Submit your post

Follow Us

वो रेस्टोरेंट जहां शहीदों के परिवार से कोई बिल नहीं लिया जाता

छत्तीसगढ़ के रायपुर में एक ऐसा रेस्टोरेंट है जहां सैनिको को मुफ्त में खाना खिलाया जाता है. रेस्टोरेंट के मालिक मनीष दुबे है जो सेना में शामिल होना चाहते थे लेकिन वो किन्ही कारणों से सेना में शामिल नहीं हो पाए तो इन्होने ने सेना को मुफ्त खाना खिलाने की प्लान बनाया. यदि सैनिक अपनी वर्दी में खाना खाने आता है तो उसमे 50 प्रतिशत तक की छूट मिलती है. यदि वो सिविल ड्रेस में होता है तो उसे अपना आईकार्ड दिखाना पड़ता है और उसका जो भी बिल बनता है उसमे 25 प्रतिशत तक की छूट मिलती है.इसके अलावा शहीद हो चुके जवानों के परिजनों से कोई बिल नहीं लिया जाता.

वैसे ये रेस्टोरेंट एक आम रेस्टोरेंट की तरह ही है. जहां सैनिकों के अलावा सामान्य लोग भी खाना खाने आते हैं. लेकिन सैनिकों के लिए ये जो करते हैं, उसके कारण ये आम रेस्टोरेंट से थोड़ा अलग हो जाता है. भारतीय सेना के जवानों से लेकर शहीद सैनिकों के परिवार को इस रेस्टोरेंट में अलग-अलग दामों में खाने की व्यवस्था है.

14517361_1309977592347397_3247504355034985536_n

कोई सैनिक अगर यहां आता है तो 25 से 50 प्रतिशत तक की छूट दी जाती है. और किसी शहीद के परिजनों से एक पैसा भी नहीं लिया जाता. रेस्टॉरेंट के मेन गेट पर बाकायदा इसकी सूचना चिपकी है. बिल में छूट देने का इकलौता मकसद सैनिकों और उनके परिजनों को सम्मान देना है.

15442118_1396037597074729_5146471311177574619_n

इस रेस्टारेंट के मालिक सेना में शामिल होना चाहते थे. किन्ही कारणों से वो सेना में भर्ती नहीं हो पाए. तो विचार आया कि क्यों न वो अपने इस रेस्टोरेंट के जरिए सैनिकों की कुछ मदद करें. रेस्टॉरेंट के संचालक मनीष दुबे हैं, बताते हैं कि मीडिया में अक्सर सैनिकों के शहीद होने की खबरें पढऩे, सुनने को मिलती हैं, जिससे शहीदों और उनके परिजनों के प्रति दिल में सम्मान की भावना पैदा होती है. हम जैसे आम लोग सीमा पर देश की सेवा तो नहीं कर सकते लेकिन सैनिकों के प्रति मन में आदर, प्यार, सम्मान की भावना अवश्य होती है. तो जो हाथ में है, वही कर लेते हैं.

14495318_1310736815604808_2019182420721411135_n

मनीष के मुताबिक वो शुरू-शुरू में खाने के बदले सैनिकों से पैसे नहीं लेते थे. इससे सैनिकों को ऐसा लगता था कि वो क्या खुद अपने पैसे से खाना नहीं खा सकते हैं. फिर कुछ जवानों राय दी कि वे सैनिकों का सम्मान ही करना चाहते हैं तो कुछ प्रतिशत की छूट दे दें. इससे सैनिकों को बुरा नहीं लगेगा. बस उस दिन के बाद इसके बाद इन्होंने बिल में रियायत देना शुरू कर दिया


ये स्टोरी प्रतीक ने की है 


ये भी पढ़ें:

शहीदों की लाश से पाकिस्तान ने की बर्बरता, और ये पहली बार नहीं है

कश्मीर में फौजियों ने एक प्रेगनेंट औरत की जान बचाने के लिए अंगद का पांव खिसका दिया

दुश्मन के लिए तलवार हैं हम: BSF की लेडी सोल्जर्स

आज पता चल जायेगा फेसबुक पर कितने झंडू बाम हैं

अब उनके बारे में भी जान लो, जिन्हें इंडियन आर्मी ने मार डाला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं सहित तीन की पीट-पीटकर हत्या, 110 आरोपी अरेस्ट

पालघर मॉब लिंचिग का वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई.

ऑनलाइन शॉपिंग: 20 अप्रैल की बाद वाली छूट से बाहर हो गईं ये चीजें

ई-कॉमर्स साइट्स ने तो तैयारी भी कर ली थी.

जो रैपिड टेस्ट किट छत्तीसगढ़ ने सस्ते में मंगाई, उसी किट के लिए अन्य राज्य दोगुनी कीमत क्यों दे रहे हैं?

रैपिड टेस्ट किट की कीमत पर सवाल उठ रहे हैं.

3 मई के बाद से ट्रेन और फ्लाइट शुरू होने की कितनी उम्मीद है?

जनता कर्फ्यू से ही धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने लगे थे.

गुजरात को मिली पहली प्लाज्मा डोनर, कोरोना से ठीक हुई स्मृति ठक्कर ने डोनेट किया प्लाज्मा

एक व्यक्ति के प्लाज़्मा से कम से कम दो और अधिकतम पांच लोगों का इलाज किया जा सकता है.

इंदौर में फिर मेडिकल टीम पर हमला, पुलिस बोली गलतफहमी में हुआ अटैक

बीच-बचाव करने आए व्यक्ति को लगा चाकू.

लॉकडाउन के बीच मज़दूरों का क्या होगा, सीएम उद्धव ठाकरे ने फैसला कर दिया है

एक लाख तीस हज़ार गन्ना मज़दूरों का सवाल है.

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के फैसलाबाद चीफ की कोरोना से मौत

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के सात हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं.

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.

आयुष्मान कार्ड वालों की फ़्री कोरोना जांच होगी, लेकिन 2 करोड़ परिवार इस लिस्ट से ही ग़ायब!

क्या गड़बड़ी हुई गिनती में?