Submit your post

Follow Us

पंजाब के नए कैबिनेट में सिद्धू और अमरिंदर खेमे से किनको एंट्री मिली?

पंजाब के नए मंत्रियों का रविवार, 26 सितंबर की शाम चंडीगढ़ में शपथ ग्रहण हुआ. कैप्टनअमरिंदर के मंत्रिमंडल में शामिल रहे मंत्रियों को भी नई कैबिनेट में जगह दी गई है, वहीं नए चेहरे भी लाए गए हैं. सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओपी सोनी. दोनों उप मुख्यमंत्रियों के नाम का ऐलान पहले ही हो गया था. पंजाब में मुख्यमंत्री बदलने के साथ ही नए सिरे से मंत्रिमंडल का गठन भी किया गया है. जिन मंत्रियों ने शपथ लिया उनके नाम पर नजर डालते हैं.

1. रजिया सुल्ताना: मलेरकोटला से विधायक हैं. 2002 और 2012 में भी विधानसभा चुनाव जीत चुकी हैं. कैबिनेट का इकलौता मुस्लिम चेहरा हैं. अमरिंदर सरकार में मंत्री भी थीं, बाद में इस्तीफा दे दिया था. इनके पति मोहम्मद मुस्तफा, नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार हैं.

2. विजय इंदर सिंघला: सिंघला 2017 में पहली बार विधायक बने हैं. 2009 से 2014 तक संगरूर से सांसद रह चुके हैं. शिक्षा मंत्री रहे हैं. ये ऐसे नेता हैं, जिन्होंने पंजाब के पूरे घटनाक्रम में अंत तक अमरिंदर का साथ दिया. गांधी परिवार के करीबी हैं.

3. भारत भूषण आशू: लुधियाना से आने वाले भारत भूषण पुराने कांग्रेसी हैं. लुधियाना पश्चिम से विधायक हैं. हिंदू चेहरा हैं. युवाओं के बीच अच्छी लोकप्रियता है. फ़ूड एंड सप्लाई विभाग था पहले इनके पास.

4. ब्रह्म मोहिंद्रा: पटियाला से आते हैं. 1980 से अब तक कुल छह बार पंजाब की विधानसभा में पहुंच चुके हैं. वर्तमान में पटियाला देहात से विधायक हैं. कैप्टन अमरिंदर सिंह के खास माने जाते हैं. स्थानीय निकाय मंत्री थे. पंजाब का बड़ा हिंदू चेहरा माने जाते हैं.

5. तृप्त राजिंदर बाजवा:सिद्धू का समर्थन करते हुए कैप्टन के ख़िलाफ़ बगावत करने वाले पहले नामों में तृप्त रजिंदर बाजवा शामिल थे. मंत्री पद मिलना तय था. मिला. फतेहगढ़ चूरियन से विधायक हैं. चौथी बार विधायक बने हैं. पहली बार 1992 में चुने गए थे.

6. रणदीप सिंह नाभा: लगातार 4 बार के विधायक हैं. फतेहगढ़ साहिब के अमलोह से विधायक हैं. विधानसभा की लाइब्रेरी कमेटी के सदस्य हैं.

7. मनप्रीत बादल: बादल परिवार से बगावत कर कांग्रेस में आए थे और 2007 से 10 तक पंजाब में वित्त मंत्री भी बने. कभी अमरिंदर के ख़ास थे. अब चन्नी के साथ. मनप्रीत बादल बठिंडा शहर से विधायक हैं. कुल 5 बार विधायक रह चुके हैं.

8. अरुणा चौधरी: दीनानगर से विधायक हैं. पंजाब की दिग्गज नेता रहीं जयमुनी चौधरी की बहू हैं. 2002 में राजनीति में कदम रखा. 3 बार विधायक रह चुकी हैं. 2002, 2012 और 17 में कांग्रेस के टिकट पर जीतीं.

9. सुखबिंदर सरकारिया: ये भी कैप्टन अमरिंदर की बगावत करने वाले खेमे में से हैं. वर्तमान में राजा सांसी सीट से विधायक हैं. इससे पहले 2007 में 12 में भी विधायक रह चुके हैं. राज्य में राजस्व मंत्री भी रहे हैं.

10. राजकुमार वेरका: अमृतसर से आते हैं. अमृतसर वेस्ट से विधायक हैं. पार्टी का बड़ा दलित चेहरा हैं. फिल्मों में भी काम कर चुके हैं.

11. संगत सिंह गिलजियां: पंजाब के पुराने नेता. उरमार से विधायक हैं. कैप्टन अमरिंदर के धुर विरोधी माने जाते हैं. टीम सिद्धू का हिस्सा.

12. परगट सिंह: मशहूर हॉकी खिलाड़ी. अकाली दल से आए हुए हैं. जालंधर कैंट से विधायक हैं. अमरिंदर के ख़िलाफ़ बगावत करने वालों में परगट भी शामिल थे. सिद्धू के राइट हैंड की छवि है. पंजाब कांग्रेस के महासचिव भी हैं.

13. अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग: भटिंडा से आते हैं. गिद्दरवाहा से विधायक. गांधी परिवार के नज़दीकी. कैप्टन के विरोधी. 2019 में भठिंडा से हरसिमरत बादल के ख़िलाफ़ लोकसभा चुनाव लड़ा था लेकिन 20 हज़ार वोट से हार गए थे.

14. राणा गुरजीत सिंह: कैप्टन सरकार में मंत्री बने थे. लेकिन कई विवादों और घोटाले में नाम आने के बाद इस्तीफ़ा देना पड़ा था. 3 बार विधायक रह चुके हैं. अभी कपूरथला से विधायक हैं. जालंधर से सांसद भी रह चुके हैं.

15. गुरकीरत कोटली: पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते. दूसरी बार खन्ना से विधायक. पहली बार 2012 में जीते थे.

शपथ ग्रहण के बाद पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि नए मंत्रियों, पंजाब के लोगों और मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को नई शुरुआत के लिए बहुत बधाई देता हूं. उन्होंने कहा कि जो लोग मंत्रिमंडल में स्थान नहीं पा पाए हैं उनको पार्टी और सरकार की व्यवस्था में ज़िम्मेदारियां सौंपी जाएंगी.


पंजाब में चन्नी के नए CM बनने के बाद भी राजनीतिक उथल-पुथल बाकी है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

किसानों के बहाने फिर बीजेपी पर निशाना साध रहे वरुण गांधी?

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

ट्विटर पर फिल्म इंडस्ट्री ने पुनीत को किया भारी मन से याद.