Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

फ़िल्म रिव्यू: 'तेरे बिन लादेन' के बिन सब कुछ ठीक था

44
शेयर्स

क्लास 8th तक स्कूल में आर्ट का भी सब्जेक्ट था. हम बहुत बर्बाद थे इस सब्जेक्ट में. तो करते ये थे कि एक पन्ने पे कुछ-कुछ बना देते थे. और दोस्तों को दिखा देते थे. किसी और को नहीं. टीचर को भी नहीं.
तेरे बिन लादेन एक पन्ने पे बना वही कुछ-कुछ है जो डाइरेक्टर अभिषेक शर्मा को सिर्फ़ अपने यार-दोस्तों को दिखा देना चाहिए था. लोगों को थियेटर तक बुलाने की ज़हमत क्यों उठाई? सवाल सीधा है.

giphy2
फिल्म देखने के दो तरीके होते हैं. पिक्चर हॉल में जाओ, या लैपटॉप पे देखो. ये वाली लैपटॉप पे देखने वाली फ़िल्म है. सही में.

फिल्म में दो चीज़ें देखने लायक हैं. पियूष मिश्रा और इमान क्रॉसन. इमान ने क्या किया है, ये नहीं बताएंगे. पियूष मिश्रा आतंकवादी बने हैं.

बाकी ऐक्टर ऐसे हैं कि उनके बारे में बात भी करें तो क्या? टीवी से फिल्म में आये मनीष पॉल को तो जाने ही दीजिये. सिकंदर खेर को सिंकंदर खेर बनने में ही काफी टाइम लगता है. तब तक मैं एक नींद पूरी कर चुका था. प्रधुमन सिंह ज़रूर जंचते हैं फेक ओसामा के रोल में.

_da1f9778-beaa-11e5-bf87-369b775511f2

फिल्म अलग है लेकिन पकी नहीं है. हल्की है. इसे एक्सपेरिमेंट कहें तो अच्छा होगा. जो पॉलिटिकल ऐंगल खंगालते हैं उन्हें फ़िल्म लेफ्टिस्ट लगेगी.
एक अच्छी चीज़, वो ये कि डायरेक्टर अभिषेक शर्मा ने बॉलीवुड के लिए अपने अन्दर की भड़ास ज़रूर निकालने की हर मुमकिन कोशिश की है.

giphy1

फिल्म में गानों जैसा कुछ भी नहीं है. हाँ अली जाफ़र को शर्टलेस ज़रूर नचाया है. ॐ शांति ॐ के शाहरुख़ की याद आ गयी थी. दर्द-ए-डिस्को वाला. पियूष मिश्रा की आवाज़ में एक छोटा सा टुकड़ा है. फनी है.

giphy

फ़िल्म की जो एक बात अच्छी है वो है टेक्निकल लोगों के लिए. उसकी एडिटिंग. लेकिन खाली एडिटिंग से होगा क्या?

सब कुछ नट-शेल में रक्खें तो अच्छा होता कि ये कोई थियेटर का ऐक्ट होता या किसी स्टैंड-अप कॉमेडी का ऐक्ट होता, या कोई सेटायरिकल लेख होता. ऐसी चीज़ों को फिल्मों में कन्वर्ट करने के लिए जिस पागलपन की ज़रुरत है, उस पागलपन में काफ़ी ज़्यादा कमी रह गयी. और हां, हम सभी जानते हैं कि फिल्मों में पागलपन पर किस तरह से सेंसर बोर्ड की कैंची चलती है.

फ़िल्म बहुत ही छोटे-छोटे हिस्से में फनी है. वो हिस्से इतने छोटे हैं कि कब निकल जाते हैं मालूम भी नहीं चलता.
खैर, पैसे बचाओ. फिल्म का टोरेंट पर आने का इंतज़ार करो. वो भी न देखो तो भी चलेगा. कोई सिलेबस में थोड़ी न है.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
film review: Tere Bin Laden starring piyush mishra, manish paul, sikander kher, pradhuman singh

10 नंबरी

इन पांच चुनौतियों को पार करें, तभी कोई चमत्कार दिखा पाएंगी प्रियंका गांधी वाड्रा

प्रियंका गांधी वाड्रा की कांग्रेस में ऑफिशियल एंट्री हो गई है.

जब मैदान पर सांप घुस आया, खेल रोकना पड़ा और बल्लेबाज बैट लेकर सांप को मारने दौड़ पड़ा

जानिए ऐसी ही 7 विचित्र घटनाएं जब अजीबोगरीब वजहों से मैच रोका गया.

ऑस्कर 2019 में नॉमिनेट हुई फिल्मों की लिस्ट यहां देखें

भारतीय समय अनुसार 25 फरवरी की सुबह 91वें ऑस्कर्स के विजेताओं को अवॉर्ड मिलेंगे.

परेश रावल के बेटे का अनुराग कश्यप करेंगे 'बमफाड़' डेब्यू

ये एक सोशल मैसेज देने वाली रोमांटिक फिल्म होगी.

इस सरकार और पिछली सरकार में फर्क जानना हो तो ये 7 फिल्में देखो!

रेलमंत्री ने सिर्फ 2 फिल्में बताई थीं लेकिन लिस्ट लंबी है.

'भूल भुलैया' के बाद अक्षय कुमार ये हॉरर कॉमेडी फिल्म करने जा रहे हैं

लोग कह रहे हैं कि ये साउथ की मूवी की कॉपी है. पर सच क्या है?

'आज फ़िर जीने की तमन्ना है', एक गीत, सात लोग और नौ किस्से

जिस गाने को लिखनेवाले ने इस अल्बम के लिए रेगुलर से कई गुना ज़्यादा पैसे मांग लिए थे. आज के दिन फिल्म 'गाइड' के डायरेक्टर विजय आनंद का बड्डे होता है.

कहानी राजू गाइड की, जिसने सबको धोखा दिया और अंत मे साधु बनकर गांव को बचा लिया

आज फिल्म के डायरेक्टर और देव आनंद के भाई विजय आनंद का बड्डे है.

'टोटल धमाल' का ट्रेलर देखकर पगलाने के लिए तैयार हो जाइए

'धमाल' सीरीज़ की इस तीसरी फिल्म में 20 से ज़्यादा एक्टर्स काम करते आएंगे नज़र. आमिर खान भी दिख सकते हैं .

पहले वो धोनी का फैन था, बाद में धोनी उसका फैन बना

आज रील लाइफ के धोनी का बर्थडे है, जानिए उनकी ज़िंदगी के कुछ सुने-अनसुने किस्से!