Submit your post

Follow Us

सुनो, विराट कोहली ना कहते तब भी तुम गलत थे!

1.11 K
शेयर्स

तो विराट कोहली को कहना ही पड़ा. भगवान के लिए अनुष्का शर्मा को इसमें न घसीटो. क्यों कहना पड़ा? फ्लैशबैक. साल भर पीछे जाइए. 13 गेंद खेलकर कोहली एक रन पर आउट हुए. कैच हैडिन ने लिया बॉल जॉनसन ने फेंकी. लेकिन दोहपन किस पर आया? अनुष्का शर्मा पर. अनुष्का स्टेडियम में थीं, पनौती कहा गया. कहने वालों को क्या सच में लगता है कि शॉट की टाइमिंग से लेकर फील्डर की प्लेसिंग तक अनुष्का शर्मा और विराट कोहली के रिलेशनशिप पर टिकी थी. इस बार तो बस उसी को दोहराया गया था. फर्क ये कि अब ब्रेकअप हो चुका है, और विराट इस बार सफल हुए. लेकिन इससे अनुष्का की खिल्ली उड़ने में कमी ना आई.

विराट ने क्रीज पर कहां पर खड़े होकर कितने डिग्री से बैट तिरछा कर जमीन से कितने ऊपर उठती बॉल को हिट किया, कितने समय तक गेंद हवा में रही, फील्डर कितना इधर या उधर हिला. फील्डर का एफर्ट, विराट की मिसटाइमिंग सब अनुष्का के कारण थी? है न?  

इस देश में सबसे ज्यादा कमी अगर किसी चीज की है न तो वो चीज टॉलरेंस नहीं है, सेंस ऑफ ह्यूमर है. लोग सेंस ऑफ ह्यूमर बेचकर नेट पैक डलाते हैं. हम न इतने नीच हैं कि किसी के रिलेशनशिप को चुटकलों में घसीटने से बाज नहीं आते. गलती हमारी नहीं है, हमें कभी समझ नहीं आया कि किस चीज पर हंसना है किस पर नहीं. हंसने की बात पर हम ऑफेंड हो जाते हैं, और जिन चीजों को गलती से भी नहीं कुरेदना चाहिए उस पर चुटकुले बनाते हैं. स्कूल में नैतिक शिक्षा की क्लास लगती थी. संविधान बनाने वालों ने गलती कर दी, आजादी के बाद कुछ दिन हमें लोकतंत्र नहीं देना चाहिए था, पहले हमारी पीठ पर सवार होकर हंसने न हंसने का सलीका सिखाया जाता. बाकी चीजें वहीं से सुधर जातीं. साठ-पैंसठ साल में हमारा इसलिए भी कटा है क्योंकि जिन बातों और जिन लोगों को हमें हंसी में उड़ा देना था. उन्हें हमने सीरियसली ले लिया. स्कूलों में हास्य शिक्षा जैसी क्लास  लगनी  चाहिए, जहां मजाक की तमीज़ सिखाई जाए.

एक बात समझिए, रिलेशनशिप, फैमिली, रंग, जाति, धर्म, लिंग, सेक्शुएलिटी, शरीर में कोई कमी, शरीर में कोई अधिकता, इन चीजों पर मजाक नहीं बनाते. नहीं बनाते. नहीं बनाते. ये कोई नियम नहीं है. हंसी के फुहारे जैसी किताबें लिखने के पहले नहीं पढ़ाया जाता पर अगर आप इंसान हैं, और बुद्धि रखते हैं. सही-गलत की थोड़ी सी भी समझ रखते हैं, तो आपसे ये उम्मीद की जाती है. कुछ चीजों को बख्श दिया जाता है. दुनिया ऐसे ही रहने को अच्छी जगह बनती है.

बात सिर्फ तभी समझ आती है जब खुद पर आ गिरे!
बात सिर्फ तभी समझ आती है जब खुद पर आ गिरे!

समस्या पता कहां हैं? हम एंगल निकालने में मरे जा रहे हैं. इस वक्त की बुराइयों में ये सबसे बड़ी बुराई है. हमें हर चीज में एंगल खोजना है. निदा फाजली उस दिन मरे जिस दिन जगजीत सिंह पैदा हुए थे. अब इनने उनकी गजलें गाईं थी हम इस पर कागज रंग देंगे एंगल खोज-खोजकर. ये तो चलो भला एंगल हुआ. ये जब बिगड़ता है तो मौतों में दलित-मुसलमान और हिंदू खोजने लगते हैं. रोड रेज में बांग्लादेश घुस आता है. फिर उस महिला अधिकारी की भी नहीं सुनी जाती जो सच कह रही है. उसे भी कोसा जाता है. ये मान लीजिए, महिलाओं के मामले में हम आज भी जाहिल हैं. हमें नहीं पता कि एक महिला से आज की तारीख में हमें साधारण सा व्यवहार कैसे करना चाहिए.

ये किसी सरकार से नहीं आता, ये किसी का फैन होने या न होने से भी नहीं आता. ये आप में भरा हुआ है. इसी कारण से आप बीवियों से बने जोक पर दांत निपोरते हैं. कपिल शर्मा अपनी बीवी के होठों का मजाक उड़ाता है और आप खें खें खें कर हंसते हैं. आपको लगता है स्वस्थ मनोरंजन हो रहा है. ऐसे में कभी खुद को शीशे में हंसते देखिएगा, चुगद लगते हैं आप. बीवियों से तकलीफ है तो शादी मत कीजिए, लेकिन एक सेकंड अपने सेंस ऑफ ह्यूमर से ही आप किसे इम्प्रेस करना चाहते हैं? ये तमाम वो वजहें हैं जिनसे ‘हंसी तो फंसी’ जैसे चोमू बोल फूटते हैं.

कोहली बुरा खेले तो अनुष्का शर्मा के कारण या अच्छा खेले तो अनुष्का से ब्रेकअप के कारण, ये बहुत ही मूर्खतापूर्ण सोच है. उतनी ही बेवकूफाना जितनी किसी को पनौती कहना. इसका और बर्बर रूप लीजिए, किसी को डायन कहकर जला देना. आपको लगेगा एक मजाक को कहां तक खेंचा जा रहा है. पर ये सिर्फ मजाक नहीं है, ये सालों से जमाया गया कूड़ा है आपके दिमाग पर. आज किसी को पनौती कहना ही कल किसी को डायन कहकर जिंदा जला देने में बदल जाता है. कूड़ा भी धरते जाओगे तो ऊंचा होगा ही न!

तो पता क्या कीजिए. मुंह बंद रखिए. विटी न होना, या फनी न होना गुनाह नहीं है. हमारे देश में ऐसा कानून नहीं बना है कि आप दिन में दस चुटकुले न गिराएंगे तो आपको गिलोटिन पर चढ़ा दिया जाएगा. शांत रहिए. खासतौर पर तब जब आपको समझ न हो, हाथी चींटी वाले जोक शेयर कीजिए. बहुत मजा आएगा. कुछ अच्छी किताबें पढ़िए. मुंह बंद रखना बेहतर है, बजाय मुंह खोलकर बेइज्जती कराने से.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Lallan’s take on people who troll anushka sharma

गंदी बात

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

हमें क्रोध और हिंसा क्यों रोमैंटिक लगते हैं?

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.