाईं गोलियां.

मनीष गुप्ता मर्डर केस: होटल का CCTV फुटेज सामने आया और सब साफ हो गया!

मनीष गुप्ता मर्डर केस: होटल का CCTV फुटेज सामने आया और सब साफ हो गया!

पुलिसवालों की हरकत कैद हो गई है.