Submit your post

Follow Us

भारत का सबसे बड़ा रनबाज़ विराट कोहली नहीं कोई और है!

298
शेयर्स

आप दाएं हाथ के हैं और कोई आपको बाएं हाथ से खाना खाने के लिए कहे तो? इतना ही नहीं दाएं हाथ के होते हुए आपसे कोई बाएं हाथ से लिखने के लिए कहे तो? मुश्किल है न. लेकिन भारत की एक ऐसी स्टार है जो दाएं हाथ की होते हुए बाएं हाथ से तूफान मचा रही है. हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया की सनसनी स्मृति मंधाना की.

जिस 11 साल की उम्र में लोगों ये नहीं पता होता है कि क्रिकेट के नियम क्या होते हैं, उस उम्र में ये खिलाड़ी अंडर 19 टीम में पहुंच गई थी. केमिकल डिस्ट्रीब्यूटर की बेटी से भारत की स्टार बनने तक स्मृति का सफर कमाल है. लेकिन आज बात उनके सफर की नहीं बल्कि उनके एक रिकॉर्ड की करेंगे. जिस रिकॉर्ड के आगे, पीछे, दाएं, बाएं कहीं भी विराट नहीं ठहरते. विराट ही क्या बड़े-बड़े दिग्गज भी नहीं ठहरते.

हाल में स्मृति ने 2000 वनडे रन पूरे किए वो भी भारत के लिए दूसरे सबसे तेज़. इस लिस्ट में विराट और गांगुली भी उनसे पीछे छूट गए हैं. जबकि शिखर यानी पहले नंबर पर अब भी धवन बने हुए हैं. स्मृति ने 51वीं पारी में ये कर दिया. जबकि शिखर ने 48 और विराट ने 53 पारियों में ऐसा किया था. हालांकि 40 पारियों में 2000 रन पूरे करने वाले हाशिम आमला अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अब भी टॉप पर बने हुए हैं.

ये तो बात रही इस रिकॉर्ड की. इसके अलावा भी स्मृति का पिछले 9 मैचों का आंकड़ा आपका दिमाग घुमा देगा. उनका आंकड़ा चीख-चीख कर कह रहा है कि वो रनचेज़ में विराट से कहीं आगे हैं.

Virat
भारतीय कप्तान विराट कोहली. फोटो: इंडिया टुडे

स्मृति vs विराट:

# रनचेज़ करते हुए स्मृति ने पिछले 9 वनडे मैचों में हर बार 50 से ऊपर रन बनाए हैं, इतना ही नहीं एक बार तो वो 100 भी पार कर गईं. बड़ी बात तो ये है कि इस दौरान उनके औसत ने ही शतक लगा दिया. जो कि ब्रैडमेन के औसत को भी पार कर गया.

# जबकि पिछले 9 मैचों में रनचेज़ करते हुए विराट ने कुल 420 रन बनाए हैं. जिसमें उनका औसत स्मृति से कम लेकिन 70 का रहा है. अब बताइये रनचेज़ करते वक्त गेंदबाज़ों के लिए स्मृति को आउट करना भारी है या फिर विराट को?


IPL में No Ball के लिए होगा अलग से अंपायर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!

बरसों से इंडिया का मित्र राष्ट्र रहा नेपाल क्या अब ज़मीन को लेकर कसमसा रहा है?

'कालापानी' को लेकर उत्तराखंड के CM टीएस रावत चिंता में हैं या गुस्से में, कहना मुश्किल है.

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.