Submit your post

Follow Us

राजनाथ सिंह ने जो बात कही वो अजित पवार को अच्छी नहीं लगेगी

महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बनने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा बयान सामने आया है. टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार रोहन दुआ से बात करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार बनाने की पहल पहले एनसीपी के नेता अजित पवार और उनके विधायकों की तरफ से की गई थी. बीजेपी की तरफ से कोई खास पहल नहीं की गई. उन्होंने जो कुछ कहा आप नीचे पढ़ सकते हैं.

सरकार बनाने का जो फैसला होता है अंतिम फैसला राज्यपाल का ही होता है. राज्यपाल जब बातचीत में पूरी तरह से संतुष्ट हो जाते हैं कि किसी पॉलिटिकल पार्टी के पास पर्याप्त नंबर्स हैं तो उसको आमंत्रित करते हैं. अब इतने विधायक देवेंद्र फडणवीस के पास हो गए उसके आधार पर राज्यपाल ने उनको आमंत्रित किया.

मुझे लगता है जो चीज़ें भी हुई हैं वो ऑल ऑफ सडन नहीं हुई हैं. बीजेपी की तरफ से कोई खास इनिशियेटिव लिया गया, ऐसा नहीं है.

जो लोग भी साथ आए हैं, अजित पवार के साथ सारे एमएलए, वो इस आधार पर आए हैं कि महाराष्ट्र में एक स्टेबल सरकार होनी चाहिए.

बट नेचुरल है कि जितने भी विधायक होते हैं चाहते हैं कि सरकार बने, स्टेबल गवर्नमेंट हो. ताकि हम जिस एरिया को रिप्रजेंट कर रहे हैं उस एरिया का हम प्रॉपर डेवलपमेंट कर सकें.

इससे पहले उन्होंने लखनऊ में एक कार्यक्रम में भाग लेने के दौरान बयान दिया था जो राजनाथ के इस बयान से थोड़ा सा अलग था.

इस समय जिस कार्यक्रम में यहां आया हूं, कोई राजनीतिक बात नहीं कहना चाहता. यह राज्यपाल का विशेषाधिकार था. संतुष्ट होने पर राज्यपाल को जिसे आमंत्रित करना था, उन्होंने आमंत्रित किया. 

दूसरी तरफ सुबह-सुबह ही राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके देवेंद्र फडणवीस को सरकार बनाने की बधाईयां दी थी.

देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और अजीत पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने पर बधाई देता हूं. मुझे पूरा भरोसा है कि फडणवीस और पवार मिलकर राज्य की समृद्धि के लिए काम करेंगे.

अब समय बीतने के साथ ये चीज़ें सामने आएंगी कि सरकार बनाने के लिए पहले पहल किसने की थी. फिलहाल 30 नवंबर के दिन देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट पास करना होगा.


वीडियो-मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष रहे संजय निरूपम महाराष्ट्र कांग्रेस नेताओं पर क्या बोले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?