Submit your post

Follow Us

मथुरा: रामवृक्ष यादव के गुंडों ने SP-SHO को मार डाला, कुल 22 की मौत

572
शेयर्स

मथुरा में भारी बवाल हो गया है. 280 एकड़ सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटवाना सरकार को महंगा पड़ा. गुरुवार को कब्जा हटवाने गई पुलिस टीम से मार मच गई, जिसमें शहर के दो बड़े पुलिस अफसरों SP मुकुल त्रिवेदी और SHO संतोष कुमार समेत 24 लोगों की मौत हो गई.  कई गंभीर रूप से घायल हैं. CM ऑफिस ने SHO संतोष कुमार की फैमिली को 20 लाख रुपए की मदद का ऐलान किया है.

23 पुलिस वाले अस्पताल में भर्ती हैं. इनमें कुछ को गोली लगी है और कुछ को लाठी-डंडे से चोट लगी है. पुलिस के मुताबिक, इस घटना में कुल 22 उपद्रवियों की मौत हुई है. DGP नवीद के मुताबिक, 11 उपद्रवी अपनी ही झोपड़ियों में विस्फोट और 11 पुलिस के लाठी चार्ज में मारे गए.

एसपी मुकुल द्विवेदी इस ऑपरेशन की अगुवाई कर रहे थे. उन्हें सिर में पत्थर लगा. खबरों के मुताबिक, अस्पताल में तीन हार्ट अटैक के बाद उनकी मौत हो गई. संतोष कुमार यादव को सिर में गोली लगी.

sp
शहीद SP मुकुल त्रिवेदी

 

शहीद SHO संतोष कुमार
शहीद SHO संतोष कुमार

कब्जा करने वाले ग्रुप की कुंडली

जवाहर पार्क है इस जगह का नाम. जिस पर ‘आजाद भारत विधिक वैचारिक सत्याग्रही’ ग्रुप ने कब्जा किया हुआ है. धरने के बहाने. और आज से नहीं, 11 जनवरी 2014 से वहां धरना चल रहा है. अफसर बताते हैं कि रामवृक्ष यादव इस पूरे मथुरा में बवाल के मामले में गुड़ का बाप कोल्हू है. उसी ने पुलिस पर हमले के लिए भी लोगों को भड़काया. 2500 जनों ने मिलकर ये जगह कब्जियाई हुई थी.  270 एकड़ के प्लॉट पर इन फर्जी सत्याग्रहियों ने दो साल से सैकड़ों झोपड़ियां बनाकर कब्जा कर रखा था. कब्जेदारों ने बड़े हमले के लिए पुलिस टीम तैयार नहीं थी. उन्हें पीछे हटना पड़ा. बाद में एक हजार पुलिस वालों ने नए सिरे से हमला किया और ऑपरेशन खत्म किया.

पुलिस वाले कहते तो हैं कि इन सबके पीछे कोई नेता-वेता का हाथ नहीं है. लेकिन लोकल लोगों की खुसफुसी पर जाएं तो समाजवादी पार्टी के नेताओं से कॉन्टैक्ट रखते थे, उनका प्रश्रय मिला था इनको.

‘स्वाधीन भारतीय सुभाष सेना’ इसी ग्रुप का नाम है. कहते हैं आजाद भारत नाम का ये ग्रुप नेताजी सुभाष चंद्र बोस के आदर्शों पर चल रहा है. उनकी आजाद हिंद फौज से इंस्पायर होकर ये ग्रुप बना है. इनकी मान्यता है कि मथुरा में जो बाबा जयगुरुदेव रहा करते थे वही नेताजी सुभाषचंद्र बोस थे.

इनकी मांगे कितनी वैचारिक हैं, देखें.

1: राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का चुनाव रद्द किया जाए
2: पेट्रोल का रेट एक रुपए प्रति 60 लीटर किया जाए
3: डीजल का रेट एक रुपए में 40 लीटर किया जाए
4: भारत की वर्तमान मुद्रा बदल दी जाए
5: गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाए.

जब पुलिस की टीम पर हमला कर दिया

पिछले दो महीने से तैयारी चल रही है वो जमीन खाली कराने की. गुरुवार को सिटी SP पुलिस की टीम लेकर वहां गए. उस टीम पर ग्रुप के लोगों ने पत्थर से हमला कर दिया. थोड़ी देर बाद गोली भी चलने लगी. तब पुलिस को भी फायरिंग करनी पड़ी.

उपद्रवियों का नेता रामवृक्ष यादव फरार

खबरों के मुताबिक, पुलिस टीम को फायरिंग की आशंका नहीं थी. कब्जेदारों का सामना करने के लिए अफसरों ने हाथों में डंडा लिए ट्रेनी सिपाहियों को आगे कर दिया. जो हालात से निपटने में नाकाम रहे. उनके हाथों में सिर्फ डंडे थे. जब बात बिगड़ी, तब अधिकारी आगे आए.

खैर ऑपरेशन पूरा हुआ. जमीन खाली हो गई. तमाम हथियारों का जखीरा बरामद किया गया. 45 ठो 315 बोर के देसी कट्टे,  5 राइफल 315 बोर की, 2 कट्टे 312 बोर के, और ढेरों कारतूस मिली है. यूपी डीजीपी जावीद अहमद ने बताया कि कब्जेदारों ने अपनी झोपड़ियों में आग लगा दी और इन झोपड़ियों में गैस सिलेंडर और विस्फोटक थे. उपद्रवियों का नेता रामवृक्ष यादव फरार हो गया है. उस पर नेशनल सिक्योरिटी एक्ट लगेगा.

सवाल ये भी है कि बीते दो साल में लगातार अपनी संख्या और सामर्थ्य बढ़ाने में जुटे ये लोग प्रशासन की निगाह से कैसे बचते रहे. जबकि साफ था कि इन्होंने प्रशासन से सिर्फ पांच दिन की मोहलत मांगी थी. वो पांच दिन 760 दिन से ज्यादा हो गए लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया और जब करने पहुंची भी तो बिना तैयारी के. जिसका नतीजा भारी रक्तपात और पुलिस वालों की मौत है.

लेकिन हेमा मालिनी बेखबर रहीं?

मथुरा जल रहा है, लेकिन सांसद हेमामालिनी अपने संसदीय क्षेत्र से दूर हैं. वह मुंबई के मड आईलैंड में शूटिंग में बिजी हैं. फिल्म का नाम है, ‘एक थी रानी.’ घटना गुरुवार की है, लेकिन शुक्रवार सुबह 11 बजे तक हेमा मालिनी को इसकी खबर ही नहीं थी. वह 11 बजे तक अपनी शूटिंग की तस्वीरें ट्विटर पर अपलोड कर रही थीं. उन्होंने लिखा था, ‘इस फिल्म के जल्द रिलीज होने की उम्मीद.’

https://twitter.com/SmokingSkills_/status/738614390673440769

लेकिन देर-सवेर उन्हें घटना का पता लगा तो उन्होंने ये तस्वीरें डिलीट कर लीं. इसके बाद उन्होंने चार ट्वीट किए. मृतक पुलिस वालों को श्रद्धांजलि दी और कहा कि जरूरत पड़ी तो वहां जरूर जाऊंगी. रिपीट, ‘जरूरत पड़ी तो जरूर जाऊंगी.’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

अयोध्या भूमि विवादः सुप्रीम कोर्ट शनिवार को सुनाएगा फैसला

16 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट में पूरी हुई थी सुनवाई.

क्यों इस 'जादुई' महुए के पेड़ से लोग लिपटे जा रहे हैं?

रात में भी लंबी लाइन लगाकर खड़े हैं लोग.

BJP को लेकर रजनीकांत ने जो बात कही वो पीएम मोदी को चुभ सकती है

सवाल ये था कि क्या वो BJP जॉइन करेंगे?

अजय देवगन उन डायरेक्टर भाईयों पर फिल्म बना रहे हैं जो आत्माओं से डराकर आत्मा कंपा देते थे

इतनी हॉरर फिल्में बनाईं जितनी किसी और डायरेक्टर ने सोची भी नहीं होंगी.

महाराष्ट्र में शिवसेना या BJP, दोनों में झूठ कौन बोल रहा है?

देवेंद्र फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है.

गैर-हिंदू को असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त किया तो धरने पर बैठ गए BHU के छात्र

'सर्व विद्या की राजधानी' में ये क्या हो रहा है?

विराट और रोहित दोनों की कप्तानी में खेल चुका ये क्रिकेटर फिक्सिंग में फंस गया है

धड़ाधड़ गिरफ्तारी हो रही है.

बाराबंकी में वकीलों ने जज को पीटा, कहा- 'आज हड़ताल है, तुम्हें बड़ा काम करना है'

50 वकील कार्यालय में घुसे और पीट दिया.

राधा स्वामी वाले गुरु के पूरे परिवार ने बहानों की झड़ी लगा दी, ताकि कोर्ट न जाना पड़े!

किसी की सर्जरी, किसी का सत्संग, कोई पहले से ही विदेश में...

लंदन में वो मुलाकात न हुई होती तो KBC में कभी नज़र नहीं आते अमिताभ बच्चन

शो के क्रिएटिव गुरु सिद्धार्थ बसु ने बताया पूरा किस्सा.