Submit your post

Follow Us

राजीव गांधी के हत्यारों ने क्यों छुए थे वीपी सिंह के पैर

20 अगस्त को राजीव गांधी 73 साल के हो जाते. नहीं हो पाए. क्योंकि 21 मई 1991 को लिट्टे की मानव बम ने उन्हें मार दिया. तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में. रात 10.15 पर. राजीव वहां लोकसभा चुनाव के चलते हुई एक रैली में बोलने गए थे. मंच तक नहीं पहुंच पाए. नीचे लोग खड़े थे. हाथों में माला लिए. उन लोगों में एक लड़की भी थी. सलवार सूट पहने. चश्मा लगाए. उसका नाम धनु था. वो अपने देश की नहीं थी. पड़ोसी श्रीलंका की थी. वहां तमिलों के लिए हथियार बंद लड़ाई कर रहे संगठन लिट्टे से जुड़ी थी.

लिट्टे की काली बाघिन विंग की मेंबर थी. ये विंग स्यूसाइड हमलों के लिए बनी थी. ये पहला मौका था, जब एक इंसान बम ब्लास्ट के लिए इस तरह से इस्तेमाल किया गया हो. फिर तो तालिबान से लेकर आईएसआईएस तक सब ये काम करने लगे.

राजीव गांधी आखिरी वक्त क्या सोच रहे थे. क्या बोल रहे थे. ये वही बता सकता है, जो उस वक्त उनके साथ था. उनके साथ एक पत्रकार थीं. राजीव की एंबैसडर कार में. एयरपोर्ट से रैली ग्राउंड तक. उनका नाम है नीना गोपाल. वह उस वक्त गल्फ न्यूज के लिए काम करती थीं. इंटरव्यू के वास्ते मिली थीं. कार ड्राइव के दौरान पॉलिटिक्स पर बातें होती रहीं. रैली ग्राउंड पर पहुंचे तो नीना बोलीं. एक सवाल तो रह ही गया. राजीव मुस्कुराए और बोले, अभी लौटकर आता हूं.

नहीं आ पाए. सब जानते हैं. मगर कुछ बातें हैं, जो दुनिया के सामने अब आ रही हैं. पहली मर्तबा. क्योंकि नीना गोपाल ने एक किताब लिखी है. इसका टाइटिल है the assasination of rajiv gandhi. इस किताब को पेंग्विन इंडिया ने छापा है.

The Assassination of Rajiv Gandhi spine.indd
The Assassination of Rajiv Gandhi spine.indd

किताब में राजीव गांधी की हत्या के पीछे के षड़यंत्र की सब बारीकियों की पड़ताल की गई है. किताब राजीव की मौत से शुरू होती है. फिर पीछे लौटती है. इस हमले की तैयारी कैसे हुई. लिट्टे चीफ प्रभाकरन राजीव से नाराज क्यों था. और आखिर में हमले के बाद कैसे जांच हुई. लिट्टे का खात्मा जहां हुआ, किताब वहां खत्म होती है. ये बहुत रोचक है. तथ्यों से भरी है. इस सब्जेक्ट पर काफी कुछ लिखा जा चुका है. नीना ने उन सबका भी बढ़िया यूज किया है. हम यहां आपको किताब के तीन किस्से बता रहे हैं.

राजीव का प्रभाकरन को पर्सनल गिफ्ट

भारत के प्रधानमंत्री थे राजीव गांधी उस वक्त. नई दिल्ली के 10 जनपथ में रहते थे. यहां साल 1987 महीना जुलाई के आखिरी दिनों में उनसे मिलने के लिए एक गुरिल्ला कमांडर को लाया गया. वी प्रभाकरन. लिट्टे नाम का उग्रवादी तमिल संगठन चलाता था. चेन्नई में रहकर श्रीलंका में हरकतें करता था. राजीव गांधी उस वक्त तक श्रीलंका के राष्ट्रपति जे जयवर्धने को जबान दे चुके थे. समझौते की तैयारी चल रही थी. श्रीलंका एक रहेगा और अपनी एकता के लिए तमिल हितों की अनदेखी नहीं करेगा. इस तरह की बात हो गई थी. सुलह सफाई और हथियार जमा करने के लिए भारतीय सेना को जाना था. मगर उसके पहले राजीव को समझौते की सबसे बड़ी अड़चन से वादा चाहिए था.

प्रभाकरन उस वक्त दिल्ली के अशोका होटल में था. खुफिया निगरानी में. उसे राजीव के पास लाया गया. उसने मन मारकर हां बोल दी. उस वक्त संगीनों के बीच उसके पास कोई ऑप्शन भी नहीं था. राजीव को लगा, प्रभाकरन पर भरोसा किया जा सकता है. आखिर इंडिया की मदद से ही तो उसका कद इतना बड़ा हुआ था. उन्होंने अंदर से एक गिफ्ट मंगवाया. ये राजीव की पर्सनल बुलेट प्रूफ जैकेट थी. कमरे में उस दौरान राजीव का 17 साल का लड़का राहुल भी मौजूद था. उसने ये जैकेट प्रभाकरन के कंधों पर ओढ़ाते हुए रखी. राजीव मुस्कुराए और बोले. अपना ख्याल रखना. ये दोनों के बीच आमने सामने की आखिरी मुलाकात थी. मैंने जब से किताब पढ़ी है. बार-बार सोचता हूं. राहुल को ये दोपहर याद आती होगी. प्रभाकरन की शक्ल. उनके पापा का यकीन.

हत्यारों ने वीपी सिंह के पैर क्यों छुए

राजीव गांधी की हत्या के लिए चेन्नई में डेरा जमाए लिट्टे दस्ते ने 12 मई को हमले की फुल ड्रेस रिहर्सल की थी. इसके लिए उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल नेता वीपी सिंह की रैली को चुना. सिंह ये रैली करुणानिधि के सपोर्ट में करने आ रहे थे. जगह थी मद्रास से 40 किलोमीटर दूर थिरूवलूर. मानव बम धनु समेत पूरा लिट्टे गैंग इस रैली में गया. उन्होंने स्टेज के पास डी एरिया की सिक्युरिटी का जायजा लिया. इतना ही नहीं, जब वीपी सिंह रैली के लिए पहुंचे, तो धनु ने आगे बढ़कर उनके पैर भी छुए. वैसे ही, जैसे 9 दिन बाद राजीव के छुए थे. फर्क बस कुर्ते के नीचे, डेनिम की सदरी में छिपे बम का था.

rajiv gandhi with dhanu and shubha
धनु (इनसेट में ) रैली में जब राजीव गांधी से मिली.

मोतीबाग की सोनिया हो सकती थी राजीव की कातिल

राजीव गांधी की हत्या की साजिश प्रभाकरन के निर्देश पर पोट्टू अम्मन ने बनाई थी. लिट्टे का नंबर टू. इंटेलिजेंस विंग का मुखिया. उसने पूरे प्लान का नाम रखा. ऑपरेशन वेडिंग. इसके लिए तीन लड़कियों को श्रीलंका से भारत भेजा गया. पहली दो थीं धनु और शुभा. धनु ने राजीव गांधी के पैर छुए. बटन दबाया और सब खत्म हो गया. बैकअप के लिए शुभा को तैनात किया गया था. वो कुछ महीनों बाद बेंगलुरु के पास की एक बस्ती में पाई गई. मुर्दा. साथियों के साथ. पुलिस के भीतर आने से पहले उसने सायनाइड चाट लिया था. मगर एक लड़की और थी. सोनिया नाम की. जो दिल्ली के मोतीबाग इलाके में रहकर इंतजार कर रही थी. कहा जाता है कि ये मकान तमिलनाडु के नेता और प्रभाकरन के दोस्त वाइको ने दिलाया था. वाइको बाद में सांसद भी बने. मगर उनके रोल की ढंग से जांच नहीं हुई.

खैर, सोनिया लड़की का एक नाम था. कई नामों में से एक. उसका असल नाम था अथीराई. वो चंद्रलेखा भी लिखती थी. और खुद को गोवरी और सोनिया नामों से भी इंट्रोड्यूस करती थी. क्या अथीराई को पता होगा. जिस आदमी को वो मारना चाहती हैं, वो जिस औरत से सबसे ज्यादा प्यार करता है. उसका नाम भी सोनिया है. उसकी बीवी, सोनिया माइनो.

अथीराई पोट्टू अम्मन का डबल बैक थी. अगर तमिलनाडु में राजीव गांधी पर हमला नाकाम रहता, तो दिल्ली में यही काम सोनिया करती. मगर काम तो पहली बार में ही हो गया. उसके बाद अथीराई ने अपने एक बुजुर्ग साथी के साथ दिल्ली से भागने की कोशिश की. पुलिस ने उसे रेड में स्टेशन के पास के होटल से अरेस्ट किया. शुरुआत में वर्दी वालों को लगा कि उनके हाथ शुभा लग गई है. बाद में बात साफ हुई.

दरोगा अनसुइया का अफसोस

अनसुइया तमिलनाडु पुलिस में सब इंस्पेक्टर थी. 21 मई को उसकी रैली ग्राउंड पर ड्यूटी लगी थी. स्टेज के सामने एक डी शेप का घेरा बना था. यहां चुनिंदा वीआईपी को आने की इजाजत थी. मानव बम धनु भी यहां तक पहुंच गई थी. उसके हाथ में चंदन की माला थी. बगल में इस हमले का मास्टर माइंड भी था. शिवरासन. हाथ में पैड लिए. पत्रकार होने का ढोंग करता. अनसुइया राउंड लगा रही थी. उसे ये लोग कुछ अजीब लगे. पांच का एक ग्रुप. इसमें दो और लड़कियां थीं. धनु और नलिनी. एक आदमी मुरुगन भी. उसने सबको पीछे धकेला.

rajiv2
धमाका हुआ और सब कुछ बिखर गया.

राजीव पहुंचे तो भीड़ फिर आगे बढ़ने लगी. अनसुइया इसे संभालने की कोशिश कर रही थीं. ताकि पूर्व पीएम स्टेज तक पहुंच जाएं. स्टेज पर उनकी जिंदाबाद के नारे लग रहे थे. तभी वो बड़े चश्मे वाली लड़की फिर आगे बढ़ने लगी. अनसुइया ने बांह पकड़कर उसको रोक लिया. और पीछे जाने को बोला. वो पलटने ही वाली थी कि राजीव की आवाज सुनाई दी. प्लीज सबको आने दीजिए. अनसुइया की पकड़ कमजोर हो गई. वो लड़की आई. और आई मौत.


वीडियो: सोनिया ने बताया वो राजीव गांधी को राजनीति में क्यों नहीं आने देना चाहती थी?

वीडियो: राजीव गांधी का पारसी कनेक्शन और नेहरू को फिरोज का इनकार


ये भी पढ़ें:

किसने और कैसे की राजीव गांधी की हत्या की जांच?

जेएनयू में बुलाया गया राजीव गांधी का भूत!

राजीव गांधी का पारसी कनेक्शन और नेहरू को फिरोज का इनकार

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.