Submit your post

Follow Us

सीमेंट मिक्सर वाले ट्रक से निकल रहे इन मजदूरों का वीडियो लॉकडाउन का असली सच है

मध्य प्रदेश. लॉकडाउन में यहां इंदौर पुलिस ने एक सीमेंट मिक्सर ट्रक पकड़ा. शनिवार, 2 मई को. इसके अंदर 18 लोग जा रहे थे. सीमेंट की जगह जीते-जागते ‘इंसान.’ सिलेंडर शेप के दमघोंटू डिब्बे के अंदर. घुप्प अंधेरा. धूप में जिसकी लोहे की गरम सतह चमड़ी से चिपक जाए. मतलब जिस स्थिति में भेड़-बकरियों को भी नहीं ले जाया जा सकता. लेकिन घर पहुंचने के लिए इंसान वो सब कर रहा है. और इन इंसानों को टटोला जाए तो एक ही पहचान उभरकर निकलती है. मज़दूर. जिन पर लॉकडाउन की सबसे ज़्यादा मार पड़ी है. हालांकि 1 मई से सरकार ने मज़दूरों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की व्यवस्था की है.

इनमें 14 ऐसे मज़दूर थे, जो महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश के लखनऊ जाना चाहते थे. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें लोग छेद से बाहर निकल रहे हैं. एक के बाद एक.

डिप्टी एसपी (ट्रैफिक) उमाकांत चौधरी ने कहा कि ट्रक को सीज कर लिया गया है और मज़दूरों को क्वारंटीन सेंटर भेज दिया गया है, जहां कोरोना वायरस को लेकर उनकी स्क्रीनिंग होगी.

वीडियो: 

बस से भेजा जाएगा यूपी

पीटीआई के मुताबिक, ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर अमित कुमार यादव ने बताया कि इंदौर से 35 किलोमीटर दूर पंथ पिपलई गांव के पास रूटीन चेकअप हो रहा था. हमने सीमेंट वाला एक ट्रक रोका. जब ढक्कन खोला, तो हमें अंदर से 18 लोग मिले. उन्हें मेडिकल चेकअप के लिए एक शेल्टर में भेजा गया है. उत्तर प्रदेश जाने के लिए उनके लिए बस की व्यवस्था की जा रही है. इन 18 लोगों में चार ट्रक मालिक के कर्मचारी थे. ट्रक ड्राइवर के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई है.

1 मई से मज़दूरों के लिए स्पेशल ट्रेन

कहा गया है कि मज़दूर शुक्रवार. 1 मई को महाराष्ट्र से चले थे. इसी दिन केंद्र सरकार ने मज़दूरों को लेकर ढील दी. मज़दूरों, फंसे हुए छात्रों के लिए 6 स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाई जा रही हैं. 1 मई को महाराष्ट्र के नासिक से मध्य प्रदेश के भोपाल से एक ट्रेन चली. दूसरी ट्रेन नासिक से लखनऊ के लिए 2 मई के लिए चली. कोरोना वायरस के चलते 3 मई के बाद लॉकडाउन दो हफ्तों के लिए 17 मई तक बढ़ा दिया गया है. केंद्र सरकार ने देश को रेड ज़ोन, ऑरेन्ज ज़ोन और ग्रीन ज़ोन में बांटा है. इन ज़ोन के लिए सरकार ने गाइडलाइंस जारी की हैं.


मध्य प्रदेश के इंदौर में सर्वे करने निकले स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला किया और उनके फोन भी तोड़ दिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

'हमको तो तुमसे है, प्यार.'

इरफ़ान की 15 विदेशी फ़िल्में और सीरीज़ जो टाइम निकालकर देखनी चाहिए

जितने वो इंडिया में पॉपुलर थे, उतने ही इंटरनेशनल दर्शकों के बीच भी.

इरफ़ान के वो 10 धांसू सीरियल जो आपको ज़रूर देखने चाहिए

आपने उनको 'चंद्रकांता' में देखा है, लेकिन क्या 'किरदार' सीरीज़ में देखा है?

रोहित शर्मा किसके लिए ट्रेन की पटरी पर दौड़ते हुए वापिस पिछले स्टेशन आए थे

रोहित शर्मा की लाइफ की 5 मज़ेदार कहानियां.

इरफान के अंतिम संस्कार की 8 तस्वीरें

परिवार के अलावा तिग्मांशु धूलिया से लेकर कपिल शर्मा और मीका सिंह भी पहुंचे थे.