Submit your post

Follow Us

चेन्नई से बिहार पैदल जा रहे मजदूरों के आगे 'कार नंबर 1' रुकी और उनकी मुराद पूरी हो गई!

लाखों प्रवासी मजदूर पैदल ही हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर रहे हैं, ताकि घर पहुंच सकें. हर दिन सोशल मीडिया और मीडिया में ऐसी तस्वीरें और वीडियो आ रहे हैं, जो रुला देने वाले हैं. हालांकि केंद्र सरकार और राज्य सरकारों का दावा है कि मजदूरों के घर लौटने के लिए ट्रेन और बसें चलाई जा रही हैं. लेकिन सबको ये सुविधा नसीब नहीं हो रही है.

आंध्र प्रदेश में फंसे प्रवासी मजदूर भी ट्रेन और बस नहीं मिलने के कारण पैदल ही अपने घर की ओर निकल पड़े हैं. 15 मई को कुछ मजदूर पैदल ही हजारों किलोमीटर दूर घर जा रहे थे. चेन्नई-कोलकाता हाइवे पर इनकी मुलाकात आंध्र प्रदेश की चीफ सेक्रेटरी नीलम साहनी से हुई. उन्होंने इन मजदूरों के घर जाने और खाने-पीने का इंतजाम किया.

सीएम से मुलाकात के बाद वापस लौट रही चीफ सेक्रेटरी ने हाइवे पर मजूदरों को देखा तो अपनी कार रोक दी. (फोटो-इंडिया टुडे)
सीएम से मुलाकात के बाद वापस लौट रही चीफ सेक्रेटरी ने हाइवे पर मजूदरों को देखा तो अपनी कार रोक दी. (फोटो-इंडिया टुडे)

क्या है मामला?

हर दिन की तरह आंध्र प्रदेश की चीफ सेक्रेटरी नीलम साहनी सीएम जगनमोहन रेड्डी से मीटिंग के लिए उनके घर गई थीं. मीटिंग खत्म करने के बाद वो लौट रही थीं. रास्ते में उन्होंने देखा कि प्रवासी मजदूरों का एक ग्रुप चेन्नई को कोलकाता से जोड़ने वाले हाइवे पर पैदल ही चला जा रहा है. उन्होंने अपनी सिक्योरिटी को काफिला रोकने को कहा. कार से उतरीं और बिना अपनी पहचान उजागर किए उन्होंने मजदूरों से बात की. उनकी समस्या सुनी.

चेन्नई को कोलकाता से जोड़ने हाइवे पर चीफ सेक्रेटरी की मुलाकात मजदूरों से हुई थी.
चेन्नई को कोलकाता से जोड़ने हाइवे पर चीफ सेक्रेटरी की मुलाकात मजदूरों से हुई थी.

मजदूरों ने बताया कि पैसा खत्म हो गया है, इसलिए वो पैदल ही चेन्नई से बिहार जा रहे हैं. ये जानने के बाद उन्होंने तुरंत गुंटूर जिले के संयुक्त कलेक्टर और कृष्णा जिले के कलेक्टर को श्रमिकों के घर जाने और उनके खाने-पीने की व्यवस्था करने को कहा. उन्होंने ये भी आदेश दिया कि अगली ट्रेन से इन मजदूरों को बिहार भेजा जाए.

चीफ सेक्रेटरी के दखल के बाद मजदूर ट्रेनों से अपने घर जा सकेंगे.
चीफ सेक्रेटरी के दखल के बाद मजदूर ट्रेनों से अपने घर जा सकेंगे.

आईएएस अधिकारी नीलम साहनी नवंबर में आंध्र प्रदेश की मुख्य सचिव बनी थीं.  वह विभाजित आंध्र प्रदेश की पहली महिला मुख्य सचिव हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सीएम ने उनके कार्यकाल को बढ़ाने की मांग केंद्र से की है. 1984 बैच की आईएएस अधिकारी नीलम इससे पहले सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग के सचिव पद पर तैनात थीं. नीलम के पति अजय साहनी भी आईएएस अधिकारी हैं.


दिल्ली के निजामुद्दीन ब्रिज पर बैठे मजदूर की कहानी आपको रुला देगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.

अपने भाषण में नरेंद्र मोदी ने अगले लॉकडाउन के बारे में ये हिंट दे दिया है

मोदी के 34 मिनट के भाषण में काम की बात क्या थी?

ट्रेन के बाद अब फ़्लाइट शुरू होगी तो यात्रा के क्या नियम होंगे?

केबिन लगेज, जांच और बैठने की व्यवस्था को लेकर क्या नियम हैं?

गुजरात: CM बदलने की संभावना पर खबर चलाई, पुलिस ने राजद्रोह का केस लिख लिया

इस मामले में गुजरात सरकार की किरकिरी हो रही है.

किसी को सही-सही पता ही नहीं कि दिल्ली में कोरोना से कितनी मौतें हुईं!

सरकार और नगर निगम के आंकड़े अलग-अलग.