Submit your post

Follow Us

महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो साधुओं सहित तीन की पीट-पीटकर हत्या, 110 आरोपी अरेस्ट

महाराष्ट्र के पालघर जिले के एक गांव में भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. इनमें दो साधु थे और एक उनका ड्राइवर. भीड़ ने पुलिस पर भी हमला किया.  ANI के मुताबिक, घटना 16 अप्रैल की है. लेकिन रविवार 19 अप्रैल को वीडियो वायरल हुआ. 19 अप्रैल को ट्विटर पर हैशटैग पालघर (#Palghar) टॉप ट्रेंड में रहा. सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा देखने को मिला. इसके बाद देर रात खबर आई कि आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय यानी CMO की ओर से ट्वीट किया गया,

पालघर की घटना पर कार्रवाई की गई है. जिन्होंने दो साधुओं, एक ड्राइवर और पुलिस कर्मियों पर हमला किया था, पुलिस ने घटना के दिन ही उन सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इस अपराध और शर्मनाक कृत्य के अपराधियों को कठोर दण्ड दिया जाएगा.

इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित बीजेपी के कई नेताओं ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. फडणवीस ने  ट्वीट किया था,

‘पालघर में मॉब लिंचिंग की घटना का वीडियो हैरान करने वाला और अमानवीय है. ऐसी विपदा के समय इस तरह की घटना और भी ज्यादा परेशान करने वाली है. मैं राज्य सरकार से गुजारिश करता हूं कि वह इस मामले की हाई लेवल जांच करवाएं और जो दोषी हैं उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो.

क्या है मामला?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जूना अखाड़े के दो साधु 35 साल के सुशील गिरी महाराज और 70 साल के चिकणे महाराज कल्पवृक्षगिरी ड्राइवर निलेश के साथ मुंबई के कांदिवली से गुजरात के सूरत जा रहे थे. दोस्त के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए. कांदिवली से करीब 120 किलोमीटर का रास्ता भी तय कर लिया था.  पीटीआई के अनुसार कुछ लोगों ने तीनों को रोक लिया और उन्हें गाड़ी से निकाल कर पीट-पीट कर मार डाला. भीड़ को इन पर चोर होने का शक था.

वहीं मौके पर पहुंची पुलिस जब घायलों को गाड़ी में ले जाने लगी तो ग्रामीणों ने पुलिस पर भी हमला कर दिया. पुलिस गाड़ी और घायलों को छोड़ भाग खड़ी हुई. इस हमले में कुछ पुलिस वाले भी घायल हुए हैं.

पालघर के डीएम कैलाश शिंदे ने बताया कि तीनों कांदिवली से सूरत जा रहे थे. दादरा और नगर हवेली की सीमा के बीच एक गांव है. जहां ये घटना हुई है. गांव वालों के हाथ में कुल्हाड़ी, लकड़ी, पत्थर समेत दूसरे हथियार थे. इन हथियारों से उन्होंने तीनों पर हमला किया. सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची. तीनों को गाड़ी में डाला. पर गांव वालों ने फिर अटैक कर दिया. तीनों को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. इसमें पुलिस भी जख्मी हुई है. उनका भी मेडिकल करवाया गया है.

19 अप्रैल को खबर आई कि इस मामले में 110 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. पालघर पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लिखा, पालघर मॉब लिंचिंग मामले में जिन 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें 9 नाबालिग हैं. 101 लोगों को इस महीने की 30 तारीख तक के लिए पुलिस कस्टडी में लिया गया है. इस मामले में जांच अभी जारी है.


Video: रामपुर में एक व्यक्ति पर सैनिटाइज़र की बूंद पड़ी तो, सैनेटाइजेशन करने वाले को जान से ही मार डाला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

2011 वर्ल्ड कप से पहले किस दुविधा में फंस गए थे महेंद्र सिंह धोनी?

युवराज, सुरेश रैना और यूसुफ पठान से जुड़ा किस्सा.

कांग्रेस को घेरने के चक्कर में स्मृति ईरानी 'सेल्फ गोल' कर बैठीं!

मामला अमेठी के कांग्रेस कार्यालय से जुड़ा हुआ है.

पाकिस्तान को हिंदुस्तानी मुसलमानों में कतई 'इंट्रेस्ट' आ रहा था, भारत ने डपट दिया

भारत ने कहा- पहले अपने यहां देखो, फिर हमें बताना.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर बहुत धांसू ख़बर आई है

वो भी सीधा इज़रायल से.

न्यूज़ चैनल ने हत्या के आरोपी आमिर खान की जगह हमारे 'राजा हिंदुस्तानी' की फोटो लगा दी

न्यूज़ चैनल पाकिस्तान का था.

पालघर मॉब लिंचिंग केसः उन पुलिसवालों का क्या हुआ जिनके वीडियो वायरल हुए हैं?

17 अप्रैल को पालघर के एक गांव में भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी.

कोरोना वायरस टेस्ट को लेकर गूगल ने ये बेहद जरूरी सुविधा शुरू की है

लगेगी बस चुटकी भर मेहनत!

ये महिला पुलिस अफसर से लिपटकर रो क्यों पड़ी?

खूब तारीफ मिल रही और सोशल डिस्टेंसिंग की हिदायत भी.

कोरोना: पीएम मोदी ने दिए बिजनेस के पांच मंत्र, कहा- भारत को सबसे आगे होना चाहिए

पीएम ने अंग्रेजी भाषा के पांच स्वरों- A, E, I ,O, U के आधार पर बिजनेस के नए तत्व बताए.

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का निधन

13 मार्च से एम्स में भर्ती थे.