Submit your post

Follow Us

दो दर्जन जवानों की जान लेने वाले नक्सली अब ये कैसा बेतुका लॉजिक दे रहे?

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में शनिवार 3 अप्रैल को इस साल का सबसे बड़ा नक्सली हमला हुआ. 22 जवान शहीद हो गए. 31 जवान घायल भी हुए. हमले के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बयान दिया कि नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक दौर में आ गई है. नक्सलियों से सख्ती से निपटा जाएगा. इस बयान के बाद अब नक्सलियों ने चिट्ठी लिखकर उल्टा अमित शाह पर ही असंवैधानिक काम करने का आरोप मढ़ दिया है. आइए जानते हैं कि नक्सलियों ने चिट्ठी में क्या लिखा है.

‘बदला लेना असंवैधानिक’

सीपीआई (माओवादी) नक्सलियों का संगठन है. भारत सरकार ने इसे प्रतिबंधित कर रखा है. सोमवार 5 अप्रैल को सीपीआई (माओवादी) की केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने एक प्रेस नोट जारी किया. इसमें नक्सलियों के हिंसक हमलों को सही ठहराने की कोशिश की गई. न सिर्फ नक्सलवादी घटनाओं को बढ़ाने बल्कि सरकार के एक्शन पर भी बातें लिखी गईं. गृहमंत्री अमित शाह के बयान का जिक्र करते हुए लिखा गया-

अमित शाह देश के गृहमंत्री होने के बावजूद बीजापुर की तर्रेम घटना पर बदला लेने की असंवैधानिक बात कर रहे हैं. यह उनकी बौखलाहट दिखाता है. अमित शाह किस-किस से बदला लेंगे? …अमित शाह बदला लेने की बात छोड़ दिल्ली में घेरे बैठे किसानों की समस्या का समाधान बताएं. पुलिस के जवानों से हमारी निजी दुश्मनी नहीं पर हमें उन्हें मजबूरी में मारना पड़ता है.

Naxal Letter Sukma Chattisgarh
नक्सलवादियों की तरफ से जारी की गई चिट्ठी में सरकार के एक्शन को ही असंवैधानिक बताया गया है.

लापता जवान की बेटी की गुहार

इस बीच लापता सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह मनहास की 5 साल की बेटी राघवी ने अपने पिता को आजाद करने की भावुक अपील की है. उसकी यह अपील एक वीडियो की शक्ल में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. वीडियो में दिख रहे उसके अंकल भी उसकी अपील सुनने के बाद भावुक होते दिखाई पड़ रहे हैं.  राघवी ने अपील की है कि

पापा की परी पापा को बहुत मिस कर रही है. मैं अपने पापा से बहुत प्यार करती हूं. नक्सल अंकल प्लीज मेरे पापा को घर भेज दो.

 

 क्या कहा है अमित शाह ने?

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को बीजापुर नक्सली हमले के शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी थी. कहा कि पिछले 5 से 6 साल के अंदर हमें काफी कैंप स्थापित करने में सफलता मिली है. इसी झुंझलाहट में ऐसी घटनाएं सामने आती हैं. इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत में अमित शाह ने कहा कि शहीदों की कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी. आजतक से जुड़े धर्मेंद्र महापात्रा की रिपोर्ट के मुताबिक, शाह ने कहा,

‘मैं देश को और शहीदों के परिजनों को आश्वस्त करता हूं कि उनकी शहादत व्यर्थ नहीं होगी. पिछले कुछ सालों में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है. इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना ने इसे और आगे बढ़ा दिया है.’

गृह मंत्री शाह ने बताया कि उन्होंने सीएम भूपेश बघेल और सुरक्षाबलों के अफसरों के साथ समीक्षा बैठक की है. मीटिंग में सुरक्षा बलों ने सुझाव दिया कि इस लड़ाई की गति किसी भी तरह से कम ना होने दिया जाए. शाह ने कहा-

‘इससे पता चलता है कि जवानों का हौसला कम नहीं है. मैं देश को आश्वस्त करता हूं कि ये लड़ाई रुकेगी नहीं, बल्कि और रफ्तार के साथ आगे बढ़ेगी. हम इसे अंजाम तक लेकर जाएंगे. अंत में नक्सलवादियों के खिलाफ हमारी विजय निश्चित है.’

नक्सली हमले के बाद गृह मंत्री अमित शाह असम का दौरा बीच में छोड़कर दिल्ली लौटे और टॉप लेवल मीटिंग की. दिल्ली में शाह के निवास पर हुई इस मीटिंग में गृह सचिव अजय भल्ला, IB के डायरेक्टर अरविंद कुमार और CRPF के सीनियर अधिकारी मौजूद रहे. मीटिंग में घटना के कारणों और एक्शन प्लान पर चर्चा की गई.

Amit Shah
हमले के बाद देश के गृहमंत्री अमित शाह ने सख्त एक्शन की बात कही और असम का अपना दौरा बीच में छोड़कर वापस दिल्ली आ गए.

एक जवान नक्सलियों के कब्जे में

शनिवार 3 अप्रैल 2021 को छत्तीसगढ़ के बीजापुर और सुकमा ज़िले की सीमा पर नक्सलियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई. नक्सलियों ने 700 जवानों को घेरकर हमला किया. इनमें कोबरा बटालियन, DRG, STF और बस्तरिया बटालियन के जवान शामिल थे. इस मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए. 3 अप्रैल को मौके से एक जवान का शव बरामद किया गया था. 4 अप्रैल को सर्च ऑपरेशन के दौरान 21 और जवानों के शव बरामद किए गए. एक जवान अब तक लापता है, जिसकी तलाश जारी है. इसके नक्सलियों के कब्जे में होने की बात कही जा रही है.


वीडियो – नक्सली हमले में 22 जवानों के शहीद होने के बाद अमित शाह क्या बोले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उन पर गंभीर आरोप लगाए थे.

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

मनसुख हीरेन की मौत के बाद क्या सब चल रहा है?