Submit your post

Follow Us

राजकुमार राव की 'न्यूटन' का ट्रेलरः इस साल की बेस्ट फिल्मों में एक ये होगी

'न्यूटन' इंडिया में 22 सितंबर को रिलीज होने जा रही है.

भारत में ‘न्यूटन’ की रिलीज अब तय हो गई है. पहले ये 18 अगस्त को लगने वाली थी लेकिन अब 22 सितंबर की डेट फाइनल हुई है. दुनिया भर के फिल्म महोत्सवों में लोग हालांकि इसे काफी महीनों से देख रहे हैं. इसमें राजकुमार राव एक चुनाव अधिकारी की मुख्य भूमिका में नजर आएंगे. ये एक ब्लैक कॉमेडी है.

फिल्म का नया पोस्टर.
फिल्म का नया पोस्टर.

फरवरी में बर्लिन फिल्म फेस्टिवल में इसका पहला प्रदर्शन हुआ और लोगों ने खड़े होकर अभिवादन किया. फिल्म ने यहां आर्ट सिनेमा प्राइज़ भी जीता. फिर ये फिल्म एक और महत्वपूर्ण फिल्म मेले ट्रिबेका फिल्म फेस्टिवल-2017 के इंटरनेशनल नैरेटिव कंपीटिशन में चुनी गई. 24 से 27 अप्रैल के बीच नॉर्थ अमेरिका में होने वाले इस फेस्ट में भी फिल्म दिखाई गई.

एक दृश्य में लड़की देखने पहुंचा राजकुमार राव का कैरेक्टर.
एक दृश्य में लड़की देखने पहुंचा राजकुमार राव का कैरेक्टर.

राजकुमार राव के अलावा भी फिल्म में ऐसे एक्टर्स हैं जिनको देखकर चेहरे पर मुस्कान आ जाएगी. जैसे रघुबीर यादव (लगान, सलाम बॉम्बे पीपली लाइव), पंकज त्रिपाठी (मसान, निल बटे सन्नाटा, गैंग्स ऑफ वासेपुर), संजय मिश्रा (आंखों देखी, मसान) और अंजलि त्रिपाठी (मिर्जया).

‘सुलेमानी कीड़ा’ (2014) जैसी आकर्षक कॉमेडी बनाने वाले अमित मासुरकर ने ‘न्यूटन’ को डायरेक्ट किया है.

डायरेक्टर अमित.
डायरेक्टर अमित.

इसकी कहानी चुनाव के एक दिन की है. जिसमें एक जिद्दी और आदर्शवादी सरकारी अधिकारी निष्पक्ष चुनाव करवाने के लिए छत्तीसगढ़ के जंगल में भेजा गया है. गांव में मुट्ठी भर लोग हैं जो सुरक्षा बलों औऱ नक्सलवादियों के बीच फंसे हुए हैं. एक मिलिट्री कमांडेंट भी है जो इस एक्सरसाइज को लेकर बहुत पॉजिटिव नहीं है. लेकिन न्यूटन की जिद है कि वो अपना फर्ज निभाकर रहेगा. आगे इस ब्लैक कॉमेडी में उसे और दर्शकों, दोनों को बहुत कुछ रियलाइज़ होता है.

एक सीन में वोटिंग मशीन लेकर दौड़ता राजकुमार राव का कैरेक्टर.
एक सीन में वोटिंग मशीन लेकर दौड़ता राजकुमार राव का कैरेक्टर.

नक्सलवाद और चुनावी लोकतांत्रिक प्रक्रिया को लेकर बनने वाली ‘न्यूटन’ पहली फिल्म लगती है. बताया जाता है कि डायरेक्टर अमित ने फिल्म को लेकर जो रिसर्च की उसमें एक्टिविस्टों से लेकर शिक्षाविदों और पत्रकारों तक से काफी बातें कीं और सही मायनों में इस समस्या को समझने की कोशिश की. अगर ऐसा सही रूप में है तो ये प्रोजेक्ट उत्साह जगाता है.

इंडिया में फिल्म का पहला टीज़र हाल में आयाः

इससे काफी पहले हमने फिल्म का ट्रेलर आपको दिखाया था. बर्लिन फिल्म फेस्ट में भी इसकी फुटेज दिखाई गई थी जिसे  यहां देख सकते हैं .

भारतीय ट्रेलर मंगलवार को रिलीज किया गया है. देखेंः

Do read more:
2017 की 15 फिल्में जो सबसे ज्यादा तृप्त करेंगी!
ऑस्कर 2017 की फिल्में: “लविंग” – दो लोगों ने प्यार किया और कानून बदलवा दिया!
जिसे हमने एडल्ट कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी
ओम पुरी ने इंडिया के इस लैजेंड एक्टर को जानलेवा हमले में बचाया था!
2016 की दस रीजनल फिल्में जो ढूंढ-ढूंढ कर देखनी चाहिए
येसुदास के 18 गाने: आखिरी वाला कभी नहीं सुना होगा, दिन भर रीप्ले न करें तो कहें!
वो लता से बड़ी सिंगर थी पति दुनिया का महान डायरेक्टर, दोनों शराब पीकर मर गए!
गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.