Submit your post

Follow Us

मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाने वाली एंबुलेंस में भी बड़ा झोल था

उत्तर प्रदेश के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को जिस एंबुलेंस में बांदा जेल लाया गया, उसमें भी बड़ा झोल पाया गया है. आजतक के रिपोर्टर संतोष कुमार के मुताबिक, इस एंबुलेंस का फिटनेस सर्टिफिकेट कुछ साल पहले खत्म हो चुका है. यानी ये गाड़ी भी अनफिट थी. वहीं, वो एंबुलेंस भी अनफिट पाई गई है, जिसे पंजाब में मुख्तार अंसारी के लिए निजी रूप से इस्तेमाल किया जा रहा था.

2017 से अनफिट है एंबुलेंस

मुख्तार को बांदा लाने वाली एंबुलेंस का नंबर UP-41-G-2776 है. ये एक सरकारी एंबुलेंस है. रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्तार अंसारी की निजी एंबुलेंस की तरह ये एंबुलेंस भी बाराबंकी परिवहन विभाग में रजिस्टर्ड है. वहां एंबुलेंस के मालिक के नाम में ‘डायरेक्टर जनरल मेडिकल एंड हेल्थ’ लिखा है. रिपोर्ट कहती है कि एंबुलेंस को 20 मई 2015 को खरीदा गया था. इसकी फिटनेस 21 मई 2017 तक वैध थी. यानी एंबुलेंस को अनफिट हुए 3 साल से भी ज्यादा समय हो चुका है.

Fitness

रिपोर्टर संतोष कुमार ने जानकारी जुटाई तो पता चला कि बाराबंकी परिवहन विभाग में कुल 1662 एंबुलेंस रजिस्टर्ड हैं. इनमें 90 निजी एंबुलेंस और 105 एंबुलेंस सेवा प्रदाता कंपनी की रजिस्टर्ड हैं. वहीं, 1467 एंबुलेंस ऐसी हैं, जो बाराबंकी परिवहन विभाग में रजिस्टर्ड हैं, लेकिन चल अन्य जिलों में रही हैं. मुख्तार को लाने वाली एंबुलेंस भी इन्हीं में से एक है.

विभाग ने जांच के बाद पाया कि कुल 1662 एंबुलेंस में से 461 अनफिट हो चुकी हैं, लेकिन प्रदेश के अन्य जिलों में दौड़ रही हैं. अब परिवहन विभाग बाराबंकी सीएमओ के जरिये उन जिलों को नोटिस भेज रहा है.

अब बात उस एंबुलेंस की भी कर लेते हैं, जिससे ये पूरा मामला उजागर हुआ. मुख्तार अंसारी को रोपड़ जेल से मोहाली कोर्ट इसी एंबुलेंस में लाया गया था. ये उसकी निजी एंबुलेंस बताई जाती है. बाराबंकी पुलिस इसे पंजाब से यूपी ले आई है. UP-41-AT-7171 नंबर की ये एंबुलेंस बाराबंकी पुलिस की केस प्रॉपर्टी है और उसकी पुलिस लाइन में खड़ी है. रिपोर्टर ने बताया कि जब इसे खोला गया तो अंदर का हाल सवाल खड़े करने वाला था.

Ambulance
मुख्तार अंसारी को रोपड़ जेल से मोहाली कोर्ट ले जाने वाली एंबुलेंस. (तस्वीर- संतोष कुमार, आजतक)

कैसी थी एंबुलेंस की हालत?

एंबुलेंस के अंदर से कुछ दवाइयां मिलीं जो 2019 में एक्सपायर हो चुकी थीं. मरीज के लेटने के लिए जो सीट थी वो जैक पर टिकी थी. दूसरी सीट पूरी तरह जाम थी. एंबुलेंस में रखा ऑक्सीजन सिलेंडर भी काफी पुराना था. 8 सालों में मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस 81000 किलोमीटर से ज्यादा का सफर तय कर चुकी है. रिपोर्ट में सवाल किया गया है कि क्या ये मुख्तार अंसारी की वही निजी एंबुलेंस है, जिसे वो पंजाब में इस्तेमाल कर रहा था.

Untitled Design
मुख्तार अंसारी की निजी एंबुलेंस के अंदर से मिली चीजें. (तस्वीरें- संतोष कुमार, आजतक)

कोई बड़ा खेल तो नहीं हुआ?

आजतक ने ये सवाल एसपी बाराबंकी से पूछा तो उन्होंने साफ कहा कि ये वही एंबुलेंस है जिसका मुख्तार अंसारी पंजाब में इस्तेमाल कर रहा था. उन्होंने बताया कि अंसारी की एंबुलेंस बुलेट प्रूफ नहीं है और ये बात टेक्निकल रिपोर्ट में आ चुकी है. एसपी के मुताबिक,

‘इस एंबुलेंस में एक तब्दीली की गई थी. इसका एसी बदला गया था. मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस में एसी लगा हुआ था, जो गैर कानूनी है.’

पुलिस अधिकारी ने कहा कि बाकी इस एंबुलेंस में कहीं कोई बड़ी गड़बड़ी नहीं मिली.

खत्म हो सकती है विधानसभा सदस्यता

इस बीच खबर आ रही है कि मुख्तार अंसारी की विधानसभा सदस्यता खत्म हो सकती है. आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी लाए जाने के बाद अंसारी की सदस्यता को लेकर विधिक राय ली गई है. इस संबंध में संविधान के अनुच्छेद 190 का हवाला दिया गया है. इसके मुताबिक, विधानसभा का कोई सदस्य अगर 60 दिनों तक सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं होता तो उसकी सदस्यता खत्म की जा सकती है. वैसे इसके लिए यूपी सरकार ने मुख्तार के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामलों को भी आधार बनाने की तैयारी कर ली है.


वीडियो: मुख्तार अंसारी को रोपड़ से बांदा जेल लाने को लेकर सोशल मीडिया पर कौन से मीम्स चल पड़े? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उन पर गंभीर आरोप लगाए थे.

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

मनसुख हीरेन की मौत के बाद क्या सब चल रहा है?