Submit your post

Follow Us

इटली में नस्लभेद के शिकार हुए 3 IIT स्टूडेंट्स

IIT के तीन स्टूडेंट्स को बीते सोमवार इटली में धर लिया गया. ये स्टूडेंट वेंतिमिग्लिया स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे थे. स्टूडेंट्स का कहना है कि उनके पास अपनी पहचान के सभी कागज़ थे. फिर भी सिक्योरिटी वाले पासपोर्ट वेरिफिकेशन के नाम पर इन्हें स्टेशन से 1100 किलोमीटर दूर ले गए. इनके साथ वो लोग भी थे जिनके पास अपने पासपोर्ट नहीं थे.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक उदय IIT मुंबई और अक्षित और दीपक IIT दिल्ली के स्टूडेंट हैं. कंप्यूटर साइंस ब्रांच के हैं. तीनों इटली में इंटर्नशिप के लिए गए हुए हैं. वीकेंड बिताने जेनोआ गए थे. वेंतिमिग्लिया स्टेशन पर ट्रेन का इंतज़ार कर रहे थे. सिक्योरिटी गार्ड को अंग्रेजी बोलनी नहीं आती थी. इसलिए उसकी बात समझने में बाहरी लोगों को तकलीफ हो रही थी. तीनों लड़के अपना पासपोर्ट निकाल ही रहे थे कि उन्हें धर लिया गया. लड़कों का कहना है कि ये साफ़-साफ़ नस्लभेद का मामला है.

तीनों लड़कों के साथ कई अफ़्रीकी और पाकिस्तानी लोग भी थे. इन सबको स्टेशन से 1100 किलोमीटर दूर फ्लाइट से बारी ले जाया गया. जिसका इन्हें कोई कारण भी नहीं बताया गया. वहां उन्हें घर वालों और दोस्तों से सिर्फ एक बार बात करने का मौका दिया गया. 10 घंटे तक बिना किसी फ़ोन सुविधा के साथ रखे जाने के बाद पुलिस से उन्हें बताया कि उनके पासपोर्ट की जांच का काम शुरू हो रहा है. जब भारत की एम्बेसी के एक सदस्य ने आकर बात की, तब स्टूडेंट्स को छोड़ा गया.

फिलहाल स्टूडेंट्स को रोम भेज दिया गया है. और हर वक़्त अपने साथ पासपोर्ट रखने के निर्देश दिए गए हैं. स्टूडेंट्स ने तय किया है कि बेवक्त और बेवजह हुई इस असुविधा शिकायत करेंगे.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या औरतों के ऑर्गैज़म पर तेजस्वी सूर्या का पुराना ट्वीट अरब देशों से हमारे संबंध ख़राब कर देगा?

अरब महिलाओं को लेकर पांच साल पहले ट्वीट किया था.

महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं सहित तीन की पीट-पीटकर हत्या, 110 आरोपी अरेस्ट

पालघर मॉब लिंचिग का वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई.

ऑनलाइन शॉपिंग: 20 अप्रैल की बाद वाली छूट से बाहर हो गईं ये चीजें

ई-कॉमर्स साइट्स ने तो तैयारी भी कर ली थी.

जो रैपिड टेस्ट किट छत्तीसगढ़ ने सस्ते में मंगाई, उसी किट के लिए अन्य राज्य दोगुनी कीमत क्यों दे रहे हैं?

रैपिड टेस्ट किट की कीमत पर सवाल उठ रहे हैं.

3 मई के बाद से ट्रेन और फ्लाइट शुरू होने की कितनी उम्मीद है?

जनता कर्फ्यू से ही धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने लगे थे.

गुजरात को मिली पहली प्लाज्मा डोनर, कोरोना से ठीक हुई स्मृति ठक्कर ने डोनेट किया प्लाज्मा

एक व्यक्ति के प्लाज़्मा से कम से कम दो और अधिकतम पांच लोगों का इलाज किया जा सकता है.

इंदौर में फिर मेडिकल टीम पर हमला, पुलिस बोली गलतफहमी में हुआ अटैक

बीच-बचाव करने आए व्यक्ति को लगा चाकू.

लॉकडाउन के बीच मज़दूरों का क्या होगा, सीएम उद्धव ठाकरे ने फैसला कर दिया है

एक लाख तीस हज़ार गन्ना मज़दूरों का सवाल है.

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के फैसलाबाद चीफ की कोरोना से मौत

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के सात हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं.

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.