Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

बिटिया को सदमे से बचाने के लिए नेहरू ने नहीं की दूसरी शादी

2.53 K
शेयर्स

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने आधुनिक भारत की नींव रखी. लेकिन उनका निजी जीवन भारी उथल-पुथल वाला रहा.

नेहरू की पत्नी कमला का देहांत 1936 में हो गया था. इसके बाद नेहरू का नाम कई महिलाओं से जोड़ा गया. इनमें देश के आखिरी वाइसरॉय की पत्नी एडविना माउंबेटेन भी थीं. वे दोस्त थे, करीब थे, ये बात सब जानते थे. लेकिन दावा किया जाता रहा कि उनके बीच दोस्ती से बढ़कर भी कुछ था. दावा तो यह भी है कि जिन्ना भी एडविना पर जान छिड़कते थे और तीनों के बीच ‘लव ट्राएंगल’ जैसा कुछ था.

Nehru edwina
एडविना संग नेहरू. फोटो: Henri Cartier-Bresson

एडविना के अलावा भारत की नाइटेंगेल कही जाने वाली सरोजिनी नायडू की बेटी पद्मजा नायडू से भी नेहरू के ‘खास’ रिश्ते रहे.

अपनी मां की मौत के बाद इंदिरा गांधी बहुत दुखी रहने लगी थीं. बताते हैं कि नेहरू ने पद्मजा से इसीलिए शादी नहीं की ताकि इंदिरा को और मानसिक कष्ट न हो. यह बात खुद नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित ने इंदिरा की करीबी दोस्त पुपुल जयकर को बताई थी.

Nehru with Indira

पुपुल जयकर ने इंदिरा की बायोग्राफी में लिखा है, ‘मां की मौत के बाद उन्होंने इर्द-गिर्द ऐसा परदा खींच लिया जिसके पीछे वे अपना दर्द छिपा सकें और दुनिया से ओट ले सकें.’

पुपुल लिखती हैं,

‘आधी सदी बाद मैंने विजयलक्ष्मी पंडित से नेहरू और पद्मजा के संबंधों के बारे में पूछा. उनका जवाब था, ‘तुम्हें क्या पता नहीं पुपुल कि वे वर्षों तक साथ रहे?’ यह पूछने पर कि उन्होंने पद्मजा से शादी क्यों नहीं की, उन्होंने जवाब दिया, ‘उन्हें लगा कि इंदु पहले ही बहुत सदमा झेल चुकी है, वे उसे और चोट नहीं पहुंचाना चाहते थे.’

नेहरू ने बाद में पद्मजा को बंगाल का राज्यपाल बना दिया था. वैसे खुसफुसाहट तो यह भी है कि पद्मजा की तस्वीरें नेहरू के कमरे में पाई गई थी, जिन्हें इंदिरा ने निकालकर फेंक दिया था. इस बात को लेकर बाप-बेटी में तनाव भी हुआ था. पता नहीं, यह बात कितनी सच है.


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए कुलदीप सरदार ने की थी.


वीडियो देखें:

ये भी पढ़ लीजिए:

जब नेहरू जी को रहना पड़ा था मवेशियों के रहने की जगह पर

इस देश में महामना के सिद्धांतों की रक्षा डीजे नाइट कैंसिल करवा कर की जाती है!

गुजरात का वो मुख्यमंत्री जिसने इस पद पर पहुंचने के लिए एक ज्योतिषी की मदद ली थी

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

इसीलिए वे अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

पीएम मोदी, ट्रिपल तलाक बुरा है, मगर औरतों के 'खतने' का दर्द और भी बुरा है

बचपन में बच्चियों के प्राइवेट पार्ट काट देना, ये कैसा रिवाज है?

माफ़ करिए, मुझे मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर पर गर्व नहीं है

न ही 'देश के लिए' ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतने वाली किसी और लड़की पर.

प्रियंका तनेजा उर्फ़ हनीप्रीत: गुरमीत की 'गुड्डी', जिसके बिना उसका एक मिनट भी नहीं कटता

मुंहबोली बेटी के लिए राम रहीम ने कोर्ट से चौंकाने वाली अपील की है.

जिसे हमने पॉर्न कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

अठारह वर्ष से ऊपर वाले दर्शकों/पाठकों के लिए.

17 साल की लड़की ने सड़क पर बच्चा डिलीवर किया, इसका जिम्मेदार कौन है?

विचलित करने वाला ये वीडियो हमारे समाज की नंगई दिखाता है.

इंसानी पाद के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारियां

जिन्हें लगता है कि लड़कियां नहीं पादतीं, वो ये ज़रूर पढ़ें.

'गुप्त रोगों' के इलाज के नाम पर की गई वो क्रूरता, जिसे हमेशा छिपाया गया

प्रेगनेंट औरतों, बीमार पुरुषों और अनाथ बच्चों के साथ अंग्रेज और अमेरिकी करते थे जघन्य हरकत.

औरत बने आदमी, और आदमी बनी औरत के बीच हुई अनोखी शादी

दो ऐसे लोगों की प्रेम कथा, जिन्हें आप आम भाषा में 'हिजड़ा' कह भगा देते हैं.

ट्विंकल खन्ना की ये क्रूरता बहुत घृणित है

अगर यही इन हाई-सोसायटी के महानगरी लोगों की संवेदनशीलता है तो बहुत निराश करने वाली है.

सौरभ से सवाल

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.