Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'श्रीदेवी की पूजा' जिसके लिए मर्द औरत बन जाते हैं

659
शेयर्स

केरल का एक क़स्बा है कोटकुलनारा. तिरुवनंतपुरम से 82 किलोमीटर दूर. उस कस्बे में एक मंदिर है. श्री देवी मंदिर. हर साल वहां एक अलग किस्म का ‘देवी दरबार’ लगता है. चमयविलक्कू महोत्सव. साल के दो दिन पास-पड़ोस, दूर-दराज के हज़ारों आदमी साड़ियां और लहंगे पहनकर आते हैं. चेहरों पर खूब सारा मेकअप होता है. हाथों में ढेर सारी चूड़ियां. सिर पर लगे विग में गजरा. मेहंदी. लिपस्टिक. काजल.

ये सारे आदमी ट्रांसजेंडर नहीं होते. सिर्फ इस ट्रेडिशन की वजह से वो इस रूप में होते हैं. कई आदमी इसी गेटअप में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ यहां आते हैं. सड़क के दोनों किनारों पर ‘चमयविल्लुक’ यानी दिए जलाते हैं. जान-पहचान के लोगों से मिलते हैं. अनजान लोगों से दोस्ती करते हैं. सड़क पर रथ और झांकी निकलती है. साड़ी और मेकअप से सजे हुए आदमी देवी की पूजा करते हैं. अपनी मन्नत पूरी होने के लिए दुआ करते हैं. मन्नतें भी एक से एक होती हैं. किसी को फॉरेन में नौकरी चाहिए. किसी को एक पत्नी. कोई प्रमोशन की दुआ करने आता है. कोई अपनी टेंशन कम करने की दुआ मांगता है. कई बार लोग अपनी मन्नत पूरी होने के बाद देवी को थैंक्यू बोलने भी औरत बनकर आते हैं. 

पत्थर से ‘खून’ निकला, पुजारी बोले मंदिर बना दो

Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant
Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant

शुरुआत कब और कैसे हुई. इसका कोई लेखा-जोखा नहीं है. लेकिन एक कहानी सदियों से चली आ रही है. बहुत पहले कोटकुलनारा कस्बे में कुछ लड़के नारियल से कैच-कैच खेल रहे थे. अचानक नारियल एक पत्थर पर गिर गया. गिरा तो टूट गया. नारियल में से खून जैसा कुछ निकला. वहां से एक पुजारी जी गुजर रहे थे. उनको उस पत्थर में भगवान का रूप नज़र आया. उस पत्थर में उनको चमत्कारी शक्ति नज़र आई. उन्होंने उन लड़कों से कहा कि वो पत्थर तुरंत वहीं पर स्थापित कर दिया जाए. फिर उसको देवी मानकर उस पत्थर की तुरंत ही पूजा की जाए. वहीँ बन गया ‘श्री देवी’ मंदिर. उस समय वहां ऐसा कुछ चलन था कि देवी की पूजा औरतें ही कर सकती हैं. लेकिन वहां दूर-दूर तक कोई औरत नहीं थी. पुजारी जी ने उन लड़कों से कहा कि वही लोग लड़की बन जाएं और देवी की पूजा करें. बस उसी समय से लड़कों का लड़की बनकर पूजा करने का सिलसिला शुरू हो गया.

मुसलमान और ईसाई आदमी भी आते हैं यहां औरत बनकर

Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant
Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant

कस्बे के लोगों का मानना है कि ये पूजा धर्म से ऊपर है. असल में ये समाज के हर तबके के लोगों का आपस में मिलने-जुलने का महोत्सव है. धार्मिक और सामाजिक तौर पर केरल अभी भी काफी स्ट्रिक्ट है. रीति-रिवाज़ बहुत स्ट्रिक्टली माने और पूरे किये जाते हैं. ऐसे में ये देवी-पूजा लोगों के आपस में खुलकर मिलने का जरिया है. बाकी त्योहार कई-कई दिन चलते हैं. लेकिन ये केवल दो दिन का जश्न होता है. इसलिए लोग वक़्त निकालकर यहां आ जाते हैं. यहां कोई आदमी किसी को जज नहीं करता. क्रॉस-ड्रेसिंग करने वालों को यहां अलग नहीं फील करवाया जाता. बल्कि पूरा क़स्बा ही दो दिनों के लिए उनके जैसा बन जाता है. कई आदमियों का मानना है कि औरतों के कपड़े पहनने के बाद वो बहुत पोलाइट और शांत महसूस करते हैं. उनका गुस्सा एकदम से कम हो जाता है. और वो खुद को भगवान के करीब महसूस करते हैं.

जादू की छड़ी घुमाने वाले मेकअप आर्टिस्ट

Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant
Image Courtsey: kothakulangaratemple.org / Jayant

आपको मेकअप का थोड़ा सा भी ज्ञान हो. या पेंटिंग वगैरह बना लेते हों. और आपके शहर में दो दिनों के लिए करीब 10,000 ऐसे आदमी इकट्ठे हो जाएं, जो मेकअप कराना चाहते हैं. वैक्स, थ्रेडिंग करवाएं. नकली ब्रेस्ट बनवाएं. विग लगवाएं. उसके बदले आपको अच्छे-खासे पैसे भी देने को तैयार हों. और शहर में ब्यूटी पार्लर कम पड़ रहे हों. आप भी अपनी नौकरी से दो दिन की छुट्टी लेकर मेकअप आर्टिस्ट बन जाएंगे. यही हाल केरल के इस कस्बे के कई आदमियों का होता है. मेकअप करने वालों को भगवान का अवतार ही माना जाता है यहां. जो आदमियों के चेहरे को थोड़े से टचअप से बिलकुल औरतों जैसा बना देते हैं. इतना बदल देते हैं कि खुद आदमी अपनी शक्ल नहीं पहचान पाते. इस महोत्सव की वजह से इन मेकअप आर्टिस्ट लोगों की खूब कमाई भी हो जाती है.

पूरा क़स्बा थिएटर का एक्ट बन जाता है

दो दिनों के लिए कोटकुलनारा का पूरा क़स्बा एक नौटंकी का हिस्सा बन जाता है. हर जगह अलग तमाशे चल रहे होते हैं. कार्निवल जैसा माहौल होता है. रंग-बिरंगे लिपे-पुते चेहरे. औरत बने ‘आदमियों’ से फ़्लर्ट करते हुए दूसरे आदमी. कहीं फोटो खिंचवाते हुए. कहीं साथ में डांस करते हुए. कहीं बहुत सीरियसली देवी की पूजा करते हुए लोग.

इस ट्रेडिशन पर लोगों का विश्वास बहुत पक्का है. कई ऐसे आदमी हैं जिनकी मन्नत कई सालों पहले पूरी हो गई थी. लेकिन वो कहते हैं कि अपनी जिंदगी के आखिर तक वो यहां औरत के गेटअप में आते रहेंगे.

साइकॉलजिस्ट कहते हैं कि ये एक हेल्दी तरीका है लोगों के अंदर के फ्रस्ट्रेशन को निकालने का. घर-परिवार, ऑफिस और काम में लोग इतना उलझे रहते हैं. साथ में केरल का समाज भी बहुत स्ट्रिक्ट है. इस तरह के प्रोग्राम उनको आगे के कामों के लिए तैयार रहने में मदद करते हैं. लोगों की झिझक तोड़ते हैं. ट्रांसजेंडर और क्रॉस-ड्रेसर लोगों की तरफ नजरिया बेहतर बनाते हैं. अभी भी गांव में ऐसे बहुत से लड़के हैं जो लड़कियों से बात नहीं कर पाते. इस महोत्सव की वजह से उनकी झिझक कुछ कम हो जाती है. वो ज्यादा कॉन्फिडेंट हो जाते हैं.

ये हैं वीडियो मंदिर में पूजा करते हुए लोगों का:


ये भी पढ़ें:

इन हिंदी तस्वीरों से समझ लो ‘गे’ और ‘लेस्बियन’ कौन होते हैं

‘वनिता’ मैगजीन के कवर पर दिखा हिजड़ा, फीलिंग गुड

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
In kerala, there is a festival in which cross dresser men dress up as women and do make up for pleasing the goddess

गंदी बात

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

कोर्ट के फैसले को हमें ऑपरा सुनते एंड्र्यू के कमरे तक ले जाना है

साढ़े 4 मिनट का ये सीक्वेंस आपके अंदर बसे होमोफ़ोबिया को मार सकता है.

राधिका आप्टे से प्रोड्यसूर ने पूछा 'हीरो के साथ सो लेंगी' और उन्होंने घुमाके दिया ये जवाब!

'बर्थडे गर्ल' राधिका अपनी पीढ़ी की सबसे ब्रेव एक्ट्रेसेज़ में से हैं.

'स्त्री': एक आकर्षक वेश्या जो पुरुषों को नग्न तो करती थी मगर उनका रेप नहीं करती

म्याऊं: क्यों 'स्त्री' एक ज़रूरी फिल्म है.

भारत के LGBTQ समुदाय को धारा 377 से नहीं, इसके सिर्फ़ एक शब्द से दिक्कत होनी चाहिए

सबकी फिंगर क्रॉस्ड हैं, सुप्रीमकोर्ट का एक फैसला शायद सब-कुछ बदल दे!

'पीरियड का खून बहाती' देवी से नहीं, मुझे उसे पूजने वालों से एक दिक्कत है

चार दिन का ये फेस्टिवल असम में आज से शुरू हो गया है.

शर्म आती है कि हम सलमान खान और कपिल शर्मा के दौर में जी रहे हैं

कपिल की कॉमेडी घटिया थी, मगर वो इतनी नीच हरकत करेंगे, ये न सोचा था.

हॉस्टल में खून लगा सैनेटरी पैड मिला, तो लड़कियों के कपड़े उतारकर चेक किया कि किसे पीरियड्स हैं

डॉक्टर हरि सिंह गौर यूनिवर्सिटी के रानी लक्ष्मीबाई गर्ल्स हॉस्टल की घटना है ये.

सौरभ से सवाल

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.