Submit your post

Follow Us

हॉरर फिल्म 'बुलबुल' की एक्ट्रेस तृप्ति ने बताया कि उन्होंने अपना डर निकालने के लिए क्या किया

तृप्ती डिमरी. नेटफ्लिक्स पर आई हॉरर फिल्म ‘बुलबुल’ की लीड एक्ट्रेस. अनुष्का शर्मा ने इस फिल्म को प्रोड्यूस किया था. तृप्ति ने इस फिल्म में एक बेख़ौफ़ लड़की का किरदार निभाया है. तृप्ति की माने तो हकीकत में वो इससे ऐन उलट थीं. उन्होंने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट लिखी. इस पोस्ट के जरिए बताया कि वह किन-किन चीजों से घबराती थीं, किन-किन चीजों का सामना करने से डरती थीं और कैसे उन्होंने उस डर और घबराहट को दूर किया. ये लम्बी-चौड़ी पोस्ट पोस्ट अंग्रेजी में है, हम आपको हिंदी में बता रहे हैं. देखिए-

मैंने बुलबुल में जो किरदार निभाया है, उससे मैं बिलकुल अलग थी. मैं कभी मुंहफट नहीं थी. वो किरदार बहुत उत्सुक और उत्साही है. पर मैं उसके बिलकुल उलट थी. बहुत शर्मीली थी. मैं कभी स्कूल फंक्शन में भाग लेने के लिए सहज नहीं होती थी. यहां तक कि मैं क्लास में अपने डाउट्स भी क्लीयर नहीं करती थी. क्योंकि सब मुझे देखें, ये मुझे पसंद नहीं था. जब मैं कॉलेज गई, तब कुछ बदला. मुझे एहसास हुआ कि अब दुनिया को फेस करने का समय आ गया है. मैं कॉलेज की एक्टिविटीज़ में ज्यादा से ज्यादा हिस्सा लेने लगी. मॉडलिंग एजेंसी भी जॉइन कर ली. जिसने मेरे लिए कई अवसर के दरवाजे खोल दिए.

मुझे याद है कि मैंने अपना पहला ऑडिशन देने से मना कर दिया था, क्योंकि कैमरे का सामना करने का सोचकर ही मैं डर गई थी. पर मैंने अच्छा किया, सेलेक्ट हुई और मेरी पहली फिल्म ‘पोस्टर बॉय’ बनी. खुद पर कईयों की नज़रें टिकी होने पर असहज होने से लेकर सेट पर घर जैसा फील करने तक, मैंने लंबा सफ़र तय किया है. मैं यहां हूं क्योंकि मैंने अपने डर से लड़नाऔर अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर आना चुना. मैंने खुद पर भरोसा करना चुना और अपनी इनसिक्योरिटीज़ को सुनना बंद किया. मैं अब भी नई परिस्थितियों में घबरा जाती हूं, लड़खड़ाने लगती हूं, लेकिन मुझे पता है कि आप इस डर पर जीत हासिल कर सकते हैं. याद रखिए, डर एक एहसास है और कोई एहसास हमेशा नहीं रहता. लड़ो, भले ही आप हार जाओ. आप हमेशा उठकर जवाब दे सकते हैं. कोशिश कर सकते हैं. मैं खुश हूं कि मैंने लड़ने को चुना.


View this post on Instagram

🌸Growing up, I was extremely different from the character I play in Bulbbul. I was not an extrovert at all! She’s curious and excitable and I was the opposite of it. I was very shy and I never felt comfortable participating in school functions and activities. I even hated getting doubts cleared in class because I didn’t like having all those eyes on me. Something changed when I got to college. I realised it’s time I take to the stage and face the world. I became more involved in college activities and even joined a modelling agency, which turned out to be the door that opened these opportunities for me. I remember putting off giving my first audition because the thought of facing the camera terrified me. Surprisingly, I did well and I got selected, which led to my debut movie ‘Poster Boys’. From being uncomfortable with so many eyes on me to now feeling at home on a set, I’ve come a long way. I am here because I chose to fight my fear and get out of my comfort zone. I chose to trust myself and stopped listening to my insecurities. I’m still nervous in new situations, I still fumble but I now know you can always overcome those fears and give it your all. Remember, fear is just a feeling and no feeling is permanent. Fight it even if you fail. You can always get back up and try again. I’m glad I chose to fight. #Bulbbul @netflix_in @officialcsfilms @anushkasharma @kans26 @anvita_dee @avinashtiwary15 @rahulbose7 @paoli_dam @parambratachattopadhyay @manojmittra @saurabhma @an5hai @siddharthdiwan @itsamittrivedi @rameshwar_s_bhagat @lifaafa_ @veerakapuree @anishjohn83 @rod__sunil @hingoraniharry @keitanyadav @redchillies.vfx @redchillies.color @kyana.emmot @castingbay @ruchi.mahajan1 @buddhadevvarun

A post shared by Tripti Dimri (@tripti_dimri) on

पोस्ट में तृप्ती ने चार फोटो अटैच की हैं. ऊपर की दो तस्वीरें ‘बुलबुल’ की हैं. ऊपर से बांए वाली बचपन की तस्वीर चाइल्ड आर्टिस्ट रुचि महाजन की है, जिन्होंने तृप्ती के बचपन का किरदार फिल्म में निभाया है. और दूसरी खुद तृप्ती हैं. वहीं, नीचे की दोनों तस्वीर तृप्ती की हैं. एक उनके बचपन की और दूसरी अभी की. ये फिल्म आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.


वीडियो देखें : फिल्म रिव्यू: हॉरर फिल्मों की दुनिया में नई पेशकश ‘बुलबुल’, कितनी नई है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.