Submit your post

Follow Us

जब डिज़्नीलैंड की राइड लेने के लिए कतार में खड़े हुए थे अटल बिहारी

अटल बिहारी वाजपेयी के राजनीतिक जीवन के बारे में इतना कुछ लिखा-पढ़ा गया है कि उनकी निजी ज़िंदगी हमेशा नेपथ्य में हो जाती है. मसलन जानवरों के साथ उनका. उनके पास पालतू कुत्ते थे, जिनसे खेलना उन्हें खूब भाता था. बिल्लियों से भी उन्हें लगाव था. इंटरनेट पर आपको ऐसी कई तस्वीरें मिलेंगी, जिनमें अटल जानवरों के साथ खेलते नज़र आ रहे हैं.

इसके अलावा अटल मिठाई के बड़े शौकीन थे. खुद तो खाते ही थे और उनके प्रधानमंत्री रहने के दौरान जब कोई उनसे मिलने आता था, तो उसे कचौड़ी के साथ रसगुल्ले परोसे जाते थे. बाद में जब अटल को किडनी संबंधी दिक्कतें और UTI की समस्या हुई, तो उनकी मिठाई की खुराक बहुत कम कर दी गई थी.

atal-bihari3

अटल जितने मेच्योर नेता था, उसे देखते हुए ये इमैजिन करना मुश्किल है कि उनके अंदर एक बच्चा भी था, जो हमेशा बाहर आने के लिए बेकरार रहता था. आउटलुक मैग्ज़ीन ने एक बार अटल के आखिरी वक्त तक सहयोगी रहे शिव कुमार से बात की. इस बातचीत में 1993 में हुए अटल के अमेरिका दौरे का ज़िक्र हुआ. उस समय अटल सांसद थे. शिव बताते हैं कि ऑफीशियल काम खत्म होने के बाद वो दोनों पहले ग्रैंड केयन नेशनल पार्क गए और फिर डिज़्नीलैंड गए.

अटल उस समय 69 साल के थे. शिव बताते हैं कि उन जगहों ने अटल को मोह लिया था. उन्होंने कई राइड्स लीं और उनमें बच्चों जैसा उत्साह दिख रहा था. मैग्ज़ीन ने शिव के हवाले से लिखा था, ‘हम हर राइड के लिए कतार में खड़े हुए थे. मुझे नहीं याद आता कि मैंने कब उन्हें इतने खिलंदड़ मूड में देखा था.’

2007 के बाद से अटल का स्वास्थ्य लगातार खराब होता गया. इन्हीं शिव कुमार से जब 2017 में बीबीसी की पत्रकार ने अटल की तबीयत के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा था, ‘मेरी मुलाकात उनसे रोज़ होती है. जहां तक उनकी सेहत का सवाल है, मेरे हिसाब से न वो स्वस्थ हैं, न वो अस्वस्थ हैं, वृद्धावस्था की बीमारी से ग्रस्त हैं.’


ये भी पढ़ें:

जब अटल ने इंदिरा से कहा, ‘पांच मिनट में आप अपने बाल तक ठीक नहीं कर सकतीं’

RSS के अंदर अपने विरोधियों को कैसे खत्म करते थे अटल बिहारी

जब अटल बिहारी थाने में जाकर बोले- मेरे खिलाफ मुकदमा लिखो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

उस सीरीज का किस्सा, जिसने ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया का 71 साल का सूखा खत्म किया

सीरीज के दौरान भी खूब ड्रामे हुए थे.

Vizag में जिन वेणुगोपाल का गेट बना है उन्होंने गुड़गांव में पीटरसन और इंग्लैंड को रुला दिया था

वेणुगोपाल की इस पारी के आगे द्रविड़ की ईडन की पारी भी फीकी थी.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.