Submit your post

Follow Us

तालिबान ने पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में महिलाओं, विदेशियों, मीडिया को लेकर क्या भरोसा दिलाया?

17 अगस्त 2021. अफगानिस्तान (Afghanistan) पर पूरी तरह से काबिज होने के बाद तालिबान (Taliban) पहली बार आधिकारिक रूप से मीडिया के सामने आया. तकरीबन 100 लोकल और विदेशी पत्रकारों के सवालों के जवाब तालिबान प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने दिए. उनके साथ एक तालिबान ट्रांसलेटर भी मौजूद था, जो अंग्रेजी में पूछे गए सवालों का उनके लिए अनुवाद कर रहा था. उनके जवाबों का अंग्रेजी अनुवाद करके बता रहा था. मीडिया ने जबीहुल्लाह से महिलाओं से लेकर मानवाधिकार और कानून-व्यवस्था को लेकर तमाम सवाल पूछे. तालिबान प्रवक्ता ने कई सवालों के जवाब दो-टूक दिए, तो कई सवाल टाल दिए. आइए जानते हैं बड़े मसलों पर क्या बोला तालिबान-

अफगानिस्तान में सरकार बनाने पर

तालिबान प्रवक्ता ने देश के सभी समुदायों के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात कही. जब उनसे पूछा गया कि क्या वो डॉक्टर अब्दुल्ला, हिकमतयार औऱ हामिद करजई से संपर्क में हैं, तो तालिबान प्रवक्ता ने कहा कि

“हम जल्द ही सरकार बनाने की प्रक्रिया शुरू करेंगे. हम पूरी कोशिश करेंगे कि सभी लोगों से संपर्क किया जाए. हम उनसे संपर्क कर रहे हैं. हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि सभी अफगान इसमें शामिल हों. किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा. जो भी देश की सेवा करना चाहेगा, उसे नजरअंदाज़ नहीं किया जाएगा. भविष्य की सरकार समावेशी होगी. जल्द ही सरकार की घोषणा होगी और समस्याएं खत्म होंगी.”

कानून-व्यवस्था पर

तालिबान के प्रवक्ता ने कहा,

“तालिबान की प्राथमिकता कानून व्यवस्था बनाने की है. इसके बाद लोग शांति से रह सकेंगे. कोई आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगा. कोई आपका दरवाजा नहीं खटखटाएगा.”

विदेशी सुरक्षा बलों के साथ काम करने वाले ठेकेदारों और अनुवादकों के बारे में सवाल पर जबीहुल्लाह मुज़ाहिद ने कहा,

“हम किसी के साथ बदला लेने नहीं जा रहे हैं. जो युवा अफ़ग़ानिस्तान में पले-बढ़े हैं, हम नहीं चाहते कि वे यहां से चले जाएं. वे हमारी संपत्ति हैं. कोई भी उनके दरवाजे पर दस्तक देने और उनसे यह पूछने वाला नहीं है कि वे किसके लिए काम कर रहे हैं. ऐसे लोग हमारे शासन में सुरक्षित रहेंगे. किसी से पूछताछ या उनका पीछा नहीं किया जाएगा.”

Taliban In Kabul
प्रेस कॉन्फ्रेंस में तालिबान प्रवक्ता ने भरोसा दिलाया कि किसी को भी कानून-व्यवस्था के नाम पर परेशान नहीं किया जाएगा. (फोटो-पीटीआई)

महिलाओं के अधिकारों पर

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुज़ाहिद ने महिला अधिकारों के बारे में एक सवाल के जवाब में कहा,

“हम महिलाओं को अपनी व्यवस्था के भीतर काम करने और पढ़ने की अनुमति देने जा रहे हैं. महिलाएं हमारे समाज और हमारे ढांचे के भीतर अब बहुत सक्रिय होने जा रही हैं.”

मुज़ाहिद ने कहा कि

“हम शरिया व्यवस्था के तहत महिलाओं के हक़ तय करने को प्रतिबद्ध हैं. महिलाएं हमारे साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने जा रही हैं. हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि उनके साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा.”

तालिबान प्रवक्ता ने कहा कि महिलाओं को शरिया कानून के तहत अधिकार और आजादी देंगे. हेल्थ सेक्टर और स्कूलों में वो काम कर सकेंगी. जब उनसे पूछा गया कि क्या मीडिया में भी महिलाएं काम कर सकेंगी? इस सवाल पर प्रवक्ता ने घुमा-फिराकर जवाब दिया. वह बोले कि

“जब तालिबान सरकार बन जाएगी, तब साफ-साफ बताया जाएगा कि शरिया कानून के हिसाब से क्या-क्या छूट मिलेंगी.”

Women Afghanistan
तालिबान प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भरोसा दिलाया कि महिलाओं के अधिकारों की सुरक्षा की जाएगी और उन पर जुल्म नहीं होगा. लेकिन साथ में ये भी कहा कि उन्हें रहना शरिया कानून के हिसाब से होगा. (फोटो: एपी)

मीडिया को लेकर

20 साल पहले जब तालिबान आया था, तब मीडिया पर पूरी तरह से बैन लगा दिया गया था. ऐसे में प्रेस कॉन्फ़्रेंस में पत्रकारों ने मीडिया की अफगानिस्तान में मौजूदगी को लेकर भी सवाल पूछे. इस पर तालिबान प्रवक्ता जबीहुल्ला ने कहा,

“अपने सांस्कृतिक ढांचे के भीतर हम मीडिया के प्रति प्रतिबद्ध हैं. मीडिया को हमारी कमियों पर ध्यान दिलाना चाहिए, ताकि हम राष्ट्र की अच्छे से सेवा कर सकें. लेकिन मीडिया को भी ये ध्यान में रखना चाहिए कि इस्लामी मूल्यों के ख़िलाफ़ कोई काम नहीं होना चाहिए.”

तालिबान के प्रवक्ता ने साफ़ किया कि उनके शासन के दौरान प्राइवेट मीडिया पहले की तरह काम करता रहेगा.

Taliban Spokesperson Mujahid
तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि देश में हर तरह का मीडिया रह सकता है लेकिन वो यहां के नियम-कायदे ध्यान रखे. (फोटो-पीटीआई)

विरोधियों और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को लेकर

तालिबान ने अफगानिस्तान में अपने विरोधियों और पिछली सरकार को माफ करने की बात कही. जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि जिनसे हम 20 साल से लड़ रहे हैं, हमने उन्हें माफ कर दिया है.

तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि

“हमने अफ़ग़ानिस्तान में स्थिरता और शांति पाने के लिए सभी को माफ़ कर दिया है. हमारे लड़ाके और लोग, हम सब मिलकर यह तय करेंगे कि हम अपने साथ दूसरे सभी पक्षों और गुटों को ला सकें. जिन अफ़ग़ानियों की जान दुश्मन सेना के लिए लड़ने के चलते गई, वो उनकी अपनी गलती थी. हमने तो कुछ ही दिनों में पूरे देश को जीत लिया.”

तालिबान के प्रवक्ता ने देश में स्थिरता लाने और अराजकता खत्म करने की बात भी कही. उनके अनुसार-

“हम यह तय करेंगे कि अफ़ग़ानिस्तान अब संघर्ष का मैदान न बने, हमने उन सभी को माफ़ कर दिया है, जिन्होंने हमारे ख़िलाफ़ लड़ाइयां लड़ीं. अब हमारी दुश्मनी ख़त्म हो गई है. हम अब बाहर या देश के भीतर कोई दुश्मन नहीं चाहते हैं. अब हम काबुल में अराजकता देखना नहीं चाहते.”

उन्होंने काबुल पर कब्जे को लेकर भी सफाई दी. तालिबान प्रवक्तान ने दावा किया कि-

“हमारी योजना काबुल के बाहर ही रुकने की थी. लेकिन दुर्भाग्य से पिछली सरकार बहुत अक्षम थी. उनके सुरक्षा बल व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुछ ख़ास न कर सके. ऐसे में हमें ही कुछ करना था. काबुल के लोगों की सुरक्षा तय करने के लिए हमें काबुल में दाखिल होना पड़ा.”

तालिबान ने विश्व समुदाय को लेकर भी कई बातों का भरोसा दिलाया. एक सवाल के जवाब में तालिबान प्रवक्ता ने कहा कि उनके देश की जमीन को किसी दूसरे देश के खिलाफ इस्तेमाल नहीं करने दिया जाएगा.

तालिबान के प्रवक्ता ने कहा,

“हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ कोई उलझन नहीं चाहते हैं. हमें हमारी धार्मिक मान्यताओं के अनुसार काम करने का अधिकार है. दूसरे देशों के अलग-अलग दृष्टिकोण, नियम और कानून हैं. हमारे मूल्यों के अनुसार अफ़ग़ानों को अपने नियम और कानून तय करने का अधिकार है.”

तालिबान की प्रेस कॉन्फ्रेंस तकरीबन 1 घंटा चली. इस दौरान तालिबान प्रवक्ता ने सवालों के खुलकर जवाब दिए. प्रेस कान्फ्रेंस खत्म होने के बाद तालिबान प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद कुछ पत्रकारों से हाथ मिलाते भी नजर आए.


वीडियो – अफ़गान लड़कियों ने तालिबान की जो हरकतें बताईं वो आप सोच भी नहीं सकते!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

ये महिलाएं अर्बन कंपनी के लिए ब्यूटिशियन या स्पा वर्कर का काम करती हैं.

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

जांच में सहयोग नहीं करने का आरोप.

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

NCB की रेड को फर्जी बताया, ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की कॉल डिटेल की जांच की मांग की

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

अजय मिश्रा कुछ और कह रहे, परिवारवाले कुछ और कह रहे.

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) की बैठक आज खत्म हो गई.

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करने के लिए यूपी सरकार को एक दिन का वक्त दिया है.

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

रविवार 3 अक्टूबर की शाम से यहां कर्फ्यू लगा है.

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

ब्रिटेन की अदालतों में इन दोनों ने अपनी आय शून्य बताई थी.

लखीमपुर का रोंगटे खड़े करने वाला वीडियो, प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पीछे से कैसे चढ़ा दी गाड़ी!

लखीमपुर का रोंगटे खड़े करने वाला वीडियो, प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पीछे से कैसे चढ़ा दी गाड़ी!

घटना में घायल शख्स ने 'दी लल्लनटॉप' को बताई पूरी कहानी.

फोन पर नेताओं की कुर्सी फिक्स करती थी, अब नई तरह की हैट्रिक बनाई है

फोन पर नेताओं की कुर्सी फिक्स करती थी, अब नई तरह की हैट्रिक बनाई है

पनामा हो या पैराडाइज़, या हो पैंडोरा. लीक जहां, नीरा राडिया का नाम वहां.