Submit your post

Follow Us

PM मोदी की मौजूदगी में कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन के वक्त तिरंगे पर BJP का झंडा रख दिया गया!

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और बीजेपी के बड़े नेता रहे कल्याण सिंह (Kalyan Singh) का सोमवार 23 अगस्त को अंतिम संस्कार किया जाएगा. लेकिन उससे पहले कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन से जुड़ी एक तस्वीर पर बवाल शुरू हो गया है. हंगामा इस बात पर बरपा है कि कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर पर रखे गए राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) के ऊपर BJP ने अपना झंडा रख दिया. बवाल इसलिए भी बढ़ा क्योंकि जिस वक्त तिरंगे पर BJP का झंडा रखा गया, उस समय खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर के पास मौजूद थे. ऊपर तस्वीर में आप देख सकते हैं.

इसी को लेकर सियासी बयानबाज़ी जोरों पर है. टीएमसी, कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के नेताओं ने BJP पर हमला बोलते हुए सवाल खड़े किए हैं. कहा है कि तिरंगे पर अपना झंडा रखकर BJP ने राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया है.

सवाल उठता है कि क्या वाकई में कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए तिरंगे से जुड़े नियम-कायदे का पालन नहीं किया गया? बात करेंगे कि किसी के पार्थिव शरीर पर तिरंगा डालने के बारे में झंडा संहिता में क्या कहा गया है.

मामला क्या है?

बीती 21 अगस्त की देर रात कल्याण सिंह ने अंतिम सांस ली. इसके बाद उनके पार्थिव शरीर को तिरंगे में लपेटकर लखनऊ स्थित उनके आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया. लेकिन बाद में उनके पैर की ओर बीजेपी का भी झंडा रख दिया गया. लखनऊ के अखबारों में बताया गया है कि ऐसा कल्याण सिंह की आखिरी इच्छा की वजह से किया गया. रिपोर्टों के मुताबिक, कल्याण सिंह चाहते थे कि जब वे इस दुनिया से जाएं तो उनके शरीर पर BJP का झंडा लगा दिया जाए.

विपक्षी दलों ने बीजेपी पर निशाना साधा

उधर, तिरंगे के ऊपर बीजेपी का झंडा देख सोशल मीडिया पर बवाल शुरू हो गया. लोग इसे नियमों का उल्लंघन और देशभक्ति से जोड़ कर देखने लगे. विपक्षी दलों ने भी इस मामले पर प्रतिक्रिया दी. तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद सुखेंदु शेखर रॉय ने कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन वाली तस्वीर ट्वीट की और लिखा,

”राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करना क्या मातृभूमि का सम्मान करने का नया तरीका है?

रॉय ने जो तस्वीर शेयर की है, उसमें बीजेपी के कई नेता नजर आ रहे हैं. इनमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, यूपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह अंतिम दर्शन करते हुए दिख रहे हैं. कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी बीजेपी झंडे को राष्ट्रीय ध्वज पर रखे जाने को लेकर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा,

“एक ने राष्ट्रीय गान गाते वक्त सीने पर हाथ रखने के लिए मेरे ऊपर केस किया और 4 साल तक लड़ा. मेरी समझ में अब देश को बताना चाहिए कि सत्ताधारी पार्टी इस बेइज्ज्ती के बारे में क्या सोचती है.”

 

वहीं, असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के सांसद इम्तियाज़ जलील ने ट्वीट किया,

“कोई दूसरा झंडा तिरंगे से ऊपर नहीं रखा जा सकता. कैसे बीजेपी के झंडे को हमारे तिरंगे के ऊपर रखा जा सकता है. ये एक देश विरोधी काम है.”

झंडे को लेकर नियम कायदा क्या कहता है?

झंडे को फहराने से लेकर दूसरी जगहों पर या कामों में इसके इस्तेमाल को लेकर नियम-कायदे बनाए गए हैं. भारतीय झंडा संहिता 2002 में इन्हें तफ्सील से बताया गया है. किसी झंडे को फहराते वक्त और शव पर डालते वक्त कैसे इस्तेमाल करना है, इसके बारे में भी साफ बताया गया है.

झंडे को फहराने के नियम का उल्लेख भारतीय झंडा संहिता के भाग 2 की धारा 2.2 में लिखा है. इसके अनुसार,

“किसी भी दूसरे झंडे या पताका को राष्ट्रीय झंडे से ऊंचा या उससे ऊपर या उसके बराबर नहीं लगाया जाए. न ही पुष्प, माला, प्रतीक या अन्य उसके ध्वज दंड के ऊपर रखे जाएं.”

इस नियम से साफ होता है कि राष्ट्र ध्वज के रहते किसी और चीज को ज्यादा महत्व नहीं दिया जा सकता. उसके ऊपर रखना तो दूर की बात, उसके बराबर भी कोई और झंडा नहीं लगाया जा सकता.

बहरहाल, इसी तरह शव पर राष्ट्रीय झंडा रखने के नियम संहिता के भाग 2 की धारा 11 में लिखे गए हैं. इसके अनुसार,

“राजकीय/सैनिक/केंद्रीय अर्द्ध सैनिक बलों के सम्मान में अंत्येष्टि के अवसरों पर अर्थी या शवपेटिका झंडे से ढक दी जाएगी. उस वक्त झंडे का केसरिया भाग अर्थी या शवपेटिका के आगे की तरफ होगा. झंडे को कब्र में दफनाया या चिता में जलाया नहीं जा सकता.”

Flag Rules Regulations
झंडे को लेकर बनी भारतीय झंडा संहिता से ये साफ है कि कोई भी ध्वज राष्ट्रध्वज से ऊपर नहीं हो सकता.
(फोटो-भारतीय झंडा संहिता 2002 से)

तिरंगे के अपमान पर सजा कितनी है?

प्रिवेंशन ऑफ इंसल्ट्स टु नैशनल ऑनर ऐक्ट 1971 के तहत राष्ट्रीय झंडे और संविधान का अपमान करना दंडनीय अपराध है. ऐसा करने वाले को 3 साल तक की जेल या जुर्माना या फिर दोनों हो सकते हैं. इसी तरह, राष्ट्रगान को जानबूझकर रोकने या राष्ट्रगान गाने के लिए जमा हुए लोगों के लिए बाधा खड़ी करने पर अधिकतम 3 साल की सजा दी जा सकती है. इसके साथ जुर्माना भरने का भी आदेश दिया जा सकता है.

ये भी पढ़ेंदेश की आन-बान-शान है तिरंगा, क्या आप जानते हैं इससे जुड़ी ये बातें


वीडियो – तिरंगा फहराने का नियम और उसका इतिहास क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.