Submit your post

Follow Us

IPL 2020: भाइयों की ऐसी जोड़ियां, जिन्हें इस टूर्नामेंट ने एक-दूसरे के खिलाफ कर दिया

आईपीएल 2020. दुनियाभर के खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में खेलते हैं. जो नहीं खेलते हैं, वे भी खेलने की चाहत रखते हैं. लेकिन कुछ नाम ऐसे भी हैं, जो एक ही परिवार से आते हैं और आईपीएल खेलते हैं या खेल चुके हैं. हम बात कर रहे हैं ऐसे भाइयों की, जो आईपीएल खेले हैं. देश-विदेश के ऐसे कई भाई हैं, जो आईपीएल में एक-दूसरे के खिलाफ खेले हैं. इनमें से कुछ की शोहरत में आईपीएल से इजाफा हुआ, तो किसी के लिए यह हार्ड लक साबित हुआ. आइए जानते हैं ऐसे ही भाइयों के बारे में.

प्रभसिमरन सिंह-अनमोलप्रीत सिंह

प्रभसिमरन और अनमोलप्रीत सिंह.
प्रभसिमरन और अनमोलप्रीत सिंह. दोनों चचेरे भाई हैं.

दोनों पंजाब से आते हैं. दोनों चचेरे भाई हैं. 20 साल के प्रभसिमरन सिंह विकेटकीपर बल्लेबाज हैं. उन्हें आईपीएल 2019 की नीलामी में किंग्स इलेवन पंजाब ने 4.80 करोड़ रुपये की मोटी रकम में खरीदा था. उस समय तक उन्होंने घरेलू क्रिकेट में पंजाब के लिए भी डेब्यू नहीं किया था. आईपीएल 2019 में उन्हें एक ही मैच में खेलने का मौका मिला. इसमें उन्होंने 16 रन बनाए थे. प्रभसिमरन सिंह को तेज-तर्रार बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है. लेकिन अभी उन्हें खुद को साबित करना है.

अनमोलप्रीत सिंह 22 साल के हैं. उन्हें आईपीएल 2019 में मुंबई इंडियंस ने 80 लाख रुपये में खरीदा था. हालांकि अभी उन्हें डेब्यू करने का मौका नहीं मिला है. वे दाएं हाथ के बल्लेबाज हैं. वे पंजाब के लिए 27 फर्स्ट क्लास मैच खेल चुके हैं. इसमें उनके नाम 1691 रन हैं.

टॉम करन-सैम करन

सैम करन (बाएं) और टॉम करन के भाई बेन करन भी क्रिकेटर हैं.
सैम करन (बाएं) और टॉम करन के भाई बेन करन भी क्रिकेटर हैं.

दोनों इंग्लैंड के लिए खेल चुके हैं. आईपीएल में टॉम करन अभी राजस्थान रॉयल्स के साथ हैं. उन्होंने 2018 में आईपीएल डेब्यू किया था. कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए. पहले सीजन में पांच मैच खेले थे और छह विकेट लिए थे. साल 2019 में आईपीएल नहीं खेले. इसके बाद केकेआर ने उन्हें रिलीज कर दिया. अगली नीलामी में राजस्थान ने बोली लगाई. आईपीएल 2020 में अभी तक ठीकठाक खेल दिखाया है. तीन मैचों में 91 रन बनाने के साथ ही तीन विकेट भी लिए हैं.

22 साल के सैम करन चेन्नई सुपर किंग्स के साथ हैं. वे टीम के सबसे युवा प्लेयर हैं. उन्होंने आईपीएल की यात्रा किंग्स इलेवन पंजाब के साथ शुरू की. साल 2019 से. पहले सीजन में नौ मैच खेलने को मिले. 10 विकेट हाथ लगे. फिर पंजाब ने रिलीज कर दिया तो चेन्नई ने खरीद लिया. सीएसके के लिए आईपीएल 2020 के पहले ही मैच में यादगार प्रदर्शन किया. अभी तक इस सीजन में तीन मैच में पांच विकेट ले चुके हैं.

दीपक चाहर-राहुल चाहर

राहुल चाहर और दीपक चाहर. दोनों अभी आईपीएल में हॉट प्रोपर्टी है.
राहुल चाहर और दीपक चाहर. दोनों अभी आईपीएल में हॉट प्रोपर्टी है.

दोनों चचेरे भाई हैं. दीपक चाहर चेन्नई सुपरकिंग्स में हैं, तो राहुल मुंबई के साथ हैं. दोनों ही अपनी-अपनी टीमों के लिए जरूरी खिलाड़ी हैं. दीपक तेज गेंदबाज हैं, तो राहुल लेग स्पिनर. घरेलू क्रिकेट में दोनों राजस्थान के लिए खेलते हैं. वैसे दोनों के ही परिवार मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आगरा के रहने वाले हैं. दीपक ने आईपीएल करियर की शुरुआत राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के साथ शुरू की. फिर जब यह टीम हटी, तो चेन्नई सुपरकिंग्स में शामिल हो गए. आईपीएल 2018 और 2019 में सीएसके के शानदार प्रदर्शन में दीपक का अहम योगदान रहा. इस प्रदर्शन के चलते बाद में भारतीय क्रिकेट टीम में भी जगह मिली. दीपक ने 37 आईपीएल मैच खेले. 36 विकेट लिए. 15 रन देकर तीन विकेट सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन.

वहीं राहुल चाहर ने साल 2017 में आईपीएल डेब्यू किया. राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के साथ. बाद में उन्हें मुंबई इंडियंस ने अपने साथ जोड़ लिया. आईपीएल 2019 में मुंबई के चैंपियन बनने में राहुल की बड़ी हिस्सेदारी थी. उन्होंने अब तक 17 आईपीएल मैच खेले. 19 विकेट लिए हैं. 19 रन देकर तीन विकेट सबसे बढ़िया प्रदर्शन रहा है. वे भी टीम इंडिया के लिए इंटरनेशनल टी20 मैच खेल चुके हैं.

हार्दिक पंड्या-क्रुणाल पंड्या

क्रुणाल बड़े और हार्दिक छोटे भाई हैं.
क्रुणाल बड़े और हार्दिक छोटे भाई हैं.

दोनों किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं. दिलचस्प बात यह है कि भाइयों की यह इकलौती जोड़ी है, जो हमेशा एक ही टीम से खेली है. हार्दिक और क्रुणाल कई साल से मुंबई इंडियंस के स्टार रहे हैं. दोनों ने आईपीएल के खेल के जरिए टीम इंडिया में भी जगह बनाई. हार्दिक आईपीएल 2015 से मुंबई के साथ हैं. उन्होंने अभी तक 69 मैच खेले हैं. 1115 रन बनाए हैं. साथ ही 42 विकेट चटकाए हैं. वे दाएं हाथ के बल्लेबाज के साथ होने के साथ ही दाएं हाथ के तेज गेंदबाज भी हैं. डेथ ओवर्स में बैटिंग उनकी पहचान हैं.

क्रुणाल आईपीएल 2016 से मुंबई इंडियंस से जुड़े. वे बाएं हाथ के स्पिनर और बल्लेबाज हैं. वे भी हार्दिक की तरह निचले क्रम के तूफानी बल्लेबाज हैं. उन्होंने अभी तक 58 आईपीएल मैच खेले हैं. 895 रन बनाए हैं और 41 विकेट लिए हैं. आईपीएल में हरफनमौला खेल की बदौलत वे भी टीम इंडिया में जगह बनाने में सफल रहे.

डेविड हसी-माइक हसी

माइक हसी और डेविड हसी अभी कोचिंग स्टाफ के हिस्सा हैं.
माइक हसी और डेविड हसी अभी कोचिंग स्टाफ के हिस्सा हैं.

दोनों ऑस्ट्रेलिया से आते हैं. माइक और डेविड दोनों का आईपीएल में अच्छा खासा रुतबा रहा है. आईपीएल के पहले सीजन से ही दोनों ने इसमें जगह बना ली थी. बाएं हाथ के बल्लेबाज माइक ने आईपीएल डेब्यू चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ किया था. पहले ही मैच में उन्होंने शतक ठोक दिया था. आईपीएल 2013 में उन्होंने 733 रन उड़ाए और ऑरेंज कैप जीती थी. ऑरेंज कैप आईपीएल में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले को दी जाती है. अगले साल यानी आईपीएल 2014 में माइक हसी मुंबई के लिए खेले. लेकिन 2015 में फिर से चेन्नई के साथ आ गए. बाद में रिटायर होकर चेन्नई के कोचिंग स्टाफ से जुड़ गए. अभी टीम के बैटिंग कोच हैं. माइक हसी ने आईपीएल में 59 मैच खेले. इनमें उनके नाम 1977 रन रहे.

वहीं डेविड हसी ने आईपीएल करियर कोलकाता नाइटराइडर्स के साथ शुरू किया. चार साल तक इस टीम के साथ रहे. आईपीएल 2012 में में वे किंग्स इलेवन पंजाब से जुड़ गए. बाद में चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से भी इस टूर्नामेंट में खेले. पंजाब के लिए तो कुछ मैचों में कप्तानी भी की. आईपीएल 2014 के बाद दाएं हाथ के बल्लेबाज डेविड हसी इस टूर्नामेंट से दूर हो गए. हालांकि आईपीएल 2020 से उनकी वापसी हुई. मेंटर के रूप में. वे अभी केकेआर के मेंटर के रूप में आईपीएल का हिस्सा हैं. उन्होंने आईपीएल में 64 मुकाबले खेले. 1322 रन बनाए और आठ विकेट लिए.

इरफान पठान-यूसुफ पठान

युसुफ और इरफान पठान दोनों कभी आईपीएल में साथ नहीं खेले.
यूसुफ और इरफान पठान, दोनों कभी आईपीएल में साथ नहीं खेले.

गुजरात के वड़ोदरा से आने वाले दोनों भाई पहले सीजन में ही आईपीएल का हिस्सा बन गए थे. लेकिन दोनों हमेशा एक-दूसरे की विरोधी टीमों में ही रहे. बाएं हाथ के पेसर इरफान पठान किंग्स इलेवन पंजाब के साथ जुड़े. करीब चार साल तक वे इस टीम के साथ रहे. हालांकि वे कभी भी टूर्नामेंट में अपने खेल से आग नहीं लगा सके. 10 साल के आईपीएल करियर में इरफान छह टीमों से खेले. इनके नाम हैं- किंग्स इलेवन पंजाब, दिल्ली डेयरडेविल्स, चेन्नई सुपरकिंग्स, सनराइजर्स हैदराबाद, राइजिंग पुणे सुपरजाएंट और गुजरात लॉयंस. आखिरी बार आईपीएल 2017 में गुजरात लॉयंस की ओर से खेले थे. इसके बाद उन्हें किसी टीम ने नहीं खरीदा. उन्होंने 103 आईपीएल मैच खेले. 1139 रन बनाए और 80 विकेट लिए.

यूसुफ पठान ने राजस्थान रॉयल्स के साथ आईपीएल में कदम रखा. पहले तीन साल वे इसी टीम में रहे. पहले सीजन में जब राजस्थान ने आईपीएल जीता था, तब यूसुफ ने गेंद और बल्ले, दोनों से कमाल किया था. यूसुफ ने इस टूर्नामेंट में कई यादगार आक्रामक पारियां खेलीं. बाद में वे करीब सात साल तक कोलकाता नाइटराइडर्स की ओर से खेले. हालांकि यहां वे राजस्थान जैसा खेल नहीं दिखा पाए. लेकिन केकेआर टीम के अहम खिलाड़ी थे. आईपीएल 2018 में वे सनराइजर्स हैदराबाद में शामिल हो गए. लेकिन आईपीएल 2020 से पहले उन्हें रिलीज कर दिया गया. फिर उन्हें किसी ने नहीं खरीदा. उन्होंने 174 आईपीएल मैच खेले. 3204 रन बनाए. 42 भी चटकाए.

ब्रेंडन मैक्लम-नेथन मैक्लम

ब्रेंडन और नेथन मैक्लम की आईपीएल कहानी एकदम उलट रही है.
ब्रेंडन और नेथन मैक्लम की आईपीएल कहानी एकदम उलट रही है.

दोनों न्यूजीलैंड से आते हैं. ब्रेंडन और नेथन के लिए आईपीएल करियर एकदम उलट-पुलट रहा. ब्रेंडन हमेशा इस टूर्नामेंट में डिमांड में रहे, जबकि नेथन हमेशा किनारे के खिलाड़ी ही रहे. ब्रेंडन ने शुरुआत कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ ही. टूर्नामेंट के पहले ही मैच में शतक फोड़कर इतिहास रच दिया. इसमें 73 गेंदें खेलीं और 13 छक्कों की मदद से नाबाद 158 रन बना डाले. बाद में टीम के कप्तान भी बने. लेकिन कामयाबी नहीं मिली. तीन साल साथ रहने के बाद 2011 में कोच्चि टस्कर्स केरला में शामिल हो गए. यह टीम ज्यादा दिन खेल नहीं पाई. ऐसे में उन्हें एमएस धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स में जगह मिल गई. यहां भी उन्होंने अच्छे-खासे रन बनाए. जब सीएसके बैन हुई, तो ब्रेंडन मैक्लम गुजरात लॉयंस का हिस्सा बने. फिर आरसीबी के लिए भी खेले. अब वे कोलकाता नाइट राइडर्स के मुख्य कोच हैं. उन्होंने आईपीएल में 109 मैच खेले. 2800 रन बनाए. टूर्नामेंट में उनके नाम दो शतक और 13 अर्धशतक रहे.

नेथन मैक्लम ने आईपीएल की शुरुआत सहारा पुणे वॉरियर्स के साथ की. यहां दो ही मैच खेलने को मिले. फिर सनराइजर्स हैदराबाद में जगह मिली. लेकिन खेलने का मौका नहीं. इसके बाद नेथन मैक्लम के आईपीएल करियर पर हमेशा के लिए ब्रेक लग गए. वे दाएं हाथ के बल्लेबाज और उपयोगी गेंदबाज थे. लेकिन आईपीएल में वे छाप नहीं छोड़ पाए. दो मैचों में उनके नाम 26 रन रहे. उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला.

एल्बी मॉर्केल-मोर्ने मॉर्केल

एल्बी मॉर्कल और मोर्न मॉर्कल दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के लिए भी खेले हैं
एल्बी मॉर्कल और मोर्न मॉर्कल दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के लिए भी खेले हैं

दक्षिण अफ्रीका से आते हैं. एल्बी मॉर्कल ऑलराउंडर थे. वे बाएं हाथ के बल्लेबाज और दाएं हाथं के पेसर थे. उनका आईपीएल करियर चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ शुरू हुआ. 2010 और 2011 में आईपीएल जीतने वाली सीएसके टीम के वे हिस्सा थे. चेन्नई के लिए उन्होंने कई यादगार पारियां खेलीं. साथ ही बढ़िया गेंदबाजी भी की. छह साल तक वे सीएसके का हिस्सा रहे. फिर आरसीबी, दिल्ली डेयरडेविल्स और राइजिंग पुणे सुपरजाएंट की ओर से भी खेले. आईपीएल 2016 के बाद वे इस टूर्नामेंट में से बाहर हैं. कई बार बोली में नाम दिया, लेकिन किसी ने दांव नहीं लगाया. एल्बी मॉर्कल ने आईपीएल में 91 मैचों में 974 रन बनाए और 85 विकेट लिए.

मोर्ने मॉर्कल मुख्य रूप से तेज गेंदबाज थे. वे 2009 में आईपीएल से जुड़े. शुरू में राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा रहे. फिर दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए भी खेले. इस टीम की ओर से खेलते हुए आईपीएल 2012 में वे पर्पल कैप के विजेता बने. पर्पल कैप एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बॉलर को मिलती है. मॉर्कल बाद में कोलकाता नाइट राइडर्स में शामिल हुए. इस टीम के लिए उन्होंने कई शानदार बॉलिंग स्पेल डाले. और 2014 में विजेता टीम के हिस्सा भी बने. वे भी आखिरी बार आईपीएल 2016 में खेले थे. उन्होंने 70 मैचों में 77 विकेट लेने के साथ ही 126 रन भी बनाए.

ड्वेन ब्रावो-डेरेन ब्रावो

डेरेन और ड्वेन ब्रावो.
डेरेन और ड्वेन ब्रावो वेस्टइंडीज के खिलाड़ी हैं.

दोनों वेस्टइंडीज के क्रिकेटर हैं. आईपीएल में इन दोनों की कहानी भी मैक्लम भाइयों जैसी ही रही है. यानी एक हिट और दूसरा फ्लॉप. ड्वेन ब्रावो इसमें हिट रहे, जबकि डेरेन को नाकामी मिली. ड्वेन साल 2008 से ही आईपीएल का हिस्सा है. पहले कई साल तक वे मुंबई इंडियंस का हिस्सा रहे. वहां से जब रिलीज हुए, तो चेन्नई ने उन्हें अपने से जोड़ लिया. बीच में दो साल के लिए गुजरात लायंस के लिए भी खेले. अभी वे चेन्नई टीम के अहम किरदार हैं. गेंद और बल्ले, दोनों से उन्होंने टीम के लिए गजब का खेल दिखाया है. ड्वेन ब्रावो ने अभी तक 134 आईपीएल मैच खेले हैं. 1483 रन बनाने के साथ ही 147 विकेट भी ले चुके हैं.

वहीं डेरेन ब्रावो पहली बार आईपीएल में साल 2012 में खेले. डेक्कन चार्जर्स ने उन्हें खरीदा. खेलने का मौका नहीं मिला. आईपीएल 2017 में केकेआर से जुड़े, लेकिन एक ही मैच खेलने को मिला. फिर यहां से भी टाटा, बाय-बाय हो गया. इसके बाद किसी और टीम ने उन पर दांव नहीं लगाया. डेरेन के नाम आईपीएल में केवल पांच रन हैं.

शॉन मार्श-मिचेल मार्श

शॉन मार्श और मिचेल मार्श ने एक साथ ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट खेला है.
शॉन मार्श और मिचेल मार्श ने एकसाथ ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट खेला है.

दोनों ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर हैं. शॉन मार्श बल्लेबाज हैं, जबकि मिचेल मार्श ऑलराउंडर. शॉन ने पहले सीजन से ही आईपीएल में कदम रख दिया था. किंग्स इलेवन पंजाब ने उन्हें खरीदा. इसके बाद हमेशा इसी टीम से आईपीएल में खेले. शॉन मार्श ने पहले ही सीजन में ऑरेंज कैप जीती थी. उन्होंने 11 मैचों में 616 रन बनाए थे. आईपीएल में उनका प्रदर्शन जबरदस्त रहा. लेकिन पंजाब के खिताब न जीतने की वजह से ज्यादा नाम नहीं कमा सके. हालांकि आईपीएल 2017 के बाद से उन्हें किसी टीम ने नहीं खरीदा. उन्होंने आईपीएल में 71 मैच खेले. 2477 रन बनाए. इसमें एक शतक और 20 अर्धशतक शामिल रहे.

वहीं मिचेल मार्श की कहानी एकदम उलट रही. उन्होंने साल 2010 में सहारा पुणे वॉरियर्स के साथ आईपीएल की यात्रा शुरू की. फिर आईपीएल 2013 में डेक्कन चार्जर्स से जुड़े. बाद में राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के साथ रहे. लेकिन कभी भी वे छाप नहीं छोड़ सके. उनका खेल चोटों से भी बाधित रहा. आईपीएल 2020 में सनराइजर्स हैदराबाद ने उन्हें साथ मिलाया. लेकिन पहले ही मैच में चोटिल होकर टूर्नामेंट से बाहर हो गए. उन्होंने कुल 21 मैच खेले हैं. 225 रन बनाने के साथ ही 20 विकेट ले सके हैं.


Video: राहुल तेवतिया, जो इन दो ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर की वजह से ‘पहचान’ में आए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.