Submit your post

Follow Us

दिल्ली से अगवा नाबालिग लड़की का यूपी के मदरसे में रेप

उत्तर प्रदेश के साहिबाबाद का एक मदरसा. दिल्ली से अगवा की गई एक 10 साल की लड़की को दो दिनों तक यहां रखा गया. उसके साथ बलात्कार किया गया. ये केस अब सांप्रदायिक ऐंगल ले चुका है. लोग इसे हिंदू बनाम मुसलमान का मामला बना रहे हैं. कई लोग इसे कठुआ केस के काउंटर के तौर पर पेश कर रहे हैं. इसलिए क्योंकि इस मामले में विक्टिम हिंदू है. आरोपी रेपिस्ट मुसलमान है. और उसने मदरसे के अंदर बच्ची के साथ बलात्कार किया.

अगवा लड़की की कॉल डिटेल्स से मिली मदद
पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर की एक 10 बरस की लड़की. 21 अप्रैल को अपने घर से निकली. फिर वापस नहीं लौटी. परिवारवालों ने पुलिस में रिपोर्ट लिखवाई. पुलिस ने उस इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला. एक कैमरे में लड़की नजर आई. दिखा कि एक लड़का उसे ऑटो में बिठाकर कहीं ले जा रहा है. पुलिस ने तफ्तीश की. मगर आगे कुछ हाथ नहीं लगा. दो दिन यूं ही बीत गए. फिर मालूम चला कि लड़की के पास एक फोन था. जो उसके गायब होने के बाद से ही ऑफ था. पुलिस ने उस नंबर की कॉल डिटेल्स निकलवाईं. उस फोन से जिन नंबरों पर फोन किया गया था, उनकी जांच की. एक लड़के का नाम सामने आया. उसकी तफ्तीश की, तो साहिबाबाद के अरथला इलाके का नाम पुलिस रेडार पर आया.

ये वो मदरसा है, जहां आरोपी ने विक्टिम को बंद रखकर उसके साथ बलात्कार किया.
ये वो मदरसा है, जहां आरोपी ने विक्टिम को बंद रखकर उसके साथ बलात्कार किया. अगल-बगल के लोगों का कहना है कि इस दौरान मौलवी वहां थे ही नहीं. पुलिस ने मौलवी से कई बार पूछताछ की है. अभी तक उन्हें मौलवी के शामिल होने का कोई सबूत नहीं मिला है.

विक्टिम और रेपिस्ट कभी पड़ोसी थे, एक-दूसरे को जानते थे
उत्तर प्रदेश का साहिबाबाद दिल्ली से बिल्कुल लगा हुआ है. दिल्ली पुलिस ने उत्तर प्रदेश पुलिस की मदद ली. इस इलाके की तलाशी हुई. तलाशी में एक मदरसे के अंदर से वो 10 साल की बच्ची बरामद की गई. उसके साथ बलात्कार किया गया था. पुलिस ने 17 साल के एक लड़के को रेप का आरोपी बताया. वो इसी मदरसे में पढ़ता है. चूंकि आरोपी नाबालिग था, सो उसे जुवेनाइल होम भेज दिया गया है. पहले इस केस में किडनैपिंग का मामला दर्ज हुआ था. मगर अब POCSO के अंतर्गत केस दर्ज किया गया है. इस बात की भी जांच हो रही है कि वो नाबालिग है भी या नहीं. ये केस अब दिल्ली क्राइम ब्रांच के पास है. विक्टिम का परिवार पहले गाजियाबाद में ही रहता था. आरोपी इनका पड़ोसी था. हाल ही में विक्टिम का परिवार गाजीपुर शिफ्ट हुआ था.

विक्टिम का परिवार पहले गाजियाबाद में रहता था. आरोपी भी इनके ही पड़ोस में रहता था. विक्टिम का कहना है कि वो अपने एक दोस्त की वजह से आरोपी को जानती थी.
विक्टिम का परिवार पहले गाजियाबाद में रहता था. आरोपी भी इनके ही पड़ोस में रहता था. विक्टिम का कहना है कि वो अपने एक दोस्त की वजह से आरोपी को जानती थी. पुलिस ने पहले किडनैपिंग का केस दर्ज किया था. चूंकि विक्टिम 10 साल की बच्ची है, सो अब इसमें POCSO के तहत केस दर्ज किया गया है. आरोपी को जुवेनाइल होम भेज दिया गया है.

लड़की का परिवार कह रहा है- मौलवी को भी पकड़ो
21 अप्रैल को विक्टिम अगवा हुई थी. 23 अप्रैल को वो बरामद की गई. मेडिकल जांच में रेप की बात कन्फर्म हुई. 23 अप्रैल को ही मैजिस्ट्रेट के आगे उसका बयान रिकॉर्ड किया गया. इस बयान के मुताबिक, आरोपी विक्टिम को अपने दोस्तों से मिलवाने के बहाने मदरसा लेकर गया था. वहां उसके साथ रेप हुआ और फिर उसे बंधक बनाकर वहीं रखा गया. लड़की के परिवार वाले मदरसे के मौलवी पर भी शक जता रहे हैं. उनका कहना है कि पुलिस बस उस नाबालिग को पकड़कर मामला दबाने की कोशिश कर रही है. उन्हें शक है कि इस रेप में और भी लोग शामिल थे. कम से कम तीन-चार लोग. लड़की का परिवार मौलवी को अरेस्ट करने की मांग कर रहा है. उधर पुलिस ने मौलवी से कई बार पूछताछ की. पुलिस को अभी तक इस बात का सबूत नहीं मिला है कि क्या इस रेप में या फिर लड़की को बंधक बनाकर रखने में मौलवी शामिल थे. मगर पुलिस ने अभी मौलवी को क्लीन चिट भी नहीं दी है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, विक्टिम ने जब मैजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज करवाया था, तो उसमें मौलवी का नाम नहीं लिया था.

सोशल मीडिया पर इसे काफी कम्युनल तरीके से शेयर किया जा रहा है. इस पोस्ट को देखिए. कितने लोगों ने शेयर किया है इसे. कितने लाइक हैं इसके ऊपर.
सोशल मीडिया पर इसे काफी कम्युनल तरीके से शेयर किया जा रहा है. इस पोस्ट को देखिए. कितने लोगों ने शेयर किया है इसे. कितने लाइक हैं इसके ऊपर.

सोशल मीडिया पर चल रहा है: देखो, मदरसे में क्या हुआ
ये मामला सोशल मीडिया पर भी उछल रहा है. चूंकि रेप करने वाला मुसलमान है और बलात्कार मदरसे के अंदर हुआ है, इसीलिए इसे सांप्रदायिक ऐंगल दिया जा रहा है. सोशल मीडिया पर एक धड़ा इस केस को कठुआ केस से जोड़ रहा है. कठुआ केस इसका ठीक उल्टा था. जिस बच्ची का रेप और मर्डर हुआ, वो मुस्लिम थी. आरोपी हिंदू हैं. और बलात्कार मंदिर के अंदर हुआ था.


ये भी पढ़ें: 

मंदिर में बच्ची से गैंगरेप की पूरी कहानी, जहां पुलिसवाले ने कत्ल से पहले कहा – रुको मैं भी रेप कर लूं 

कठुआ गैंगरेप केस में बच्ची के पिता ने जो कहा, वो सुनकर कोई भी रो देगा

कठुआ मामले में सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों का दिमाग ठिकाने लगा दिया है

कठुआ: आरोपियों के वकील ने एक ऐसी बात खोजी है, जिसके बाद किसी को समझ नहीं आ रहा कि क्या कहें

क्या है सासाराम रेप केस, जिसे लोग कठुआ रेप केस के जवाब में पेश कर रहे हैं?

कठुआ और उन्नाव के बीच PM मोदी ने क्या कहा

कठुआ रेप का वो आरोपी जिस पर किसी की नज़र नहीं गई!

कठुआ में रेप के बाद उस बच्ची के साथ अब भी घिनौनी हरकत करने वाले कम नहीं हैं


उन्नाव गैंगरेप: रेप विक्टिम के पिता और कुलदीप सेंगर का ये रिश्ता कम लोग ही जानते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.

सुशांत के पिता और उनके विधायक भाई ने डिप्रेशन को लेकर क्या कहा?

फाइनेंशियल दिक्कत की ख़बरों पर भी बोले.

मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत को दी गई अंतिम विदाई, ये हस्तियां हुईं शामिल

मुंबई में तेज बारिश के बीच अंतिम संस्कार.

सुशांत ने किस दोस्त को आख़िरी कॉल किया था?

दोस्त फोन रिसीव न कर सका. जब तक कॉल बैक किया, देर हो चुकी थी.

सुशांत के साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी, राजकुमार राव और अनुष्का शर्मा ने क्या कहा?

सुशांत ने 11 फिल्मों में काम किया था.

सुशांत के सुसाइड से जुड़ी शुरुआती डिटेल्स आ गई हैं, सुबह 10 बजे तक सब ठीक था

किसे कॉल किया था? घर में कितने लोग थे? वगैरह.

कभी फिल्मी सितारों के पीछे नाचते थे सुशांत, फिर एकता कपूर ने कहा- मैं तुझे स्टार बनाऊंगी

सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्मों से पहले छोटे पर्दे पर काम किया था.

मुम्बई से लेकर सुशांत के पटना वाले घर तक हर तरफ भयानक सदमा है

सुशांत के पिता पटना में रहते हैं. सदमे में चले गए हैं.