Submit your post

Follow Us

सीबीआई को लेकर मोदी सरकार से क्यों टकरा रही हैं ममता बनर्जी

2.03 K
शेयर्स

अभूतपूर्व! न भूतो न भविष्यति! ऐसा कभी नहीं हुआ. कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर छापा मारने पहुंची सीबीआई टीम को कोलकाता पुलिस ने अरेस्ट कर लिया. इसके बाद से कोलकाता से दिल्ली तक संग्राम जारी है. विपक्ष इसे लोकतंत्र की हत्या करार दे रहा है. वहीं सत्ताधारी बीजेपी इसे सूबे की सीएम ममता बनर्जी की तानाशाही बता रही है. सीबीआई इस घटनाक्रम के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. दूसरी ओर विपक्षी दलों ने सीबीआई के बेजा इस्तेमाल का आरोप लगाकर संसद ठप कर दी. दिन में 11 बजे लोकसभा-राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी दलों ने इस मसले को उठाया. हंगामा बढ़ने पर दोनों सदनों की कार्यवाही को कुछ देर के लिए स्थगित करना पड़ा.

क्या हुआ अब तक इस मामले में?
कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर 3 फरवरी, 2019 को देर शाम सीबीआई की टीम छापा मारने पहुंची. इस पर सीबीआई टीम और कोलकाता पुलिस के बीच कथित तौर पर हाथापाई हो गई. पुलिस ने सीबीआइ अधिकारियों से वारंट दिखाने को कहा. और उन्हें पार्ट स्ट्रीट स्थित कमिश्नर आवास के अंदर जाने से रोक दिया. फिर सीबीआई की टीम के 5 अफसरों को हिरासत में ले लिया और शेक्सपियर सरणी थाने ले आई. विवाद बढ़ने पर उनको छोड़ दिया गया. राजीव कुमार पर आरोप है कि साल 2013 में हुई एसआईटी जांच में शारदा चिटफंड घोटाले के सबूतों से छेड़छाड़ की गई है. एसआईटी जांच राजीव कुमार की अगुवाई में की गई थी. सीबीआई की इस कार्रवाई पर सूबे की सीएम ममता बनर्जी ने कड़ा ऐतराज जताया. उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ मार्चो खोलते हुए मेट्रो चैनल के पास धरना शुरू कर दिया. ये धरना 3 फरवरी की रात भी जारी रहा. ममता ने आरोप लगाया कि सीबीआई मोदी सरकार के कहने पर ये पूरा खेल कर रही है. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कोलकाता में सीबीआई दफ्तर के बाहर सीआरपीएफ की टुकड़ियां तैनात कर दी गई हैं. ममता बनर्जी ने सूबे में सीबीआई की एंट्री पर रोक लगा रखी है.

सीबीआई पर कोलकाता से दिल्ली तक हंगामा बरपा है.
सीबीआई पर कोलकाता से दिल्ली तक हंगामा बरपा है.

विपक्षी दल समर्थन में आए
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर तेलुगुदेशम पार्टी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती तक सब ममता बनर्जी के समर्थन में आ गए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ममता बनर्जी से फोन पर बात की. और अपना समर्थन जाहिर किया. राहुल गांधी ने कहा कि पूरा विपक्ष एकजुट है. ये फासीवादी ताकतों को हराएगा. कांग्रेस कंधे से कंधा मिलाकर ममता के साथ है. पार्टी प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि ममता बनर्जी को लेकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह की दुर्भावना काफी जहरीली है. भाजपा और नरेंद्र मोदी राज्य में विवाद पैदा करने के लिए बेचैन हैं. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, ममता दीदी से बात की और अपनी एकजुटता जाहिर की. मोदी-शाह दोनों की कार्रवाई पूरी तरह से अजीब और अलोकतांत्रिक है. राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट करते हुए कहा कि देश में संविधान और संवैधानिक संस्थाएं अप्रत्याशित संकट का सामना कर रही हैं. देश में गृह युद्ध पैदा करने की कोशिश की जा रही है. राजद सुप्रीमो प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने ममता बनर्जी से फोन पर बातचीत की. राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार ने ट्वीट किया, ये स्तब्ध कर देने वाला है कि पश्चिम बंगाल में केंद्र सरकार इस हद तक जा सकती है. ये संघीय ढांचे पर हमला है. नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने भी ममता बनर्जी का समर्थन करते हुए कहा कि राजनीतिक हथकंडे के तौर पर सीबीआई का इस्तेमाल करना सभी हदों को पार करना है. कोलकाता में धरना स्थल पर ममता ने कहा कि कई विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने उन्हें फोन करके संविधान की रक्षा की उनकी लड़ाई में अपना समर्थन और अपनी एकजुटता व्यक्त की है. ममता ने कहा, अखिलेश यादव (सपा), तेजस्वी यादव (राजद), चंद्रबाबू नायडू (तेदेपा), उमर अब्दुल्ला (नेकां), अहमद पटेल (कांग्रेस) और एमके स्टालिन (द्रमुक) ने मुझे फोन करके अपनी एकजुटता और समर्थन जताया है.

मल्लिकार्जुन खड़गे लोकसभा में नेता विपक्ष हैं.
मल्लिकार्जुन खड़गे लोकसभा में नेता विपक्ष हैं.

सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ?
सीबीआई इस पूरे घटनाक्रम के खिलाफ 4 फरवरी को सुबह सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. असल में सीबीआई ने राजीव कुमार के घर जो छापा मारा था, उसके पीछे सुप्रीम कोर्ट का मई, 2014 में दिया गया एक जांच आदेश है. साल 2013 में राजीव कुमार की अगुवाई में हुई एसआईटी जांच के बाद मई, 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने पूरे मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी. इसी आधार पर सीबीआई ने राजीव कुमार के घर छापा मारा था. गिरफ्तारी को सीबीआई के काम में बाधा बताकर सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की. सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उनकी टीम को जांच से रोककर सबूतों से छेड़छाड़ की जा रही है. सबूत नष्ट किए जा रहे हैं. इस पर सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की बेंच ने सीबीआई को 24 घंटे के अंदर ये सबूत देने को कहा कि सबूतों से छेड़छाड़ हुई है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर सबूतों से छेड़छाड़ हुई है, तो कमिश्नर के खिलाफ ऐसी कार्यवाही होगी, जिसे वो जीवन भर याद रखेंगे. मुख्य न्यायधीश ने 5 फरवरी की सुबह 10.30 बजे मामले की सुनवाई लगा दी.

संसद में क्या हुआ?
कोलकाता में ममता बनर्जी ने और संसद में उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस की अगुवाई में विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही दिन में 11 बजे शुरू हुई. दोनों सदनों में विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया. राज्यसभा में टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रॉयन ने 267 के तहत सीबीआई विवाद पर चर्चा के लिए नोटिस दिया. विपक्षी दल उनके समर्थन में आ गए. राज्यसभा में हंगामा होने लगा. इस पर सभापति वेंकैया नायडू ने सदन की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

लोकसभा में जॉर्ज फर्नांडिस के निधन पर शोक जताया गया. फिर कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों ने सीबीआई की कार्रवाई पर चर्चा की मांग की. स्पीकर सुमित्रा महाजन ने इसकी इजाजत नहीं दी. और कहा कि प्रश्न काल के बाद इस मामले पर चर्चा की जा सकती है. इस पर विभिन्न दलों के सांसद केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. सदन में ‘लोकतंत्र बचाओ’ और ‘सीबीआई का दुरुपयोग बंद करो’ जैसे नारे लगने लगे. इस पर अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी. 12 बजे कार्यवाही शुरू हुई तो टीएमसी सांसद सौगत राय ने सीबीआई के दुरुपयोग का मसला उठाया. उन्होंने कहा कि सीबीआई ने बगैर इजाजत और नोटिस कोलकाता पुलिस कमिश्नर को हिरासत में लिया. इसके खिलाफ ममता बनर्जी सत्याग्रह धरना दे रही हैं. कोलकाता में विपक्ष की रैली के बाद बीजेपी उनको डराने के लिए सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है. बीजेपी सरकार और मोदी-शाह की जोड़ी संवैधानिक संस्थाओं का गलत इस्तेमाल कर रही है. प्रधानमंत्री को सदन में आकर जवाब देना चाहिए.

नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि ये सरकार सीबीआई के हथियार बनाकर सभी विपक्षी नेताओं को खत्म करना चाहती है. जो भी अन्याय के खिलाफ आवाज उठाता है, उसे दबाने की कोशिश हो रही है. बीजेपी अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है. सीबीआई की कार्रवाई कानून के खिलाफ है और ऐसा बंगाल ही नहीं उत्तर प्रदेश, कर्नाटक सभी जगह हो रहा है. सरकार की इस कार्रवाई से हम डरने वाले नहीं हैं बल्कि और मजबूती के साथ एकजुट होकर खड़े होंगे. बीजू जनता दल के सांसद भर्तृहरी महताब ने कहा कि जिस तरह से सीबीआई कार्रवाई हुई वो निंदनीय है. सपा सांसद धर्मेंद्र यादव ने कहा कि जो भी दल बीजेपी के खिलाफ हैं, उनके खिलाफ सीबीआई और ईडी जैसी संस्थाओं से कार्रवाई कराई जा रही है. आरजेडी के जयप्रकाश यादव और एनसीपी की सुप्रिया सुले ने भी सीबीआई की कार्रवाई पर अपने दल की ओर से आपत्ति दर्ज कराई.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में सीबीआई का समर्थन किया.
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में सीबीआई का समर्थन किया. फोटो. लोकसभा टीवी.

गृहमंत्री ने दिया जवाब
सरकार की ओर से गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में बयान दिया. उन्होंने कहा कि कोलकाता में सीबीआई अधिकारियों को उनकी ड्यूटी करने से रोका गया. ऐसी घटना देश के इतिहास में कभी नहीं हुई. चिटफंड घोटाले के आरोपियों को राजनीतिक संरक्षण दिया जा रहा है. सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है. इसी वजह से सीबीआई को कमिश्नर के घर जाना पड़ा. इस घोटाले में कई नामी और राजनीतिक लोगों के होने का पता चला है. बाद में गृह मंत्रालय ने इस पूरे मामले पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी से भी रिपोर्ट मांगी गई है.

भाजपा ने क्या कहा?
भाजपा की ओर से मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मोर्चा संभाला. उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी भ्रष्टाचार करने वालों का साथ दे रही हैं. जावड़ेकर ने ममता बनर्जी के समर्थन में उतरे विपक्षी दलों को भी घेरा. उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों ने ममता बनर्जी का समर्थन किया है. ये लोग कौन हैं? वे जमानत पर बाहर हैं. ऐसे लोग साथ खड़े हैं. ये महागठबंधन नहीं है, वे दृष्टि से विभाजित हैं और भ्रष्टाचार से एकजुट हैं. भ्रष्टाचारी एक साथ खड़े हैं. दिन में भाजपा का एक एक प्रतिनिधि दल चुनाव आयोग से मिला. पत्रकारों से बात करते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि टीएमसी के सहयोग से जो पश्चिम बंगाल में जो चल रहा है, उसके बारे में हमने चुनाव आयोग को बताया. हमने चुनाव आयोग से कहा है कि टीएमसी लोकतंत्र में विश्वास नहीं करती है.

ममता सरकार पहुंची हाईकोर्ट
ममता बनर्जी की सरकार ने सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में कोलकाता हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. तृणमूल कांग्रेस सरकार ने आरोप लगाया कि सीबीआई बिना इजाजत कार्रवाई करने पहुंची. इस पूरे मामले पर कोलकाता हाईकोर्ट से राज्य सरकार के अधिकारियों को संरक्षण मिला हुआ है.


वीडियोः राहुल गांधी और मायावती ममता बनर्जी से दूर क्यों भाग रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

एक और बाबा ने लड़कियों का यौन शोषण किया, उनमें से एक ने वीडियो वायरल कर दिया

बाबा हो गए हैं फरार. लड़की कह रही 600 घंटों की वीडियो फुटेज है.

फंस गए पी. चिदंबरम तो राहुल गांधी ने वही कहा, जो हमेशा कहते हैं

और प्रियंका ने बताया चिदंबरम ने देश के लिए क्या किया?

सैफई यूनिवर्सिटी में भयानक रैगिंग, डेढ़ सौ छात्रों के सिर मुंडवा दिए

वीसी ने एक्शन लेने की जगह कहा ये तो हमारे जमाने का दस फीसदी भी नहीं है.

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली

अब दोनों मुल्कों के लोग बधाइयां दे रहे हैं.

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

योगी, मोदी का डंडा चला है.

क्या गिरफ़्तारी के डर से गायब हो गए हैं चिदंबरम?

INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री को खोज रही हैं CBI और ED.

पिता ने मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगाई, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर मार डाला

लड़की की उम्र सिर्फ 15 साल है.

अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकलेंगे एटीएम से पैसे

बस नोटबंदी न हुई हो.

जावेद मियांदाद ने कहा, भारत को न्यूक्लियर बम मारकर साफ कर देंगे

जेंटलमैन्स गेम से जुड़े खिलाड़ी की अभद्र भाषा.

क्या है कोहिनूर मिल केस, जिसकी जांच के दायरे में राज ठाकरे आ गए?

वरिष्ठ शिवसेना नेता मनोहर जोशी के बेटे का भी नाम आया है.