Submit your post

Follow Us

NLAT 2020: दोबारा हुए एग्जाम में भी लीक हो गया क्वेश्चन पेपर!

12 सितंबर, 2020. इस तारीख को NLAT यानी नेशनल लॉ एप्टीट्यूड टेस्ट हुआ. ये परीक्षा देश की जानी-मानी नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए आयोजित की गई थी. लेकिन एग्जाम होने के बाद मच गया बवाल. इस परीक्षा में हिस्सा लेने वाले छात्रों ने NLSIU पर अव्यवस्था का आरोप लगाया. कहीं किसी का वेरिफिकेशन नहीं हो पाया, तो कहीं लॉगइन करते ही पेपर सबमिट दिखाने लगा. छात्रों ने इसके क्वेश्चन पेपर सोशल मीडिया पर वायरल होने की बात भी कही. इसके बाद NLSIU ने फिर से एग्जाम कराने का फैसला किया. 14 सितंबर को 12.30 बजे से एग्जाम शुरू हुआ और एग्जाम के दौरान ही एक बार फिर से क्वेश्चन पेपर वायरल होने का दावा किया जाने लगा. कानूनी मसलों पर नजर रखने वाली वेबसाइट ‘बार एंड बेन्च’ ने दावा किया है कि परीक्षा के दौरान ही उसके पास क्वेश्चन पेपर की एक कॉपी आ गई थी.

‘बार एंड बेन्च’ का दावा है कि परीक्षा में हिस्सा लेने वालों ने वेरिफाई किया है कि ये वही पेपर है, जो एग्जाम में आया था.

NLSIU का क्या कहना है?
परीक्षा के बाद NLSIU ने एक बयान जारी किया. कहा कि इससे परीक्षा पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. NLSIU की ओर से जारी प्रेस नोट में कहा गया है-

14 सितंबर की परीक्षा में उन छात्रों को मौका दिया गया, जो टेक्निकल समस्याओं की वजह से परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए थे. प्लेटफॉर्म पर लॉगइन करने के बाद टेस्ट पेपर कैंडिडेट्स के पास आ जाता है. इसके बाद ऐसा प्रतीत होता है कि कुछ कैंडिडेट्स ने प्रश्नों को कॉपी कर लिया और उसे मैसेजिंग ऐप और ई-मेल पर भेज दिया. यह NLAT की गाइडलाइन का उल्लंघन है. लेकिन इससे परीक्षा पर किसी तरह का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, क्योंकि लॉगइन करने के बाद क्वेश्चन पेपर पहले से ही छात्रों के लिए उपलब्ध था.

NLSIU की ओर से जारी प्रेस रिलीज
NLSIU की ओर से जारी प्रेस रिलीज

क्यों कराना पड़ा दोबारा एग्जाम

12 सितंबर को एग्जाम के बाद NLSIU की ओर से जारी प्रेस रिलीज में बताया गया कि NLAT 2020 में UG के लिए 94%, जबकि PG के लिए 97% स्टूडेंट की उपस्थिति रही. यानी कि 12 सितंबर को हुई परीक्षा सफलतापूर्वक संपन्न हो गई. लेकिन सोशल मीडिया पर छात्रों के जो रिएक्शन आए, वो NLSIU के दावे की हवा निकाल देते हैं.

छात्रों का दावा है कि इस परीक्षा के दौरान जमकर नकल हुई. छात्रों को वेरिफिकेशन और लॉगइन करने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. छात्रों ने दावा किया कि वेरिफिकेशन में 45 मिनट तक का समय लग गया, जिसकी वजह से उनका समय बर्बाद हो गया. इसके अलावा वेबसाइट क्रैश होने, समय से पहले ही कॉपी सबमिट हो जाने और लॉगइन करते ही पेपर कम्प्लीट दिखाने जैसी समस्याएं भी स्टूडेंट्स के सामने आईं.

परीक्षा के दौरान बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की शिकायतें हैं. NLAT में पूछे गए प्रश्नों की तस्वीरें कथित रूप से सोशल मीडिया पर जारी की गई थीं. कुछ उम्मीदवारों ने ये भी दावा किया कि परीक्षा के दौरान स्टूडेंट्स अपने दोस्तों के साथ पूरे प्रश्न पत्र पर चर्चा करते रहे. खबरों की मानें, तो कुछ उपद्रवियों ने जूम स्क्रीन शेयर करके पूरे एंट्रेंस को लाइव भी चलाया.

12 सितंबर को एग्जाम के बाद NLSIU की ओर से जारी की गई प्रेस रिलीज
12 सितंबर को एग्जाम के बाद NLSIU की ओर से जारी की गई प्रेस रिलीज

CLAT के होते हुए भी ये NLAT क्या है?

देश में 23 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी हैं. इनमें से 22 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी अपने यहां एडमिशन के लिए संयुक्त रूप से CLAT यानी कि कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट आयोजित करती हैं. इस साल CLAT मई में होना था, लेकिन हुआ नहीं, क्योंकि कोरोना की वजह से देश में लॉकडाउन था. डेट आगे बढ़ी और बढ़ते-बढ़ते 28 सितंबर तक पहुंच गई. इसके बाद हुआ ये कि NLSIU जो कि NIRF (National Institutional Ranking Framework) रैंकिंग के हिसाब से देश की बेस्ट लॉ यूनिवर्सिटी है, उसने अपना रास्ता अलग कर लिया. कहा कि CLAT की डेट बार-बार बढ़ती ही जा रही है. अगर यूनिवर्सिटी सितंबर के अंत तक नए बैच का एडमिशन लेने में नाकाम रहती है, तो फिर इसे ‘जीरो ईयर’ घोषित करना होगा.

NLSIU ने 10 सितंबर तक NLAT 2020 के लिए आवेदन मांगे और 12 सितंबर को ऑनलाइन एग्जाम करा दिया.
NLSIU ने 10 सितंबर तक NLAT 2020 के लिए आवेदन मांगे और 12 सितंबर को ऑनलाइन एग्जाम करा दिया.

NLSIU के इस फैसले को मध्य प्रदेश और झारखंड की हाईकोर्ट के साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट में भी चुनौती दी गई. कोर्ट ने NLAT पर रोक लगाने से इनकार कर दिया. जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच ने NLSIU को निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार NLAT 2020 आयोजित करने की अनुमति दे दी. हालांकि बेंच ने प्रशासन को परिणाम घोषित करने और एडमिशन प्रॉसेस को पूरा करने देने से रोक दिया. अब अदालत ने नोटिस जारी किया है. सुनवाई 16 सितंबर को होगी.


NLAT की परीक्षा में कैंडिडेट्स को क्या दिक्कतें आईं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

लोकनीति और CSDS के ओपिनियन पोल की बड़ी बातें एक नजर में.

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

आपराधिक छवि वालों की इतनी तादाद से साफ है कि दलों को लगता है, 'दाग' अच्छे हैं

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

राहुल ने खबर शेयर की थी जिसमें लिखा था-बीजेपी विधायक रेप के आरोपी को थाने से छुड़ा ले गए.

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ की टीम ने लखनऊ से पकड़ा. बलिया पुलिस को हैंडओवर करेगी.

हैदराबाद में भारी बारिश से सड़कों पर भरा पानी, परीक्षाएं टलीं, 11 लोगों की मौत

हैदराबाद में भारी बारिश से सड़कों पर भरा पानी, परीक्षाएं टलीं, 11 लोगों की मौत

एनडीआरएफ की टीम मदद में जुटी. लोगों से घरों में रहने की अपील.

सीएम जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमना की शिकायत चीफ जस्टिस से क्यों कर दी?

सीएम जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमना की शिकायत चीफ जस्टिस से क्यों कर दी?

ये पूरा मामला तो वाकई हैरान कर देने वाला है.

फारुख अब्दुल्ला बोले- चीन के सपोर्ट से दोबारा लागू किया जाएगा अनुच्छेद 370

फारुख अब्दुल्ला बोले- चीन के सपोर्ट से दोबारा लागू किया जाएगा अनुच्छेद 370

कहा- आर्टिकल 370 को हटाया जाना चीन कभी स्वीकार नहीं करेगा.

पीएम मोदी ने जिस स्वामित्व योजना की शुरुआत की है, उसके बारे में जान लीजिए

पीएम मोदी ने जिस स्वामित्व योजना की शुरुआत की है, उसके बारे में जान लीजिए

2024 तक देश के 6.62 लाख गांवों तक सुविधा पहुंचाने का लक्ष्य है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने CJI को चिट्ठी लिखी, सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमन्ना पर लगाए गंभीर आरोप

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने CJI को चिट्ठी लिखी, सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमन्ना पर लगाए गंभीर आरोप

जस्टिस एनवी रमन्ना अगले संभावित चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बन सकते हैं.

TRP स्कैम: FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर मुंबई पुलिस ने क्या कहा है?

TRP स्कैम: FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर मुंबई पुलिस ने क्या कहा है?

रिपब्लिक टीवी का आरोप है कि FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर एक्शन नहीं लिया गया.