Submit your post

Follow Us

कांग्रेस कर्नाटक-कर्नाटक करती रही, उधर गोवा में खेल हो गया

140
शेयर्स

10 जुलाई 2019. भारत और न्यूजीलैंड के बीच बेहद रोमांचक सेमी फ़ाइनल चल रहा था. 48वें ओवर की तीसरी बॉल पर महेंद्र सिंह धोनी एक खराब शॉट के बाद दूसरा रन लेने दौड़े रहे थे ताकि स्ट्राइक अपने पास रख सकें. मार्टिन गप्टिल के हाथ से गोली की तरह निकली गेंद सीधा जाकर स्टंप के उपरी सिरे पर लगी. गिल्लियों के हवा में लहराने के साथ ही भारत की सारी उम्मीदों पर पानी फिर गया. पूरे देश में मातम का माहौल था. लेकिन दिल्ली के अकबर रोड स्थित कांग्रेस के केंद्रीय कार्यालय में मातम का बायस कुछ और ही था. 1833 किलोमीटर दूर गोवा से एक बुरी खबर अभी-अभी कांग्रेस कार्यालय पहुंची थी.

कर्नाटक की गठबंधन सरकार बचाने की कवायद में डीके शिवकुमार मुंबई में पुलिस से जूझ रहे थे और गोवा कांग्रेस में नई बगावत खड़ी हो गई. गोवा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चंद्रकांत कवलेकर इस बगावत के नेता थे और अपने साथ 9 दूसरे विधायकों के साथ विधानसभा अध्यक्ष राजेश पाटनेकर के दफ्तर के बाहर खड़े थे. इन दसों विधायकों के हाथ में अपना इस्तीफ़ा था. इसमें अतानासियो मोन्सेराते भी शामिल थे जोकि कुछ ही दिन पहले पंजिम सीट पर हुए उपचुनाव में जीतकर आए थे. मनोहर पर्रीकर के देहांत के खाली हुई यह सीट बीजेपी के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गई थी. पर्रीकर 1993 से लगातार यहां से चुनाव जीतते आए थे.

2017 की फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सूबे की सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी. 40 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस को सबसे ज्यादा 17 सीट हासिल हुई थीं. वहीं सत्ताधारी बीजेपी का आंकड़ा 13 पर रुक गया था. महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी की 3 सीटों के समर्थन के साथ एनडीए की गिनती 16 पर थी. बीजेपी ने 3 सीटों वाली गोवा फॉरवर्ड पार्टी समर्थन हासिल किया, कांग्रेस के दो विधायक तोड़े और सरकार बना ली. 15 विधायकों के साथ कांग्रेस विपक्ष में बैठी हुई थी.

गोवा और कर्नाटक में चल रही जोड़-तोड़ के खिलाफ प्रदर्शन करते राहुल और सोनिया गांधी.
गोवा और कर्नाटक में चल रही जोड़-तोड़ के खिलाफ प्रदर्शन करते राहुल और सोनिया गांधी.

चंद्रकांत कवलेकर ने कांग्रेस छोड़ने के बारे में सफाई देते हुए कहा, “हर आदमी चाहता है कांग्रेस सत्ता में आए. लेकिन हम लोग लम्बे समय से सत्ता से बाहर हैं. ऐसे में हमारे विधानसभा क्षेत्र में विकास का काम रुका हुआ है. ऐसे में हमारे सामने पाला बदलने के अलावा कोई और रास्ता नहीं था.”

17 सीटें लाने वाली कांग्रेस के पास अब सदन में महज पांच सीटें बची हैं. इनमे से चार लोग विधायक गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री हैं. कांग्रेस के दसों विधायकों के इस्तीफे विधानसभा अध्यक्ष ने स्वीकार कर लिए हैं. 2004 के दल-बदल कानून के मुताबिक अगर किसी दल के दो-तिहाई सदस्य पार्टी छोड़कर दूसरे दल में शामिल हो जाते हैं तो उनकी सदस्यता रद्द नहीं होती है. ऐसे में इन विधायकों के बीजेपी में चले जाने पर भी सदस्यता पर कोई आंच आती नहीं दिख रही है.

गोवा में कुल 12 मंत्री हैं. इसमें से पांच मंत्रालय सहयोगियों के पास हैं. कहा जा रहा है कि गोवा में जल्द ही मंत्रिमंडल में बदलाव होंगे. सहयोगी पार्टी गोवा फॉरवर्ड पार्टी को अपने दो मंत्रालयों से हाथ धोना पड़ सकता है. कांग्रेस में हुई बगावत के बाद 40 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी का आंकड़ा 27 पर पहुंच गया है.

कांग्रेस को लगे इस झटके के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गिरीश चोदनकर का कहना है कि पार्टी जमीन पर जाने के लिए कमर कस रही है. प्रदेश की जनता सब देख रही है. बीजेपी ने सत्ता हथियाने के लिए जो अनैतिक हथकंडे अपनाए हैं उसकी सजा जनता उन्हें जरुर देगी. गिरीश चोदनकर भले ही जनता के बीच जाने की बात कह रहे हों लेकिन सच तो यह है कि जोड़-तोड़ की राजनीति में वो बीजेपी के सामने फिसड्डी साबित हुई है. कर्नाटक में डीके शिवकुमार आखिरी योद्धा की तरह बीजेपी के तख्तापलट के सामने खड़े हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस पस्त और कन्फ्यूज्ड नजर आ रही है.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
BJP strikes on Congress in Goa after Karnataka, 10 Congress MLA joins BJP

टॉप खबर

कहानी भारत के अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 की, जिसे दुनिया का कोई भी देश इतने सस्ते में नहीं बना पाया

एंड गेम में मारवेल ने जितने पैसे खर्च करके थानोस को मारा, उतने में तो भारत दो बार चांद पर पहुंच जाएगा.

मदरसे में मिला देसी कट्टा, जानिए क्या होता था

और अफवाहों पर बवाल हो गया

बच्चों के बलात्कार पर अब होगी फांसी, मोदी सरकार का फैसला

बहुत दिनों से बात चल रही थी, अब काम होगा!

भाजपा विधायक की बेटी ने दलित से शादी की तो बाप ने मरवाने के लिए गुंडे भेज दिए!

पति और पत्नी भागे-भागे वीडियो बना रहे हैं.

एक महीने से छात्र धरने पर हैं, किसी को परवाह नहीं

ये खबर हर स्टूडेंट को पढ़नी चाहिए.

बजट में सरकार ने अमीरों पर बंपर टैक्स लगाया

पेट्रोल-डीज़ल पर एक रुपया अतिरिक्त लेगी सरकार.

राहुल गांधी के पत्र की चार ख़ास बातें, तीसरी वाली में सारे देश की दिलचस्पी है

आज राहुल गांधी ने आखिरकार इस्तीफा दे ही दिया.

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

"अफ़सोस! दिल से माफ़ नहीं कर पाएंगे."

नुसरत जहां के खिलाफ़ जिस फतवे पर बवाल मचा, वैसा फ़तवा जारी ही नहीं हुआ

निखिल से शादी के बाद सिन्दूर-साड़ी में संसद पहुंची थीं नुसरत

क्या ज़ायरा ने इस्लाम के लिए फ़िल्म लाइन छोड़ दी?

जिन चीज़ों से रील लाइफ में लड़कर सुपर स्टार बनीं, निजी ज़िंदगी में वो लड़ाई ही छोड़ दी है.