Submit your post

Follow Us

राजनाथ सिंह ने जो बात कही वो अजित पवार को अच्छी नहीं लगेगी

5
शेयर्स

महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बनने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा बयान सामने आया है. टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार रोहन दुआ से बात करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार बनाने की पहल पहले एनसीपी के नेता अजित पवार और उनके विधायकों की तरफ से की गई थी. बीजेपी की तरफ से कोई खास पहल नहीं की गई. उन्होंने जो कुछ कहा आप नीचे पढ़ सकते हैं.

सरकार बनाने का जो फैसला होता है अंतिम फैसला राज्यपाल का ही होता है. राज्यपाल जब बातचीत में पूरी तरह से संतुष्ट हो जाते हैं कि किसी पॉलिटिकल पार्टी के पास पर्याप्त नंबर्स हैं तो उसको आमंत्रित करते हैं. अब इतने विधायक देवेंद्र फडणवीस के पास हो गए उसके आधार पर राज्यपाल ने उनको आमंत्रित किया.

मुझे लगता है जो चीज़ें भी हुई हैं वो ऑल ऑफ सडन नहीं हुई हैं. बीजेपी की तरफ से कोई खास इनिशियेटिव लिया गया, ऐसा नहीं है.

जो लोग भी साथ आए हैं, अजित पवार के साथ सारे एमएलए, वो इस आधार पर आए हैं कि महाराष्ट्र में एक स्टेबल सरकार होनी चाहिए.

बट नेचुरल है कि जितने भी विधायक होते हैं चाहते हैं कि सरकार बने, स्टेबल गवर्नमेंट हो. ताकि हम जिस एरिया को रिप्रजेंट कर रहे हैं उस एरिया का हम प्रॉपर डेवलपमेंट कर सकें.

इससे पहले उन्होंने लखनऊ में एक कार्यक्रम में भाग लेने के दौरान बयान दिया था जो राजनाथ के इस बयान से थोड़ा सा अलग था.

इस समय जिस कार्यक्रम में यहां आया हूं, कोई राजनीतिक बात नहीं कहना चाहता. यह राज्यपाल का विशेषाधिकार था. संतुष्ट होने पर राज्यपाल को जिसे आमंत्रित करना था, उन्होंने आमंत्रित किया. 

दूसरी तरफ सुबह-सुबह ही राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके देवेंद्र फडणवीस को सरकार बनाने की बधाईयां दी थी.

देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और अजीत पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने पर बधाई देता हूं. मुझे पूरा भरोसा है कि फडणवीस और पवार मिलकर राज्य की समृद्धि के लिए काम करेंगे.

अब समय बीतने के साथ ये चीज़ें सामने आएंगी कि सरकार बनाने के लिए पहले पहल किसने की थी. फिलहाल 30 नवंबर के दिन देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट पास करना होगा.


वीडियो-मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष रहे संजय निरूपम महाराष्ट्र कांग्रेस नेताओं पर क्या बोले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!