Submit your post

Follow Us

असम-मेघालय सीमा पर नया बवाल हो गया, दोनों राज्यों की पुलिस आमने-सामने है

पूर्वोत्तर भारत में सीमा विवाद का मुद्दा फिर गर्माता दिख रहा है. इस बार मेघालय का असम से टकराव देखने को मिला है. बुधवार 25 अगस्त को इसकी साफ तस्वीर देखने को मिली. इंडिया टुडे/आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक, असम-मेघालय सीमा के पास आम लोगों के बीच तो टकराव हुआ ही है, साथ में दोनों राज्यों की पुलिस भी आमने-सामने आ गई है. हंगामे के बीच एक पुलिसकर्मी के घायल होने की भी खबर है. इस संघर्ष की तस्वीरें और वीडियो भी सामने आए हैं.

क्या है पूरा मामला?

इंडिया टुडे के रिपोर्टर हेमंत कुमार नाथ के मुताबिक, 23 अगस्त की रात को अंतरराज्यीय सीमा पर असम पुलिस की एक टीम ने कथित तौर पर मेघालय के री-भोई जिले के तीन युवकों को पीटा था. रिपोर्ट में बताया गया है कि इसकी प्रतिक्रिया में 24 अगस्त को मेघालय के लोगों के एक समूह ने कथित रूप से असम के एक पुलिस चेक पोस्ट को क्षतिग्रस्त कर दिया. ये चेक पोस्ट उमलापर इलाके में स्थित है.

इसके बाद बुधवार 25 अगस्त की रात को हालात एक बार फिर तनावपूर्ण हुए. इस दिन मेघालय से कोई 100 लोगों का समूह और वहां की पुलिस मंगलवार की घटना पर मीटिंग की मांग को लेकर असम में घुस आए.

Untitled Design (80)
असम पुलिस का दावा है कि स्थानीय नागरिकों के साथ मिलकर उन्होंने मेघालय के लोगों व पुलिस को वापस भेज दिया था. लेकिन इसके कुछ घण्टे बाद मेघालय पुलिस की एक टीम फिर से लौट आई. (फोटो: साभार इंडिया टुडे)

हेमंत कुमार नाथ के मुताबिक, असम के पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अजगवारन बसुमतारी ने घटना के बारे में बताते हुए कहा,

“स्थिति नाजुक होने के कारण असम के कुछ लोग भी मौके पर इकट्ठा हो गए, जिसके बाद उन्होंने पुलिस के साथ मिलकर मेघालय के नागरिकों और पुलिस को वापस भेजा. लेकिन कुछ घंटे बाद ही मेघालय पुलिस की एक टीम असम में 15 किलोमीटर अंदर तक घुस आई. इसके बाद असम के स्थानीय नागरिकों और मेघालय पुलिस के बीच धक्का मुक्की हुई. हालांकि बाद में मेघालय पुलिस को वापस भेज दिया गया. इसके बाद से स्थिति नियंत्रण में है.”

वहीं दूसरी तरफ असम के री-भोई जिले की पुलिस ने दावा किया है कि जब असम और मेघालय के लोग विवादित क्षेत्र पर आमने सामने आ गए थे, तब उनको नियंत्रित करते हुए एक पुलिस अधिकारी घायल हो गया.

सुलह को लेकर हुई थी बैठक

असम और मेघालय के बीच अंतरराज्यीय सीमा विवाद (Assam-Meghalaya border dispute) को सुलझाने को लेकर दो दौर की उच्चस्तरीय बैठकें हो चुकी हैं. ये मीटिंग शिलांग और गुवाहाटी में हुई थीं.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, बीती 6 अगस्त को गुवाहाटी में हुई बैठक में असम और मेघालय सरकार ने विवाद को चरणबद्ध तरीके से हल करने का निर्णय लिया था. बैठक में तय किया गया था कि दोनों राज्यों के कैबिनेट मंत्रियों की अध्यक्षता में तीन समितियां गठित की जाएंगी. वहीं, 12 विवादित क्षेत्रों में से 6 क्षेत्रों के विवाद को प्राथमिकता देते हुए निपटाया जाएगा.

Untitled Design (79)
असम व मेघालय के बीच मुख्यमंत्री स्तर की बातचीत से मामला सुलझाने की कवायद शुरु की गई. दोनों मुख्यमंत्रियों ने सुलह का एक फॉर्मूला पेश किया, जिस पर काम शुरू कर दिया गया है. (फोटो: साभार इंडिया टुडे)

असम के मुख्यमंत्री हेमंता बिस्वा सरमा और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा था कि दोनों राज्यों ने कैबिनेट मंत्रियों की अध्यक्षता में प्रत्येक पक्ष से तीन समितियां बनाने का फैसला किया है. ये समितियां उन 6 क्षेत्रों का दौरा करेंगी, जिनके विवाद को प्राथमिक रूप से निपटाना है. समितियां 30 दिनों के भीतर-भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी.

ये हैं प्राथमिकता वाले 6 क्षेत्र

जिन 6 क्षेत्रों का विवाद सुलझाया जा रहा है उनके नाम हैं ताराबारी, गिज़ांग, फहाला, बकलापारा, खानापारा (पिलिंगकाटा) और रातचेरा. ये क्षेत्र असम के कछार, कामरूप और कामरूप मेट्रोपॉलिटन जिलों में पड़ते हैं. जबकि मेघालय के पश्चिम खासी हिल्स, री-भोई और पूर्वी जयंतिया हिल्स के अंतर्गत आते हैं.

(ये स्टोरी हमारे यहां इंटर्नशिप कर रहे रौनक भैड़ा ने लिखी है.)


वीडियो- असम के मुख्यमंत्री के विवादित होर्डिंग्स पर एक न्यूज़ पोर्टल ने वीडियो स्टोरी की और केस हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?