Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

हम लड़कियां हैं सर, हमारा होना ही एक रिस्क है

2.02 K
शेयर्स
Radhik1
राधिका

कानों में ईयरफोन खोंसे वह लड़की चली जा रही है. यह राजधानी की एक व्यस्त सड़क है. बगल से निकलती हैं गाड़ियां, बाइकसवार और पैदल यात्रियों के जत्थे. इस पराए शहर का एक हिस्सा इस वक्त उसके दाईं और बाईं ओर से गुजर रहा है. लेकिन वह निरपेक्ष भाव से बढ़ी जा रही है.

वह छात्रा होगी या नौकरीपेशा होगी. 18 की होगी या 28 की, क्या फर्क पड़ता है. लेकिन क्या वह अपने आस-पास गुजरते शहर को जी-भर देखने से कतराती है? क्या वह उन शक्लों, बल्कि उन आंखों का सामना करने से घबराती है? क्या वो यहां इस वक्त शहर की रंगीनियों से बेअसर दिखाई पड़ती है?

उस लड़की ने हमें कुछ लिख भेजा है. राधिका शर्मा का यह तजुर्बा पढ़ें, क्योंकि औरत का होना सिर्फ अंगों का होना नहीं है.


Claimer: नीचे जो कुछ लिखा है, ना ही काल्पनिक है और ना ही ओरिजिनल है, फॉर क्राइंग आउट लाउड. आखिर तक कोशिश रहेगी कि एट लीस्ट आपको बता पाऊं कि ये ओरिजिनल पीस ऑफ वर्क क्यों नहीं है.

तो दिक्कत क्या है? इस लेख की दिक्कत ये है की इसे कोई नहीं पढ़ेगा. और ऐसा इसलिए क्योंकि जब भी महिला सशाक्तिकरण के बारे में कोई लेख पढ़ो तो बैक हो जाता है या टैब बंद हो जाती है. ऐसा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि इतने सारे लोग इतनी सारी बातें बोल चुके हैं कि पढ़ने वाले को भी (चिंतन-मनन करने वाले को नहीं) लगता है कि अब क्या ही नई बात लिखी होगी. वही फेमिनिस्ट टाइप की, हमारी मांगें पूरी करो, हमें जीने दो, हमें हमारे हाल पे छोड़ दो टाइप्स.

लेकिन अगर कंफेशंस टाइप कुछ हों जिसमें किसी लड़की ने अपने sexcapades डिस्कस किए हों तो क्या ही कहने. ठीक है, ये बात भी इतनी हैरत की नहीं है. छेड़छाड़, एसिड अटैक्स, वॉर्डरोब मलफंक्शनिंग या रेप की ख़बर भी लगता है लोग शायद इसलिए पढ़ते हैं कि उनके अंदर लर्क करने वाले परवर्ट की क्षुधा शांत हो सके. डिटेल्स, यू सी.

डिग्रेस्स करने की इजाज़त चाहती हूं.

अब सड़क को ले लीजिये. कहने वाले इसे रास्ता भी कहते हैं पर हर रास्ते की मंज़िल हो और हर सड़क पक्की हो, ये एक्सपेक्टेशन कुछ ज़्यादा नहीं हुई?

मेरी मां अपने ज़माने का वाक़या बांटते हुए बोलीं, “एक लड़का रोज़ मुझे घर से कॉलेज और लौटाबाद छोड़ने आता था.” और इससे पहले मेरे सवालों की लड़ी आग पकड़ती उन्होंने मुझे “समझाया” कि चुप रहना पड़ता है.

जब भी जन्मभूमि से वापसी होती है, अम्मा हिदायतन मुझे बोल करती हैं, “किसी के पचड़े में मत पड़ना” और भगवान की मूर्ति से कहती हैं “बस इस लड़की का रास्ते में किसी से झगड़ा न हो”. मैं अब तक अच्छे से प्रैक्टिस कर चुकी झूठ-मूठ की एक दबी मुस्कान देकर और शगुन का आशीर्वाद लेकर चल देती हूं.

बाज़ार में हो तो ज़ोर-जोर से हंसी-मज़ाक मत करना. मुंह को स्कार्फ़ से ढंककर ही निकलना. रोज़ एक ही रास्ते से मत जाना. वगैरह-वगैरह. ये और न जाने ऐसी कितनी हिदायतें. घर पर रहो तो क़ायदा. बाहर रहने लगो तो वही ‘इमोशनल ब्लैकमेल’ मां के दूध-सा सा टपकता हुआ “आग्रह” की शक्ल ले लेता है. पर मैं भी ठहरी अपनी अम्मा की दुक्लौती और सबसे छोटी पोती. अव्वल दर्जे की ढीठ.

Generalise करती थी, ग़लत करती थी. शायद इसलिए लगता था कि पापा is fearless. But apparently not when comes to his daughter. और अगर कन्फ्रंट करो तो जवाब आता है, ‘चिंता तुम दोनों की ही करते हैं’.

बड़ी हूं तो खुद को स्पेशल मानती हूं, इसलिए उनकी इस बात को मानने के लिए ख़ुद को मना नहीं पाती. शायद हर पिता अपनी बेटी से परेशान रहता होगा. अगर मेरे जैसी हो तो अपने सवालों से कान से खून तक निकाल दे. और कहीं बहस छिड़ जाए तो बस.

जैसे उस दिन रास्ते में ही ठोकर लगी तो पापा बोले, “नीचे देखकर क्यों नहीं चलती हो?” तो मेरे फायरब्रांड अवतार ने कहा, “भला ऐसा कोई काम किया है जो सर झुकाकर चलूं?” और एक सवाल के बदले दूसरा सवाल पिता-पुत्री ने लो फिर खेल लिया. वह विचारधारा वाली प्रश्नोत्तरी अब भी धीमी आंच पर चूल्हानुमा मन के किसी कोने में धधक रही है.

पर सावधानी तो आपको ही बरतनी है. भंसाली वाली ‘देवदास’ के चुन्नी बाबू के स्टाइल में कहूं तो: ‘द’ से ‘दर्द’, ‘द’ से ‘दवा’ औेर ‘द’ से ‘दिक्कत’ तुम ही हो.

नारी हो. अबला या नहीं, वो मूड पर डिपेंड करता है. ऑफिस से मस्त होकर निकलो, तो उसी रास्ते में मिल जाते हैं लोग. ये वही हैं जिनके बारे में किशोर दा ‘अमर प्रेम’ में गा गए हैं. दूर से बाइक आती है जिस पर सवार लोग आपको “देखते” हैं. आप रुक जाओ तो वे रुक जाएं. Thought अच्छा है, पर नीयत साफ़ नहीं लगती. और आपने (आपके हिसाब से) कुछ किया भी नहीं था. बस देखा था, वाकई सिर्फ़ देखा था. क्या? कि बाइक जाए तो आप रोड क्रॉस कर लो.

अब मुद्दे की बात.

आपने पहना क्या था? ढीली-ढाली “लड़कों” वाली टीशर्ट with जीन्स. शक्ल भी निरी-सी थी. ज़ुल्फ़ें भी क़ैद थीं. शायद मेकअप से सनी होती तो…

‘शायद’: जितना पूरा, उतना ही अधूरा. Romantic भी, pathetic भी.

“तो फिर ग़लती क्या थी” सोचते-सोचते current बसेरे की ओर बढ़ते समय लूप में Eminem का ‘Not Afraid’ सुनने या हनुमान चालीसा जपने से इस किस्म के लोग तो गायब नहीं हुए ना?

पब्लिक शेमिंग भी की है (अंदर फट रही होती है, तब भी की है), तमीज़ से बदतमीज़ी से, कोशिश की है.

और यही रिस्क है जो शायद मुझे जैसी कई रोज़ उठाती हैं.

यही रिस्क है हमारे होने का, कि हमारा होना ही एक रिस्क है. दिक्कत है.

PS: कहा था न कुछ ओरिजिनल नहीं है.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
our existence itself is a risk, Because we are girls

आरामकुर्सी

क्या था इस आदमी में कि लोग उसकी मौत पर भरोसा नहीं कर पा रहे थे?

17 नवम्बर 2012, शिवाजी पार्क, मुंबई. एक आवाज उठती है, 'बाला साहेब....' लाखों चिल्लाते हैं, 'अमर रहें'. अब फ्लैशबैक की कहानी.

मुंबई के वो किस्से, जिनमें यही आदमी बाघ की तरह बैठ सकता था

छा गया था बाल ठाकरे का बिना देखे भाषण देना. फिल्मों के डायलॉग यूज़ कर के सबको एक सुर से गाली देना.

कौन हैं 'EVM हैकिंग' से जुड़ी प्रेस कॉन्फ्रेंस करवाने वाले आशीष रे

रिश्ते में नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रिश्तेदार लगते हैं आशीष रे, लेकिन इनका कांग्रेस से क्या नाता है?

रघुवंश प्रसाद सिंह, जिसने भूजा खाकर रात बिताई और बन गया केंद्र सरकार का मंत्री

एक जोड़ी कपड़े और गमछे के साथ शुरू की थी राजनीति.

इंडिया में बिकिनी शर्माती थी, परवीन बॉबी ने उसे बोल्ड बना दिया

ऐसी शख्सियत, जो लोगों के दिमाग में रही. पर कुतूहल पैदा करने और दिमाग को झकझोरने वाली वजहों से.

4 लाख कश्मीरी पंडितों की वो कहानी जिसे सुनाने वाले का मुंह सिल जाता है

आज कश्मीरी पंडितों का विस्थापन दिवस है.

वो डकैत, जिसने चंदन के जंगलों को अपनी मूंछों में बांध रखा था

आज ही के दिन पैदा हुआ था भारत का सबसे चर्चित अपराधी.

क्या है ब्रेग्ज़िट, जिस पर ब्रिटेन की सरकार अभी गिरते-गिरते बच गई?

29 मार्च, 2019. दिन शुक्रवार. रात के 11 बजे. ये डेडलाइन है ब्रिटेन और यूरोपियन यूनियन के इस डिवोर्स की.

लड़की ने कहा, आज मैं भी एक मुसलमान मारूंगी

मंटो के पुण्यतिथि पर पढ़िए उनकी कहानी.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.