Submit your post

Follow Us

PM CARES पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने जो आदेश किया, उससे मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ जाएंगी

कोरोना वायरस के चलते पीएम नरेंद्र मोदी ने फंड की घोषणा की थी. इसका नाम है PM CARES फंड. इसके हिसाब-किताब और काम को लेकर काफी समय से हल्ला मचा हुआ है. इसी कड़ी में बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच ने PM CARES फंड को लेकर नोटिस जारी किया है. नोटिस केंद्र सरकार और फंड के ट्रस्टियों को भेजा गया है. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार, कोर्ट ने पूछा है कि फंड में कितने पैसे जमा हुए और कितने खर्च किए गए हैं. कोर्ट ने यह आदेश नागपुर के वकील अरविंद वाघमारे की याचिका पर दिया.

याचिका में क्या कहा गया?

याचिका में वकील अरविंद वाघमारे ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी PM CARES फंड के लिए बने ट्रस्ट के चेयरपर्सन हैं. गृह, वित्त और रक्षा मंत्री इसके सदस्य हैं. यह फंड कोरोना वायरस के चलते हुई समस्या से निपटने के लिए बनाया गया. इसके जरिए लोगों की मदद करने की बात कही गई थी. फंड बनाते समय कहा गया था कि तीन प्रतिष्ठित लोगों को बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज के लिए नॉमिनेट किया जाएगा. लेकिन अभी तक इनकी नियुक्ति नहीं हुई. लेकिन फिर भी करोड़ों रुपये का डोनेशन लिया गया.

वकील वाघमारे ने कहा कि इस फंड में जितना भी पैसा जमा हुआ है, उसकी जानकारी सरकार वेबसाइट पर दे. जिससे कि आम लोग इसे देख सकें. साथ ही PM CARES फंड के हिसाब-किताब की जांच भी की जाए. जांच का जिम्मा भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक यानी CAG को दिया जाए. साथ ही फंड के लिए बने ट्रस्ट में दो सदस्य विपक्षी दलों से भी होने चाहिए.

सरकार ने क्या दलील दी?

याचिका पर सुनवाई के दौरान भारत सरकार ने भी जवाब दिया. सरकार की ओर से एडिशनल सॉलिसीटर जनरल अनिल सिंह पेश हुए. उन्होंने फंड की जांच कराने का विरोध किया. साथ ही याचिका को खारिज करने की अपील भी की. उन्होंने कोर्ट को बताया कि अप्रैल में सुप्रीम कोर्ट ने इसी तरह की याचिका को खारिज कर दिया था.

कोर्ट ने नहीं मानी सरकार की बात

लेकिन जस्टिस एसबी शुक्रे और जस्टिस एएस किलोर की बैंच ने सरकार की दलील को नहीं माना. और आदेश दिया कि सरकार दो सप्ताह के अंदर याचिका के जवाब में एफिडेविट दाखिल करे. इसमें सरकार अपना पक्ष लिख सकती है.

RTI में भी नहीं दी थी PM-CARES की जानकारी

PM-CARES फंड को लेकर सरकार ने पिछले दिनों आरटीआई के तहत सूचना देने से भी इनकार किया था. प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा था कि RTI ऐक्ट, 2005 के तहत ये फंड पब्लिक अथॉरिटी नहीं है.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: PM CARES फंड को लेकर RTI के जवाब में PMO ने कहा- फंड पब्लिक अथॉरिटी नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.