Submit your post

Follow Us

फ़िल्म रिव्यू: 'तेरे बिन लादेन' के बिन सब कुछ ठीक था

क्लास 8th तक स्कूल में आर्ट का भी सब्जेक्ट था. हम बहुत बर्बाद थे इस सब्जेक्ट में. तो करते ये थे कि एक पन्ने पे कुछ-कुछ बना देते थे. और दोस्तों को दिखा देते थे. किसी और को नहीं. टीचर को भी नहीं.
तेरे बिन लादेन एक पन्ने पे बना वही कुछ-कुछ है जो डाइरेक्टर अभिषेक शर्मा को सिर्फ़ अपने यार-दोस्तों को दिखा देना चाहिए था. लोगों को थियेटर तक बुलाने की ज़हमत क्यों उठाई? सवाल सीधा है.

giphy2
फिल्म देखने के दो तरीके होते हैं. पिक्चर हॉल में जाओ, या लैपटॉप पे देखो. ये वाली लैपटॉप पे देखने वाली फ़िल्म है. सही में.

फिल्म में दो चीज़ें देखने लायक हैं. पियूष मिश्रा और इमान क्रॉसन. इमान ने क्या किया है, ये नहीं बताएंगे. पियूष मिश्रा आतंकवादी बने हैं.

बाकी ऐक्टर ऐसे हैं कि उनके बारे में बात भी करें तो क्या? टीवी से फिल्म में आये मनीष पॉल को तो जाने ही दीजिये. सिकंदर खेर को सिंकंदर खेर बनने में ही काफी टाइम लगता है. तब तक मैं एक नींद पूरी कर चुका था. प्रधुमन सिंह ज़रूर जंचते हैं फेक ओसामा के रोल में.

_da1f9778-beaa-11e5-bf87-369b775511f2

फिल्म अलग है लेकिन पकी नहीं है. हल्की है. इसे एक्सपेरिमेंट कहें तो अच्छा होगा. जो पॉलिटिकल ऐंगल खंगालते हैं उन्हें फ़िल्म लेफ्टिस्ट लगेगी.
एक अच्छी चीज़, वो ये कि डायरेक्टर अभिषेक शर्मा ने बॉलीवुड के लिए अपने अन्दर की भड़ास ज़रूर निकालने की हर मुमकिन कोशिश की है.

giphy1

फिल्म में गानों जैसा कुछ भी नहीं है. हाँ अली जाफ़र को शर्टलेस ज़रूर नचाया है. ॐ शांति ॐ के शाहरुख़ की याद आ गयी थी. दर्द-ए-डिस्को वाला. पियूष मिश्रा की आवाज़ में एक छोटा सा टुकड़ा है. फनी है.

giphy

फ़िल्म की जो एक बात अच्छी है वो है टेक्निकल लोगों के लिए. उसकी एडिटिंग. लेकिन खाली एडिटिंग से होगा क्या?

सब कुछ नट-शेल में रक्खें तो अच्छा होता कि ये कोई थियेटर का ऐक्ट होता या किसी स्टैंड-अप कॉमेडी का ऐक्ट होता, या कोई सेटायरिकल लेख होता. ऐसी चीज़ों को फिल्मों में कन्वर्ट करने के लिए जिस पागलपन की ज़रुरत है, उस पागलपन में काफ़ी ज़्यादा कमी रह गयी. और हां, हम सभी जानते हैं कि फिल्मों में पागलपन पर किस तरह से सेंसर बोर्ड की कैंची चलती है.

फ़िल्म बहुत ही छोटे-छोटे हिस्से में फनी है. वो हिस्से इतने छोटे हैं कि कब निकल जाते हैं मालूम भी नहीं चलता.
खैर, पैसे बचाओ. फिल्म का टोरेंट पर आने का इंतज़ार करो. वो भी न देखो तो भी चलेगा. कोई सिलेबस में थोड़ी न है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इस महिला दिवस इन 10 किताबों को अपनी लिस्ट में जोड़ लीजिए और फटाफट पढ़ लीजिए

स्त्री विमर्श और स्त्री सत्ता की संरचना को समझने के लिए हमने कुछ उपन्यासों को चुना है.

जब प्रेमचंद रुआंसे होकर बोले, 'मेरी इज्जत करते हो, तो मेरी ये फिल्म कभी न देखना.'

वो 5 मौके जब हिंदी के साहित्यकारों ने हिंदी फिल्मों में अपनी किस्मत आजमाई.

अक्षय ने 1.5 करोड़ डोनेट किए, अब शाहरुख़-सलमान समेत इन 5 एक्टर्स की चैरिटी भी जान लो

कुछ एक्टर्स तो दान-पुण्य करके उसके बारे में बात करना भी पसंद नहीं करते.

पवन सिंह का होली वाला नया गाना 'कमरिया' ऐसा क्या खास है, जो यूट्यूब की ऐसी-तैसी हो गई?

लगे हाथ ये भी जान लीजिए कि कौन-कौन से बॉलीवुड सुपरस्टार्स हैं, जिन्होंने भोजपुरी फिल्मों में काम किया है.

अभिजीत सावंत से सलमान अली तक, अब क्या कर रहे हैं इंडियन आइडल के ये विनर?

कई विनर्स तो म्यूजिक इंडस्ट्री से पूरी तरह से गायब हो चुके हैं.

श्रीदेवी के वो 11 गाने, जो उन्हें हमेशा ज़िंदा रखेंगे

इन गानों ने आज ख़ुशी देने की जगह रुला दिया है.

ट्रंप जिस कार को लेकर भारत आए हैं, उसकी ये 11 खासियतें एकदम बेजोड़ हैं

ट्रंप की इस कार का नाम है- The Beast.

आयुष्मान खुराना और जीतू से पहले ये 14 मशहूर बॉलीवुड एक्टर्स बन चुके हैं समलैंगिक

'शोले' से लेकर 'दोस्ती' मूवी के बारे में कुछ समीक्षक और विचारक जो कहते हैं, वो गे कम्युनिटी को और सक्षम करता है.

कैसा होता है अमेरिकी राष्ट्रपति का विमान 'एयर फोर्स वन', जिसका एक बार उड़ने का खर्चा सवा करोड़ है!

न्यूक्लियर अटैक हुआ, क्या तब भी राष्ट्रपति को बचा ले जाएगा ये विमान?

'उड़ी' बनाने वाले अब कंगना को लेकर धांसू वॉर मूवी 'तेजस' बना रहे हैं

जानिए मूवी से जुड़ी 5 ख़ास बातें.