Submit your post

Follow Us

कांग्रेस विधायकों के बेटों को सरकारी नौकरी देने पर घिरे CM कैप्टन अमरिंदर ने क्या कहा है?

पंजाब में शुक्रवार 18 जून को कैबिनेट की एक मीटिंग हुई. इस मीटिंग में प्रस्ताव लाकर दो विधायकों के बेटों और एक कैबिनेट मंत्री के दामाद को पंजाब सरकार ने सरकारी नौकरी दे दी. कैबिनेट के इस फैसले पर विपक्ष तो हमलावर है ही पंजाब कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख सुनील जाखड़ और दो अन्य विधायकों ने भी सवाल उठाए हैं.

आखिर पूरा मामला क्या है?

आजतक की एक खबर के मुताबिक पंजाब सरकार ने कैबिनेट मंत्री गुरप्रीत कांगड़ के दामाद को एक्साइज विभाग में इंस्पेक्टर नियुक्त किया है. वहीं कांग्रेस विधायक राकेश पांडे के बेटे भीष्म पांडे को नायब तहसीलदार के पद पर नियुक्ति दी है. इसके अलावा कांग्रेस विधायक फतेह जंग बाजवा के बेटे अर्जुन प्रताप सिंह बाजवा को भी पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्त किया गया है.

सरकार ने अपने एक बयान में कहा कि अर्जुन, पंजाब के पूर्व मंत्री सतनाम सिंह बाजवा के पोते हैं, जिन्होंने 1987 में राज्य में शांति के लिए अपने प्राण दे दिए थे. वहीं भीष्म पांडेय, जोगिंदर पाल पांडे के पोते हैं, जिनकी 1987 में आतंकियों ने हत्या कर दी थी.

इस मामले में विपक्ष ने क्या कहा?

अकाली दल और बीजेपी ने इस मामले को लेकर पंजाब की कांग्रेस सरकार को घेरा है. अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने इसे सरकारी लूट करार दिया और कहा कि सीएम, नाराज विधायकों को खुश करने के लिए नौकरियां बांट रहे हैं. उन्होंने कहा कि जो नौकरियां पंजाब के युवाओं को मिलनी चाहिए थीं, वो नियमों को ताक पर रख कर विधायकों के बेटों को दी जा रही हैं.

वहीं बीजेपी नेता तरुण चुग ने इस मामले में कहा कि अगर पंजाब सरकार को सरकारी नौकरियां देनी थी तो उन 35 हजार परिवारों के बच्चों को देते जिनके अपनों ने आतंकवाद के दौर में अपनी जान दी है. उन्होंने कहा कि चुनिंदा नेताओं के बच्चों को ही नौकरियां दी जा रही हैं. अकाली दल और बीजेपी के अलावा आम आदमी पार्टी ने भी पंजाब सरकार के फैसले को गलत करार दिया है.

कांग्रेसियों ने क्या कहा है?

ऐसा नहीं है कि केवल विपक्ष ही सरकार के इस फैसले का विरोध कर रहा है. कांग्रेस में भी इस फैसले के खिलाफ आवाज उठ रही है. पंजाब कांग्रेस के प्रमुख सुनील जाखड़ ने सरकार के फैसले पर सवाल उठाए हैं. वहीं दो विधायकों कुलजीत नागरा और अमरिंदर सिंह राजा वारिंग ने भी विधायकों के बेटों को नौकरी देने पर नाराजगी जताई है. समाचार एजेंसी PTI की एक रिपोर्ट के मुताबिक जाखड़ ने कहा,

“मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को ये फैसला वापस ले लेना चाहिए. यह फैसला अमरिंदर सिंह और कांग्रेस पार्टी द्वारा अपनाई गई तटस्थता और संस्कृति के खिलाफ है.”

अमरिंदर सिंह का क्या कहना है?

हर ओर से हो रही आलोचनाओं के बावजूद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने फैसले को सही करार दिया है. आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दलील दी कि इन परिवारों ने प्रदेश के लिए कुर्बानी दी है और आतंकवाद के दौर में अपने लोगों को खोया है. सीएम के मीडिया एडवाइजर रवीन ठुकराल ने ट्वीट किया और सीएम के हवाले से कहा कि ये शर्मनाक है कि कुछ लोग इस फैसले पर राजनीति कर रहे हैं.

सीएम ने कहा कि पंजाब सरकार की पॉलिसी के हिसाब से नियमों के मुताबिक ये लोग नौकरी पाने के हकदार हैं और इसीलिए इनको ये नौकरियां दी गई हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने अकाली दल और आप के भी ऐसे नेताओं को ढूंढा जिनके पूर्वज इस तरह शहीद हुए हों ताकि उनके परिवार वालों को नौकरी दी जा सके, लेकिन उन्हें कोई ऐसा परिवार इन पार्टियों में नहीं मिला.


वीडियो- पंजाब: प्रशांत किशोर बन कर कांग्रेस नेताओं से टिकट के नाम पर करोड़ों ठग लिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ये किन दो नेताओं ने चुनाव के ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दिया है?

कौन हैं रामबाबू हरित और जसवंत सैनी?

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

ट्रस्ट द्वारा खरीदी जा रही जमीनों के दो और सौदे विवादों के घेरे में.

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.