Submit your post

Follow Us

फ्रांस के खुफिया दस्तावेजों में दफ़न था नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत का सच!

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत इतिहास की सबसे उलझाऊ गुत्थियों में से एक है. इतिहास के इस एक वाकये पर इतनी सारी कॉन्स्पिरेसी थ्योरी हैं कि कोई एक सिरा पकड़ पाना मुश्किल है. अक्सर नए-नए दावे आते रहते हैं. अब एक फ्रेंच इतिहासकार ने दावा किया है कि नेताजी जहाज दुर्घटना में नहीं मरे थे.

फ्रेंच इतिहासकार जे.बी.पी. मोरे ने फ्रांस की खुफिया सेवा के एक पुराने दस्तावेज के हवाले से ये दावा किया है. मोरे के मुताबिक नेशनल आर्काइव्ज ऑफ़ फ्रांस में मिले 11 दिसंबर, 1947 के एक दस्तावेज में नेताजी के जिंदा होने की बात कही गई है.

इकॉनोमिक टाइम को दिए बयान में मोरे ने कहा, “इस दस्तावेज में ये नहीं कहा गया है कि वो ताइवान में हुई प्लेन दुर्घटना में मारे गए थे. इसके उलट इसमें लिखा गया है कि फिलहाल बोस का पता-ठिकाना अज्ञात है. इसका मतलब है कि फ्रेंच खुफिया एजेंसिया इस बात से कोई इत्तेफ़ाक नहीं रखती थीं कि बोस 18 अगस्त, 1945 को ताइवान में मारे गए.”

वो अपने दावे को साफ़ करते हुए कहते हैं, “खुफिया एजेंसी के दस्तावेज के हिसाब से बोस भारत-चीन सीमा से फरार होने में कामयाब रहे थे. वहां से वो कहां गए, इसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है. लेकिन ये दस्तावेज कम से कम ये तो बताता ही है कि बोस 1947 के दिसंबर तक जिंदा थे.

subhash bose

बोस की मौत की गुत्थी सुलझाने के लिए सरकार तीन बार इस मामले की जांच करवा चुकी है. दुर्घटना के करीब 11 साल बाद 1956 में 3 सदस्यों वाली शाहनवाज कमिटी बनाई गई थी. इसने अपनी रिपोर्ट में नेताजी के विमान हदासे में मारे जाने की बात कही थी. 1970 में इंदिरा सरकार ने पंजाब हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस जी.डी. खोसला को इस मामले को सुलझाने का जिम्मा सौंपा. खोसला कमीशन ने भी शाहनवाज कमिटी के निष्कर्षों की पुष्टि की.

पिछली मई में सुभाष चंद्र बोस की मौत के कारणों पर डाली गई आरटीआई के जवाब में भी गृह मंत्रालय ने नेताजी के विमान हादसे में मारे जाने की बात कबूली है. हालांकि ज्यादातर लोग इस बात से बहुत इत्तफ़ाक नहीं रखते हैं. 1999 के मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट में नेता जी के ताइहोके एयरपोर्ट पर विमान दुर्घटना में मारे जाने की बात को स्वीकार किया था. उस समय इस बात पर बहुत बहस हुई थी.  मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट पर उपजे विवाद के बाद सरकार ने इस कमीशन की रिपोर्ट को ठंडे बस्ते डाल दिया था.

सुभाष चंद्र बोस की मौत पर एक मजबूत थ्योरी ये है कि उनकी मौत विमान हादसे के बहुत बाद में सोवियत रूस में हुई. हाल ही में गृह मंत्रालय ने उनकी मौत से जुड़े 37 दस्तावेजों को सार्वजानिक किया है. इस दस्तावेजों के हिसाब से आजादी के बाद करीब 20 साल तक नेहरू के कहने पर भारतीय खुफिया एजेंसी ने उनके परिवार वालों पर निगरानी रखी. यह तथ्य कई मायनों में चौंका देने वाला है. ये वही नेहरू थे जो 18 अगस्त 1945 को नेताजी की मौत की खबर सुन कर जार-जार रोए थे. जब आजाद हिन्द फ़ौज के सिपाहियों पर लाल किले में मुकदमा चला, तो 25 साल में पहली बार नेहरू ने बैरिस्टर की वर्दी पहन कर आजाद हिन्द फ़ौज के जवानों के पक्ष में जिरह की थी.

anujdhar

सुभाष चंद्र बोस की मौत पर ‘इंडियाज बिगेस्ट कवरअप’ लिखने वाले अनुज धर ने बीबीसी को दिए अपने इंटरव्यू में बताया था कि जब उन्होंने 2006 में प्रधानमंत्री कार्यालय से नेताजी के मौत से जुड़ी फाइलों को सार्वजानिक करने की मांग की थी, तब फाइलों को संवेदनशील कह कर उनकी मांग को टाल दिया गया था.

बोस की मौत अब भी राज बनी हुई है.


यह भी पढ़िए 

एक RTI पर मोदी सरकार ने वही जवाब दिया, जिसके लिए नेहरू पर शक किया गया था

नेताजी के आख़िरी सिपाही की मौत, जिनका पैर छू मोदी ने शुरू किया था अभियान

भारत की सबसे धाकड़ जासूस, जिसने गांधी-सुभाष को चौंका दिया था

‘सुभाष चंद्र बोस प्लेन से उतरे तो उनके कपड़े जल रहे थे, वो आग से घिरे हुए थे’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.