Submit your post

Follow Us

पैगंबर मुहम्मद के वक़्त का वो दूसरा पैगंबर, जो काबे की तरफ मुंह कर के नमाज़ पढ़ने को मूर्तिपूजा कहता था

20196805_10213145238562576_712062070_n_210717-073138-265x150ये आर्टिकल ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए ताबिश सिद्दीकी ने लिखा है. ‘इस्लाम का इतिहास’ नाम की इस सीरीज में ताबिश इस्लाम के उदय और उसके आसपास की घटनाओं के बारे में जानकारी दे रहे हैं. ये एक जानकारीपरक सीरीज होगी जिससे इस्लाम की उत्पत्ति के वक़्त की घटनाओं का लेखाजोखा पाठकों को पढ़ने मिलेगा. ये सीरीज ताबिश सिद्दीकी की व्यक्तिगत रिसर्च पर आधारित है. आप ताबिश से सीधे अपनी बात कहने के लिए इस पते पर चिट्ठी भेज सकते हैं – writertabish@gmail.com


इस्लाम के पहले का अरब: भाग 12

मुसैलिमा या मुसलमा वो व्यक्ति था, जिसने पैगंबर मुहम्मद से पहले स्वयं को पैगंबर घोषित कर रखा था. मुसलमा बनू हनीफ़ा क़बीले का मुखिया था. मुसलमा ने कैसिया बिन्ते अल-हारिस से शादी की थी, जो कि मक्का के बहुत कुलीन वंश बनू अब्द-शम्स से संबंध रखती थीं. ये वंश उसी कुरैश घराने का ही हिस्सा था, जिसमे पैगंबर मुहम्मद का जन्म हुआ था.

मुसलमा यमामा में रहता था. जिसे अल-यमामा के नाम से जाना जाता था. ये आज के सऊदी अरब के नज्द के पास पड़ने वाला एक पुरातन प्रांत था. मुसलमा की यमामा में इतनी अधिक इज्ज़त थी कि उसे ‘रहमान अल-यमामा’ के नाम से पुकारा जाता था. जिसका अर्थ होता है ‘यमामा का दयालु’. यमामा में मुसलमा को और भी बहुत से क़बीलों का समर्थन प्राप्त था. पैगंबर मुहम्मद की मृत्यु से कुछ पहले के वर्षों में मुसलमा ने अन्य समर्थक क़बीलों के साथ मिलकर यमामा में एक नयी सामाजिक व्यवस्था बनाई थी. वहां उसने एक हरम (सुरक्षित या पवित्र स्थान) का निर्माण किया था, जहां उसी तरह से लड़ाई वर्जित थी, जैसे काबा के आसपास होती थी.

banner islam

खुद को पैगंबर मुहम्मद के बराबर का मानता था मुसलमा

मुसलमा का ये भी दावा था कि उसके पास भी उसी तरह ईशवाणी के सन्देश हैं, जैसे की मुहम्मद के पास हैं. उसके समर्थक बहुत पुराने समय से ही उसके इन संदेशों को संजो कर रखते थे. मुसलमा का ये भी दावा था कि ये सन्देश उस तक अल्लाह के फ़रिश्ते जिब्राईल ही लेकर आते थे. जैसे वो मुहम्मद के पास अल्लाह के सन्देश लाते थे. मुसलमा के माननेवालों में उन संदेशों के प्रति उतनी ही श्रद्धा थी, जैसे मुसलमानों में कुरान को लेकर थी.

2696a93e786d15822d483151823f167b--islamic-miracles-masjid-al-haram

जब पैगंबर मुहम्मद इस दुनिया से चले गए, तब मुसलमा और उसके समर्थक ये उम्मीद लगाने लगे थे कि अब शायद इस्लाम के माननेवाले उनकी ओर आ जाएं क्योंकि उनके पैगंबर, मुसलमा अभी तक जीवित हैं. जबकि मुहम्मद इस दुनिया से जा चुके हैं. इसी बात को आगे बढ़ाते हुए मुसलमा ने ये भी दावा किया कि जो क़ुरान मुहम्मद के पास आ रही थी, वो अब मुसलमा के पास ट्रांसफर कर दी गई है. और क़ुरान की आयतों का आना बंद नहीं होगा. ये मुसलमा के जीवित रहने तक चलेगा.

ज़मीन के एक हिस्से पर था दावा

मुसलमा ने पैगंबर के ज़िंदा रहते ही उनके साथ साझा पैगंबर होने का दावा किया था, जिसे पैगंबर मुहम्मद ने सिरे से खारिज कर के मुसलमा को झूठा पैगंबर घोषित कर दिया था. मुसलमा ने कहा था कि अल्लाह ने ज़मीन के दो हिस्से किए हैं. एक हिस्सा उसने मुहम्मद को दिया है और दूसरा मुसलमा को. इसलिए हम दोनों शांति के साथ अपने अपने हिस्से में रह सकते हैं. मगर इस दावे को मुहम्मद और उनके समर्थकों ने नहीं माना था.

पैगंबर मुहम्मद के इस दुनिया से जाने पर मुसलमा के पास आई एक आयत को इब्ने कसीर अपनी तफसीर में ऐसे लिखते हैं,

“सुनो तुम लोग. ढपली उठाओ और नाचो. और अपने पैगंबर की स्तुति गाओ. क्योंकि बनू-हाशिम का पैगंबर अब इस दुनिया से जा चुका है और या-रब या पैगम्बर उठ खडा हुआ है.”

मुसलमा के पास आई इस आयत से पता चलता है कि उसके समर्थकों में अपने पैगंबर के जीवित रहने की कितनी ख़ुशी थी और किस तरह की उम्मीद उन्होंने आगे अपने पैगंबर से लगाई रखी होगी.

 मूर्तियों से घिरे काबे की एक प्रतीकात्मक पेंटिंग. (इमेज सोर्स: parhlo.com)
मूर्तियों से घिरे काबे की एक प्रतीकात्मक पेंटिंग. (इमेज सोर्स: parhlo.com)

‘बिस्मिल्लाह’ से जोड़ रखा था खुद को

मुसलमा को मानने वाले लोग स्वयं को रहमानिया कहते थे और वो मुसलमा को रहमान के नाम से पुकारते थे. रहमान मतलब रहम करने वाला. मुसलमा के समर्थक ये दावा करते थे कि मुसलमानों द्वारा कहा जाने वाला वाक्य बिस्मिल्लाह हिर-रहमा निर्रहीम, यानि, शुरू करता हूं मैं अल्लाह के नाम से जो बेहद दयालु है, दरअसल मुसलमा के मानने वालों का स्तुति वाक्य था. जिसे वो किसी भी काम को शुरू करने से पहले करते थे. इस दावे के पीछे कितना सच है, कितना झूठ इसका तो पता नहीं मगर मुसलमा को रहमान नाम से पुकारा जाता था ये बात ऐतिहासिक तौर पर साबित है.

मुसलमा के पास जो आयते आती थीं, उनके संकलन को उसके समर्थक फ़ारूक़ कहते थे. जिसका अर्थ होता है सही और ग़लत के बीच फैसला करने वाला. उसकी किताब को लोग इस मायने में लेते थे कि ये सच और झूठ के बीच फैसला करने वाली है. मुसलमा के धर्म के बारे में फ़ारसी की बहुप्रसिद्ध पुस्तक दबिस्तान-ए-मज़ाहिब नामक पुस्तक में सबसे अधिक विस्तार के साथ बताया गया है.

मुहम्मद कुली की बातें

सत्तरवीं शताब्दी में दबिस्तान के लेखक की मुलाक़ात मुसलमा के धर्म मानने वाले कुछ लोगों से होती है. जिनमें से एक व्यक्ति का नाम था मुहम्मद क़ुली. लेखक पर भरोसा करने के बाद क़ुली अपने धर्म की बहुत सी बातें उनके सामने खोल कर रखता है. जिसे लेखक ने पूरे विस्तार से सबके सामने रखा है.

क़ुली कहता है कि एक सच्चे श्रद्धालु को मुसलमा को सच्चा, प्रखर बुद्धिमान और पैगंबर मानना होता है. अगर वो ऐसा नहीं करता है तो वो श्रद्धालु नहीं माना जाएगा. क़ुली आगे कहता है कि मुसलमा एक दैवीय कार्य के लिए दुनिया में आया था. और वो पैगंबर मुहम्मद का साथी था. वो पैगम्बर मुहम्मद का वैसा ही सहयोगी था, जैसे मूसा के सहयोगी हारून थे. वो आगे कहता है कि गवाही के लिए एक समय में कम से कम दो पैगंबर ज़रूरी होते हैं. और अगर उस से भी ज्यादा हों, तो और अच्छा रहता है.

qaba

क़ुली मुसलमा की किताब से और आयत सुनाते हुए कहता है,

“ए लोगो, इस बात पर यक़ीन करो कि, हमारा ख़ुदा इस दुनिया का ख़ुदा है, और वो इस सारी सृष्टि और उनमे रहने वाले लोगों का ख़ुदा है. और वो सबसे बड़ा है और कोई भी उसके जैसा नहीं है. मगर ऐसा मत कहो कि उसका कोई शरीर नहीं है. क्योंकि हो सकता है उसका कोई शरीर हो और वो ऐसा न हो जैसा उसके द्वारा बनाये गए बंदों का हो. क्योंकि ख़ुदा के हाथ, कान, और आंख के बारे में फ़ुरकान भी कहता है.”

मुसलमा को मानने वाले क़ुरान को फ़ुरकान बुलाते हैं. वो क़ुरान को दूसरा फ़ारूक कहते हैं जबकि मुसलमा की किताब को पहला फ़ारूक.
क़ुली कहता है कि मुसलमा की किताब में ख़ुदा के आंख, नाक, कान होने की बात से उसका ये मतलब न निकाला जाए कि ख़ुदा की हम लोगों जैसी ही आखें, कान और हाथ हैं, बल्कि इसे दुसरे रूप में लेना चाहिए. क्योंकि हम वही समझ सकते हैं, जो हमने देखा हो और ख़ुदा अपने आपको अपने बंदों के सामने जिस भी रूप में चाहे प्रकट कर सकता है.

मुक़द्दस काबा की एक पुरानी तस्वीर. (इमेज सोर्स: Destination Economy.com)
मुक़द्दस काबा की एक पुरानी तस्वीर. (इमेज सोर्स: Destination Economy.com)

क़ुली आगे कहता है कि मुहम्मद के समय में किस तरफ़ मुह करके प्रार्थना करनी है इसका कोई नियम नहीं था. जिसकी जैसी मर्ज़ी होती थी वो उस तरफ मुंह कर के प्रार्थना कर लेता था. मुहम्मद के जाने के बाद उनके अनुयायियों ने सबको जबरन काबा की तरफ़ मुंह करके नमाज़ पढ़ानी शुरू करवाई. मुहम्मद के जाने के बाद मुसलमा ने कहा कि ऐसे स्थान या इमारत की तरफ़ मुंह करके प्रार्थना करना मूर्तिपूजा ही है और जो ख़ुदा निराकार है उसके लिए हम किसी भी तरफ़ मुंह कर के प्रार्थना कर सकते हैं. कैसे हम एक निराकार ख़ुदा के लिए एक स्थान या किबला को स्थापित कर सकते हैं भला? उस निराकार के लिए हम किसी भी स्थान पर, किसी भी तरफ़ मुंह कर के प्रार्थना के लिए खड़े हो सकते हैं. ये कहकर कि मैं तुझे याद करता हूं जिसका न तो आकार है और न कोई दिशा.

क्रमशः


‘इस्लाम का इतिहास’ की पिछली किस्तें:

Part 1: कहानी आब-ए-ज़मज़म और काबे के अंदर रखी 360 मूर्तियों की

Part 2: कहानी उस शख्स की, जिसने काबा पर कब्ज़ा किया था

Part 3: जब काबे की हिफ़ाज़त के लिए एक सांप तैनात करना पड़ा

पार्ट 4: अल्लाह को इकलौता नहीं, सबसे बड़ा देवता माना जाता था

पार्ट 5: ‘अल्लाह’ नाम इस्लाम आने के पहले से इस्तेमाल होता आया है

पार्ट 6:अरब की तीन देवियों की कहानी, जिन्हें अल्लाह की बेटियां माना जाता था

पार्ट 7: कहानी काबा में लगे काले पत्थर की, जिसके बारे में अलग-अलग किस्से मशहूर हैं

पार्ट 8 : सफा और मारवा पहाड़ियां, जहां से देवता आसिफ और देवी नायेलह की मूर्तियां हटाई गईं

पार्ट 9: इस्लाम के आने से पहले औरतों की स्थिति कैसी थी?

पार्ट 10: इस्लाम से पहले अरब के लोग शारीरिक संबंधों को लेकर खुली सोच के थे

पार्ट 11: पैगंबर मुहम्मद के वक़्त और भी कई लोगों ने पैगंबरी पर दावा कर रखा था

वीडियो: अयोध्या में उस आदमी का इंटरव्यू जिसने बाबरी मस्जिद तोड़ी थी!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.