Submit your post

Follow Us

फ़िल्म रिव्यू: 'तेरे बिन लादेन' के बिन सब कुछ ठीक था

44
शेयर्स

क्लास 8th तक स्कूल में आर्ट का भी सब्जेक्ट था. हम बहुत बर्बाद थे इस सब्जेक्ट में. तो करते ये थे कि एक पन्ने पे कुछ-कुछ बना देते थे. और दोस्तों को दिखा देते थे. किसी और को नहीं. टीचर को भी नहीं.
तेरे बिन लादेन एक पन्ने पे बना वही कुछ-कुछ है जो डाइरेक्टर अभिषेक शर्मा को सिर्फ़ अपने यार-दोस्तों को दिखा देना चाहिए था. लोगों को थियेटर तक बुलाने की ज़हमत क्यों उठाई? सवाल सीधा है.

giphy2
फिल्म देखने के दो तरीके होते हैं. पिक्चर हॉल में जाओ, या लैपटॉप पे देखो. ये वाली लैपटॉप पे देखने वाली फ़िल्म है. सही में.

फिल्म में दो चीज़ें देखने लायक हैं. पियूष मिश्रा और इमान क्रॉसन. इमान ने क्या किया है, ये नहीं बताएंगे. पियूष मिश्रा आतंकवादी बने हैं.

बाकी ऐक्टर ऐसे हैं कि उनके बारे में बात भी करें तो क्या? टीवी से फिल्म में आये मनीष पॉल को तो जाने ही दीजिये. सिकंदर खेर को सिंकंदर खेर बनने में ही काफी टाइम लगता है. तब तक मैं एक नींद पूरी कर चुका था. प्रधुमन सिंह ज़रूर जंचते हैं फेक ओसामा के रोल में.

_da1f9778-beaa-11e5-bf87-369b775511f2

फिल्म अलग है लेकिन पकी नहीं है. हल्की है. इसे एक्सपेरिमेंट कहें तो अच्छा होगा. जो पॉलिटिकल ऐंगल खंगालते हैं उन्हें फ़िल्म लेफ्टिस्ट लगेगी.
एक अच्छी चीज़, वो ये कि डायरेक्टर अभिषेक शर्मा ने बॉलीवुड के लिए अपने अन्दर की भड़ास ज़रूर निकालने की हर मुमकिन कोशिश की है.

giphy1

फिल्म में गानों जैसा कुछ भी नहीं है. हाँ अली जाफ़र को शर्टलेस ज़रूर नचाया है. ॐ शांति ॐ के शाहरुख़ की याद आ गयी थी. दर्द-ए-डिस्को वाला. पियूष मिश्रा की आवाज़ में एक छोटा सा टुकड़ा है. फनी है.

giphy

फ़िल्म की जो एक बात अच्छी है वो है टेक्निकल लोगों के लिए. उसकी एडिटिंग. लेकिन खाली एडिटिंग से होगा क्या?

सब कुछ नट-शेल में रक्खें तो अच्छा होता कि ये कोई थियेटर का ऐक्ट होता या किसी स्टैंड-अप कॉमेडी का ऐक्ट होता, या कोई सेटायरिकल लेख होता. ऐसी चीज़ों को फिल्मों में कन्वर्ट करने के लिए जिस पागलपन की ज़रुरत है, उस पागलपन में काफ़ी ज़्यादा कमी रह गयी. और हां, हम सभी जानते हैं कि फिल्मों में पागलपन पर किस तरह से सेंसर बोर्ड की कैंची चलती है.

फ़िल्म बहुत ही छोटे-छोटे हिस्से में फनी है. वो हिस्से इतने छोटे हैं कि कब निकल जाते हैं मालूम भी नहीं चलता.
खैर, पैसे बचाओ. फिल्म का टोरेंट पर आने का इंतज़ार करो. वो भी न देखो तो भी चलेगा. कोई सिलेबस में थोड़ी न है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
film review: Tere Bin Laden starring piyush mishra, manish paul, sikander kher, pradhuman singh

10 नंबरी

'जियो वाले, रिलायंस वाले सब सुन लें, कानेपुर से अन्नू अवस्थी बोल रहे हैं'

व्हॉट्स अप पर खूब वायरल हुआ था इनका ऑडियो, अब नए पोस्टर के साथ आए हैं

'ठग्स ऑफ़ हिंदुस्तान' के पिटने के बाद आमिर खान अब लाल सिंह चड्ढा बना रहे हैं

ये एक धांसू हॉलीवुड फिल्म का रीमेक है. जिसमें आमिर सरदार का रोल करने वाले हैं.

इस भयानक वाली कल्ट क्लासिक फिल्म को दोबारा बनाया गया

ये नसीरुद्दीन शाह की उन फिल्मों से है, जिनकी वजह से उन्हें याद किया जाता है.

स्टीफन हॉकिंग की मौत की तारीख से जुड़े संयोग पर विश्वास नहीं होता!

पढ़िए स्टीफन के 6 और कुल 12 कोट्स जो वैज्ञानिकों को एक अच्छा फिलॉसोफर भी सिद्ध करती हैं

तीन फिल्मों की अनाउंसमेंट के बाद अब मोदी पर वेब सीरीज़ आ रही है

मोदी का रोल 'हम साथ साथ हैं' का ये एक्टर निभा रहा है.

कलंक टीज़र: सांड से लड़ते वरुण धवन को देखकर पसीना छूट जाता है.

संजय दत्त और माधुरी दीक्षित को एक ही फ्रेम में देखकर आंखों में चमक आ जाती है.

गार्ड ने वो बेवकूफी न की होती, तो आनंद के हीरो किशोर कुमार होते

बड़ी मुश्किल से 'आनंद' राजेश खन्ना को मिली थी.

'बागबान' में काम कर चुकी इस एक्ट्रेस को पीटता है उसका पति!

पहले मुंह पर थूका, मना करने पर फिर से वही काम किया.

40 शतक के बाद कोहली सचिन के इतने करीब पहुंच गए, पता भी नहीं चला

दूसरे वनडे में कोहली ने 6 रिकॉर्ड भी बना डाले.