Submit your post

Follow Us

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

मई का यही महीना था, तारीख़ थी 16 मई और साल था 2003. जब मल्टीप्लेक्स कल्चर से दूर खड़े सिंगल स्क्रीन सिनेमा घरों में एक फ़िल्म रिलीज़ हुई. नाम था ‘हासिल’. अब के ‘पान सिंह तोमर’ वाले तिग्मांशु धूलिया ने तब के बम्बईया बॉलिवुड को दर्शन कराए इलाहाबाद के. पहली बार लोगों ने ठेठ इलाहाबादी में वो डायलॉग सुने जो उन्हें अपने आस-पास के लोगों से दिन रात सुनने को मिलते रहे थे.

हासिल के 17 सालों बाद तक इसके जानदार डायलॉग लोग-बाग़ गाहे-बगाहे बोलते रहते हैं. आइए आज सुनें वो 10 संवाद जिन्हें आज भी याद किया जाता है –

1# तुमको याद रखेंगे गुरु हम, आई लाइक आर्टिस्ट

-रणविजय

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 1

2# वो साले गुंडे हैं, सरकारी गुंडे हैं. हम क्रांतिकारी हैं, गुरिल्ला वार किया जाएगा

-रणविजय

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 2

3# छात्र नेता हैं, मारे साला सीटी दस हज़ार लौंडा इकठ्ठा हो जायेगा

-रणविजय

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 3

4# एक बात सुन लेओ पण्डित, तुमसे गोली वोली न चल्लई. मंतर फूंक के मार देओ साले…

-रणविजय

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 4

5# तो कम कर दिए जाओगे. दो मिनट का मौन होगा तोहरी याद में.

-गौरीशंकर पांडे

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 5

6# माईसेल्फ, बद्रीशंकर. आएम यंगर ब्रदर ऑफ़ करेंट प्रेसिडेंट ऑफ़ युन्बस्टी. इफ यू प्लीज़ यू कैन गिव मी वोट…आई कैन गिब यू…

-बद्री

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 6

7# ब्राह्मणों, जनेऊ की कसम खाओ, बद्री पाण्डे को ही वोट दोगे…

-बद्री

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 7

8# और तुम्हीं से चलवाएंगे गोली …तुम्हीं चलाना

-गौरीशंकर पांडे

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 8

9# तुम इलेक्शन जीतने में इंट्रेस्टेड नहीं लगते हमको, सिर्फ़ इसी लड़की का वोट मिल जाए यही बहुत है तुम्हारे लिए

-गौरीशंकर पांडे

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 9

10# हम कपड़ा ओपड़ा सिलवा लिए, सुबह से पहन के बैठे हैं…अब का कहें उनको कि हमारी दुल्हन भाग गई

-रणविजय

फ़िल्म – हासिल (16 मई 2003)

Hasil 10


ये वीडियो भी देखें:

यूपी की मशहूर कठपुतली के किरदारों से अमिताभ-आयुष्मान की फिल्म का क्या कनेक्शन है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

इरफ़ान के ये विचार आपको ज़िंदगी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगे

उनकी टीचर ने नीले आसमान का ऐसा सच बताया कि उनके पैरों की ज़मीन खिसक गई.

'पैरासाइट' को बोरिंग बताने वाले बाहुबली फेम राजामौली क्या विदेशी फिल्मों की नकल करते हैं?

ऐसा क्यों लगता है कि आरोप सही हैं.

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.