Submit your post

Follow Us

नितिन गडकरी बोले- मुख्यमंत्री को भरोसा नहीं कब रहेंगे कब जाएंगे

नितिन गडकरी. BJP के दिग्गज नेता और केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री. अपने एक बयान की वजह से नितिन गडकरी चर्चा में हैं. बयान मजाकिया लहजे में था. लेकिन अब कहा जा रहा है कि इस मजाक के बहाने नितिन गडकरी BJP की अंदरूनी राजनीति पर काफी कुछ बोल गए.

दरअसल, सोमवार 13 सितंबर को नितिन गडकरी राजस्थान विधानसभा में आयोजित एक सेमीनार को संबोधित कर रहे थे. विषय था संसदीय लोकतंत्र और जन अपेक्षा. सेमीनार में बैठे लोगों से बात करते हुए नितिन गडकरी ने राजनीति, नेताओं और सरकारों को लेकर तंज कसा. इसमें उन्होंने तमाम पार्टियों समेत BJP को भी लपेट लिया. उनकी बात सुनकर सेमीनार में मौजूद सभी लोग हंस पड़े.

ऐसा भी क्या बोल गए गडकरी!

बता रहे हैं सर! सेमीनार को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा,

“समस्या सबके सामने है. पार्टी में समस्या है, पार्टी के बाहर समस्या है. चुनाव क्षेत्र में समस्या है, परिवार में समस्या है. आजू-बाजू में समस्या है. सब दुखी हैं. प्रॉब्लम किसके सामने नहीं है. एक ने पूछा कि तुम में से सुखी कौन है, किसी ने हाथ ऊपर नहीं किया. MLA इसलिए दुखी हैं कि वे मंत्री नहीं बन पाए. मंत्री इसलिए दुखी थे कि उनको अच्छा डिपार्टमेंट नहीं मिला. और जिन मंत्रियों को अच्छा डिपार्टमेंट मिल गया, वे इसलिए दुखी हैं कि मुख्यमंत्री नहीं बन पाए. मुख्यमंत्री इसलिए दुखी हैं कि कब रहेंगे कब जाएंगे इसका भरोसा नहीं”.

केंद्रीय मंत्री का ये कहा अब कई जगह कहा जा रहा है.

दरअसल, हाल के समय में कई राज्यों में BJP ने एक के बाद एक सीएम बदले हैं. उत्तराखंड और कर्नाटक के बाद बीते सप्ताहांत गुजरात का भी मुख्यमंत्री बदल गया. विजय रूपाणी चले गए और भूपेंद्र पटेल नए सीएम बना दिए गए. इससे साफ हो जाता है कि नितिन गडकरी का बयान क्यों बहस का विषय बन गया है.

नितिन गडकरी यहीं नहीं रुके. उन्होंने सरकारों पर भी तंज कसा. भाषण में नितिन गडकरी ने मशहूर व्यंग्यकार शरद जोशी का जिक्र किया. कहा,

“जोशी जी बोलते थे कि जो राज्यों में काम के नहीं थे, उन्हें दिल्ली भेज दिया गया. जो दिल्ली में किसी काम के नहीं थे, उन्हें गवर्नर बना दिया और जो गवर्नर के लायक भी नहीं थे उन्हें एंबेसडर बना दिया. भाजपा अध्यक्ष रहते मुझे ऐसा कोई नहीं मिला, जिसे कोई समस्या ना हो.”

modi, bjp
बीजेपी के संसदीय दल की एक बैठक के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी. (फाइल फोटो, साभार- पीटीाई)

भाषण देते हुए गडकरी ने ये भी कहा कि वे हमेशा खुश रहते हैं. उन्होंने बताया कि एक बार एक पत्रकार ने उनसे पूछा था कि वे हमेशा खुश कैसे रह लेते हैं. इसका जवाब देते हुए गडकरी बोले,

“फ्यूचर की चिंता करने वाले दुखी होते हैं. जो फ्यूचर के बारे में नहीं सोचता वो खुश रहता है. जिंदगी को वन-डे क्रिकेट की तरह खेलो.”

विचारधारा के प्रति हमेशा लॉयल रहें

नितिन गडकरी ने बताया कि एक समय भाजपा की स्थिति अच्छी नहीं थी. वे चुनाव हार गए थे. गडकरी के मुताबिक, उनकी इस हालत को देख उनके दोस्त और नागपुर के कांग्रेस नेता डॉ. श्रीकांत ने उनसे कहा था कि उन्हें भाजपा छोड़कर कांग्रेस में आ जाना चाहिए. श्रीकांत ने कहा था कि भाजपा का कोई भविष्य नहीं है.

nitin gadkari
नितिन गडकरी की फाइल फोटो. (साभार- पीटीआई)

लेकिन गडकरी ने कांग्रेस में आने से इनकार कर दिया. उन्होंने अपने कांग्रेसी दोस्त से कहा कि सत्ता मिलना या ना मिलना एक अलग बात है. इस तरह के उतार-चढ़ाव तो जिंदगी में आते ही रहते हैं. लेकिन इन सब में सबसे ज्यादा जरूरी है विचारधारा के प्रति लॉयल रहना. वे बोले- चाहे कुछ हो जाए, अपने दल को नहीं छोड़ना चाहिए.

(ये स्टोरी हमारे साथी आयूष ने लिखी है.)


विडियो- पेट्रोल की कीमतों में लगी आग तो नितिन गडकरी ने क्या बयान दिया?


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!

अक्षय कुमार की मां का निधन

अपने जन्मदिन से सिर्फ एक दिन पहले अक्षय को मिला गहरा सदमा.

अफगानिस्तान: तालिबान ने नई सरकार की घोषणा की, किसे बनाया मुखिया?

नई अफगानिस्तान सरकार का लीडर यूएन की आतंकियों की लिस्ट में शामिल है.

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के पिता गिरफ्तार, कोर्ट ने 15 दिन के लिए भेजा जेल

रायपुर पुलिस ने नंद कुमार बघेल को ब्राह्मणों पर आपत्तिजनक टिप्पणी के आरोप में गिरफ्तार किया.

एक्टर रजत बेदी ने रोड पार करते व्यक्ति को टक्कर मारी!

पीड़ित इस वक़्त कूपर अस्पताल में भर्ती है, जहां उसकी हालत बेहद नाज़ुक है.

अक्षय कुमार की मां ICU में एडमिट, यूके से शूटिंग छोड़ वापस आए अक्षय

कई दिनों से अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया की तबीयत खराब है.

तस्वीरों में देखिए मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत

500 लंगर, 100 चिकित्सा शिविर, 5 हज़ार वॉलेंटियर्स.