Submit your post

Follow Us

ओलंपिक की मशाल नहीं है EVM, जो एक हाथ से दूसरे हाथ चलती रही!

खेलों के सबसे बड़े आयोजन ‘ओलंपिक’ के आगाज से 100 दिन पहले एक मशाल जलाई जाती है. ये मशाल तमाम देशों से होते हुए गुज़रती है. एक हाथ से दूसरे हाथ होते हुए ये मशाल आगे बढ़ती है. लोग मशाल लेकर दौड़ लगाते हैं. ये ओलंपिक का ‘माहौल’ बनाने की कवायद होती है. फिर ये मशाल अपने गंतव्य तक पहुंच जाती है. उस शहर तक, जहां खेल होने हैं. वहां ओलंपिक पूरे होने तक ये मशाल जलती रहती है.

किसी क्षेत्र में होने वाले चुनाव कोई ओलंपिक तो है नहीं. EVM यानी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन कोई मशाल तो है नहीं. जो हाथ बदलते रहें और सफर चलता रहे. EVM को लाने-ले जाने के कुछ नियम-कायदे होते हैं. जिनका सख़्ती से पालन होना चाहिए. आज इसी पर बात करेंगे.

अब आप पूछ सकते हैं कि आज अचानक ये बताने की क्या सूझी? तो हम आपसे कहेंगे कि ख़बरें-वबरें पढ़ा करो.

उम्मीदवार की गाड़ी में EVM

बात एक अप्रैल, गुरुवार रात की है. 4 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में चल रहे विधानसभा चुनाव के बीच असम के पथरकंडी विधानसभा क्षेत्र में सफेद रंग की बोलेरो कार में EVM मिली. AS10 B 0022 नंबर की ये कार करीमगंज जिले की पथरकंडी सीट से विधायक और भाजपा उम्मीदवार कृष्णेंदु पॉल की है. उन्होंने अपने चुनावी हलफनामे में भी इसका जिक्र किया है. कांग्रेस, AIUDF जैसे दलों ने इस मामले को लेकर बीजेपी ही नहीं, चुनाव आयोग पर भी सवाल उठाए. हालांकि जो ईवीएम बीजेपी पथरकंडी से बीजेपी प्रत्याशी की गाड़ी में मिली है, वो राताबारी विधानसभा के पोलिंग स्टेशन संख्या 149 की है. चुनाव आयोग ने अब यहां दोबारा वोटिंग कराए जाने की बात कही है.

भाजपा नेता की कार में EVM मिलने के मामले पर निर्वाचन आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारी से पूरी तफसील रिपोर्ट तलब की है. 2 अप्रैल को आयोग ने लापरवाही बरतने के आरोप में 4 अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया. घटना की एफआईआर भी दर्ज कराई जा रही है. समाचार एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से अलग ही कहानी बताई है. उनके मुताबिक, इलेक्शन कमीशन की जिस गाड़ी से EVM ले जाई जा रहीं थीं, वह खराब हो गई थी. इस वजह से अधिकारियों ने एक गाड़ी में लिफ्ट ले ली. बाद में पता चला कि वो कार भाजपा कैडिडेट की है.

EVM से जुड़े कायदे

वोटिंग ख़त्म होने के बाद प्रीसाइडिंग ऑफिसर या पोलिंग ऑफिसर (PO) ये चेक कराता है कि वोटिंग लिस्ट और मशीन में पड़े वोटों की संख्या बराबर हो. संख्या बराबर होने पर PO और पोलिंग एजेंट के दस्तखत करके EVM को सील कर दिया जाता है. EVM स्ट्रॉन्ग रूम के लिए भेजी जाती है. पुलिस की सुरक्षा मिलती है. स्ट्रॉन्ग रूम पहुंचाकर इसे लॉकर में रखकर सील कर दिया जाता है. ये लॉकर मतगणना के दिन खुलता है.

ट्रांसपोर्टेशन के नियम

भारत के निर्वाचन आयोग ने EVM के रखरखाव और इस्तेमाल से जुड़ा मैनुअल तैयार किया है. इसके चैप्टर-4 में EVM के परिवहन (Transportation of EVM) का ज़िक्र है. इसके तहत EVM या VVPAT का ट्रांसपोर्टेशन EVM ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर (ETS) के माध्यम से ही किया जाना चाहिए. यानी EVM कहां है, इसकी लाइव ट्रैकिंग चलती रहे. ये भी लिखा है कि GPS ट्रैकिंग वाले वाहनों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

केवर कंटेनर टाइप के ट्रक या सीलबंद ट्रक में ही EVM को लाने-ले जाने का काम हो ताकि इनको लॉक और सीलबंद किया जा सके. साथ ही जिला निर्वाचन अधिकारी EVM के ट्रांसपोर्टेशन की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करवाएंगे.

जिला निर्वाचन अधिकारी की ज़िम्मेदारी

इन्हीं गाइडलाइंस में आगे लिखा है कि

EVM के जगह से दूसरी जगह तक पहुंचने के दौरान ट्रैकिंग, मॉनिटरिंग और मूवमेंट की ज़िम्मेदारी जिला निर्वाचन अधिकारी की होगी.

गाइडलाइंस में स्पष्ट तौर पर ये तो मेंशन नहीं है कि EVM ले जा रही गाड़ी ख़राब होने पर कौन व्यवस्था कराएगा. लेकिन जब ट्रैकिंग और मूवमेंट की ज़िम्मेदारी जिला निर्वाचन अधिकारी की तय कर दी गई है, तो ज़ाहिर सी बात है कि इस दौरान आने वाली हर समस्या से निपटने की व्यवस्था करना भी उन्हीं की ज़िम्मेदारी हुई. लेकिन असम के केस में स्पष्ट तौर पर ऐसा नहीं हुआ. कथित तौर पर जब गाड़ी ख़राब हो गई, तो लिफ्ट लेकर उसे दूसरी गाड़ी में रख दिया गया.


पश्चिम बंगाल चुनाव में जीत के लिए नकली EVM बनवा रही बीजेपी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

आप अपने देश की सेना को कितना जानते हैं?

कितना स्कोर रहा ये बता दीजिएगा.