Submit your post

Follow Us

उन लोगों की सुनिए, जिन्होंने अटल को अमीनाबाद की गलियों में रहते देखा है

576
शेयर्स

नफ़ासत के शहर लखनऊ में एक इलाका है अमीनाबाद. कहने वाले इसे लखनऊ का दिल भी कहते हैं. यहां एक बड़ा और खूबसूरत बाज़ार लगता है. ये आज की तारीख में भले जाम का मारा हो, लेकिन यहां आपको पूरा लखनऊ देखने को मिलेगा. जो लखनऊ का है और जो लखनऊ का हो रहा है… सब.

तो इस लखनऊ से अटल का गहरा नाता रहा है. और ये रिश्ता सिर्फ चुनाव लड़ने का नहीं है. अटल पैदा ज़रूर ग्वालियर में हुए, लेकिन उनके अड्रेस के कॉलम में एक नाम और आता है- लखनऊ. देश की आज़ादी और 1954 में अपना पहला चुनाव लड़ने के बीच अटल लखनऊ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक थे.

इन दिनों वो लखनऊ के इसी अमीनाबाद में रहा करते थे. यहां एक मारवाड़ी गली है. उसी में अटल का कमरा था, जिसमें उनके साझीदार थे दीनदयाल उपाध्याय. पत्रकार रतन मणि लाल अपने एक लेख में उन लोगों की प्रतिक्रियाओं का ज़िक्र करते हैं, जिन्होंने अटल को लखनऊ में रहते देखा है. लोगों के ये वाकये एक स्टेट्समैन से इतर अटल बिहारी के व्यक्ति जीवन की छवि को उभारते हैं.

atal-personal

प्रचारक के दिनों में अटल ने लखनऊ में इतनी साइकिल चलाई कि वो लखनऊ की करीब-करीब हर गली से वाकिफ हो गए थे. जिन्होंने भी उनके साथ वक्त गुज़ारा है, वो रतन मणि लाल को अटल की उदारता और खुशदिल मिजाज़ी के किस्से सुनाते हैं.

लखनऊ दूरदर्शन केंद्र के आत्मा प्रकाश मिश्रा याद करते हैं, ‘दूसरों से मिलते समय उन्होंने अहंकार को कभी आड़े नहीं आने दिया. 1999 में लखनऊ में हुए आकाशवाणी अवॉर्ड्स प्रोग्राम में उन्होंने मेरे काम की तारीफ की थी. मैं पहली बार ऐसा कोई कार्यक्रम कर रहा था और बहुत नर्वस था. वाजपेयी ये भांप गए और उन्होंने मुझसे बात करके चीज़ें आसान कर दीं.’

लखनऊ के रहने वाले वैदिक ज्योतिषी देश दीपक तिवारी बताते हैं कि जब भी कोई किसी परेशानी में होता था, तो अटल के पास हमेशा उस आदमी के लिए कोई न कोई सलाह होती थी. देश दीपक की बहन की शादी अटल के भतीजे से हुई है, तो देश दीपक उन्हें मामाश्री बुलाते थे. पारिवारिक जीवन में में अटल की भूमिकाएं बताते हुए देश दीपक कहते हैं, ‘वाजपेयी ने किसी को भी उनके पद और प्रतिष्ठा का गलत इस्तेमाल नहीं करने दिया. एक नेता और परिवार के मुखिया के तौर पर उनकी भूमिकाएं बिल्कुल अलग-अलग थीं.’

atal1

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रहे लखनऊ के केके शुक्ला 1993 का एक किस्सा बताते हैं, जब अटल बाबरी मस्ज़िद विध्वंस से बहुत दुखी हो गए थे. केके बताते हैं, ‘उस समय बीजेपी के महासचिव राजनाथ सिंह सूर्य ने अटल पर चुटकी लेते हुए मीडिया से कहा था कि वाजपेयी कविता की चार लाइनें दोहराने के अलावा कुछ नहीं कर सकते. जब वाजपेयी को उनके इस कॉमेंट के बारे में पता चला, तो उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.’

‘बाद में अटल एक होली-मिलन समारोह में गए, जहां सूर्य भी मौजूद थे. जब वहां वाजपेयी से कुछ कहने का आग्रह किया गया, तो उन्होंने एक कविता की चार लाइनें ही बोलीं. ज़ाहिर है कि निशाना सूर्य की तरफ था. लेकिन ये अटल की उदारता ही थी कि बाद में उन्होंने सूर्य की उस टिप्पणी को भूलते हुए उनका नाम राज्यसभा के लिए प्रस्तावित किया था.’


ये भी पढ़ें:

जब अटल बिहारी ने बताया कि कैसे वो राजीव गांधी की वजह से ज़िंदा बच पाए

जब डिज़्नीलैंड की राइड लेने के लिए कतार में खड़े हुए थे अटल बिहारी

RSS के अंदर अपने विरोधियों को कैसे खत्म करते थे अटल बिहारी

जब अटल ने इंदिरा से कहा, ‘पांच मिनट में आप अपने बाल तक ठीक नहीं कर सकतीं’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.