The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

चक्रवात मिचौंग अब 'गंभीर तूफ़ान' में बदला, चेन्नई में मरने वालों की संख्या 8 हुई

चक्रवात मिचौंग के चलते तमिलनाडु के चेन्नई में अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई है. सड़क पर मगरमच्छ है.

post-main-image
चेन्नई में सबसे ज्यादा हालात ख़राब हैं. (फोटो सोर्स- आजतक)

चक्रवात मिचौंग (Cyclone Michaung) के चलते तमिलनाडु (Tamilnadu) की राजधानी चेन्नई (Chennai) में भारी बारिश हुई है. तेज हवाएं चल रही हैं. और खराब मौसम के चलते अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 5 लोगों की मौत हो गई है. चेन्नई एयरपोर्ट (Chennai Airport) के रनवे पर पानी भरा हुआ है. जिसके चलते कई उड़ानें रद्द कर दी गईं हैं, कुछ फ्लाइट्स को डाइवर्ट किया गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक, सोमवार, 4 दिसंबर को मिचौंग चक्रवात एक गंभीर चक्रवाती तूफ़ान में बदल गया है.

खराब मौसम के चलते चेन्नई हवाई अड्डे पर आज सुबह 9 बजे तक उड़ानें रोक दी गई हैं. भारी बारिश के चलते चेन्नई शहर में पानी का भराव हो गया है. निचले इलाकों में जलस्तर काफी बढ़ गया है. एक जगह सड़क पर मगरमच्छ भी देखा गया.

8 लोगों की मौत

चेन्नई में कई मेट्रो स्टेशनों के आसपास जलभराव हो गया है. सेंट थॉमस मेट्रो स्टेशन पर 4 फीट तक पानी जमा है. स्टेशन में एंट्री का रास्ता बंद है. लोगों को अलंदूर में मेट्रो में चढ़ने को कहा गया है. सोमवार को चेन्नई पुलिस ने कहा कि उन्हें भारी बारिश के चलते शहर भर में पांच लोगों की मौत की रिपोर्ट मिली है. शहर के वैद्यनाथन फ्लाईओवर के पास एक प्लेटफॉर्म पर करीब 70 साल के एक अज्ञात व्यक्ति का शव मिला है. करीब 60 साल की एक महिला का शव फोरशोर एस्टेट बस डिपो में मिला है. उनकी पहचान नहीं हो पाई है. 

वहीं डिंडीगुल जिले में बिजली का झटका लगने से 50 साल के एक व्यक्ति, पद्मनाभन की मौत हो गई है. पांडियन नगर इलाके में रहने वाले 70 साल के गणेशन की अपने घर के पास टहलते समय बिजली की चपेट में आने से मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक, बेसेंट नगर में पेड़ गिरने से 35 साल के मुरुगन नाम के एक व्यक्ति की भी मौत हो गई है.

इंडिया टुडे से जुड़ी शिल्पा नायर की खबर के मुताबिक, कनाथूर इलाके में एक नवनिर्मित दीवार गिरने से दो लोगों की मौत हुई है. इनमें से एक व्यक्ति का भरत है, जिनकी उम्र 53 साल थी. इनके अलावा चुलैमेडु के सरकारी स्कूल में काम करने वाले 50 वर्ष के सेल्वम को भी बारिश के जमा पानी में मृत पाया गया. 

आगे हालात कैसे रहेंगे?

IMD के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना चक्रवाती तूफान 'मिचौंग' सोमवार को भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है. मिचौंग के सोमवार सुबह नेल्लोर और मछलीपट्टनम के बीच आंध्र प्रदेश के दक्षिणी तट को पार करने की उम्मीद है. इस दौरान तूफ़ान की अधिकतम गति 90-100 किमी प्रति घंटा से लेकर 110 किमी प्रति घंटा तक हो सकती है.

IMD ने 4 दिसंबर के लिए एक येलो वार्निंग जारी की थी और कहा था कि मलकानगिरी, कोरापुट, रायगड़ा, गजपति और गंजम में एक या दो स्थानों पर भारी बारिश (7 से 11 सेमी) होने की आशंका है. इन्हीं इलाकों में कुछ जगहों पर हल्की से मध्यम तक बारिश होने की आशंका है. इनके अलावा धमाल, नबरंगपुर, कालाहांडी, नयागढ़, खुर्दा, जगतसिंहपुर और कटक में कुछ जगहों पर और राज्य के बाकी इलाकों में एक या दो जगहों पर गरज के साथ बारिश हो सकती है.

5 दिसंबर के लिए IMD ने ऑरेंज वार्निंग जारी की है. और अनुमान लगाया है कि मलकानगिरी, कोरापुट, रायगड़ा, गजपति और गंजम जिलों में एक या दो जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश (forecast heavy to very heavy rainfall, 7 से 20 सेमी) हो सकती है. चक्रवात 'मिचौंग' का असर कोलकाता समेत पश्चिम बंगाल के दक्षिणी जिलों में महसूस किया जा सकता है. IMD ने कहा है कि 6 और 7 दिसंबर को पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, झाड़ग्राम, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, कोलकाता, हावड़ा और हुगली में हल्की से मध्यम बारिश होने की आशंका है.

तैयारियां क्या हैं?

तमिलनाडु सरकार ने चेन्नई, कांचीपुरम, तिरुवल्लूर और चेंगलपट्टू जिलों में सोमवार और मंगलवार को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है. 'मिचौंग' के मद्देनजर निजी कंपनियों के कर्मचारियों से 'घर से काम' करने का आग्रह किया गया है. दूध आपूर्ति और स्वास्थ्य से जुड़ी जैसी आवश्यक सेवाएं चालू रहेंगी. भारी बारिश के चलते उड़ानें प्रभावित हैं. अकासा एयर ने यात्रियों से, सफ़र के टिकट फिर से बुक करने का आग्रह किया है.

अकासा एयर ने X पर लिखा,

"सभी यात्री जो 4 दिसंबर से 10 दिसंबर के बीच चेन्नई से सफ़र नहीं कर पा रहे हैं, वे 17 दिसंबर या उससे पहले किसी भी तारीख के लिए बिना किसी अतिरिक्त खर्च के अपनी टिकट बुक कर सकते हैं."

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) ने तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में 21 टीमें तैनात की हैं और 8 अतिरिक्त टीमों को रिजर्व में रखा गया है. 4-6 दिसंबर के दौरान ओडिशा के दक्षिणी तटीय इलाकों में कई जगह भारी बारिश की आशंका है. जबकि 5 दिसंबर को इसी इलाके में अलग-अलग जगहों पर बहुत भारी बारिश होने की आशंका है. इन अनुमानों के चलते ओडिशा सरकार ने सभी तटीय और दक्षिणी जिलों के कलेक्टरों को अलर्ट पर रखा है और कृषि विभाग के तहत फील्ड कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं. ईस्ट कोस्ट रेलवे (ECOR) ने 60 ट्रेनें रद्द कर दी हैं और यात्रियों को मदद देने के लिए हेल्पलाइन शुरू की है.

वीडियो: ताऊ’ते तूफ़ान में घिरे बार्ज से निकलने को लोग छटपटाते रहे, लेकिन लाइफ बोट्स में छेद थे