Submit your post

Follow Us

कौन था वो लड़का, जो अटल बिहारी वाजपेयी से बेझिझक ईदी मांग लेता था

19.89 K
शेयर्स

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी 10 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे. हालांकि, लोकसभा के जीते हुए 10 चुनाव के अलावा भी उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़े, जिनमें वो हारे थे. लखनऊ लोकसभा सीट से अटल ने सात बार चुनाव लड़ा. पहला 1954 में, दूसरा 1957 में और फिर 1991 से 2004 तक लगातार पांच बार.

1991 से जब अटल ने लखनऊ से चुनाव लड़ना शुरू किया था, तो लखनऊ के बीजेपी नेता आसिफ ऐजाज़ रिज़वी वो शख्स थे, जो अटल के नॉमिनेशन के दस्तावेज तैयार किया करते थे. इन कागज़ों में आय, निवास और आपराधिक रिकॉर्ड जैसे तमाम दस्तावेज़ जमा करने होते हैं. 1991-92 में जब यूपी में कल्याण सिंह की सरकार थी, तो ऐजाज़ उस सरकार में मंत्री भी थे.

ऐजाज़ के बेटे आसिफ ज़मां रिज़वी उनके नाम का कॉलेज चलाते हैं, जबकि उनकी बेटी शीमा रिज़वी सियासत में आईं. शीमा यूपी विधान परिषद की सदस्य भी बनीं और 2009 में उनका इंतकाल हो गया था.

ऐजाज़ के बेटे आसिफ अटल से जुड़ा एक किस्सा बताते हैं. वो बताते हैं कि उनके पिता के इंतकाल के बाद एक बार उनके मंत्री वाले बंगले पर ईद-मिलन का कार्यक्रम रखा गया. अटल उस कार्यक्रम में आए. आने के कुछ देर बाद उन्होंने ऐजाज़ को पास बुलाया और उनके कान में फुसफुसाते हुए कहा कि उन्हें टॉइलेट जाना है.

ऐजाज़ अहिस्ते से उन्हें टॉइलेट की तरफ ले गए और दरवाज़े के बाहर खड़े हो गए, ताकि कोई अटल को डिस्टर्ब न कर सके. जब अटल बाहर निकले और उन्होंने ऐजाज़ को यूं खड़े देखा, तो उन्हें ये बहुत मानवीय लगा. इसके बाद से अटल और ऐजाज़ के ऐसे रिश्ते हो गए थे कि ऐजाज़ कभी भी उनके पास जाकर बेझिझक ईदी मांग लेते थे. अटल भी खुशी-खुशी ऐजाज़ के हाथ में ईदी थमाते थे.


ये भी पढ़ें:

उन लोगों की सुनिए, जिन्होंने अटल को अमीनाबाद की गलियों में रहते देखा है

जब अटल बिहारी ने बताया कि कैसे वो राजीव गांधी की वजह से ज़िंदा बच पाए

जब डिज़्नीलैंड की राइड लेने के लिए कतार में खड़े हुए थे अटल बिहारी

RSS के अंदर अपने विरोधियों को कैसे खत्म करते थे अटल बिहारी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.