Submit your post

Follow Us

दांतों के डॉक्टर माणिक साहा होंगे त्रिपुरा के नए सीएम, बिप्लब ने बताई इस्तीफे की वजह

माणिक साहा (Manik Saha) अब त्रिपुरा (Tripura) के नए मुख्यमंत्री होंगे. शनिवार, 14 मई की दोपहर बिप्लब देब (Biplab Kumar Deb) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. जिसके बाद बीजेपी ने माणिक साहा को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया.  इंडिया टुडे के मुताबिक अब बिप्लब देब राज्य के भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष का पद संभाल सकते हैं.

कौन हैं माणिक साहा?

2016 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए माणिक साहा को साल 2020 में पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया. 2018 में हुए विधानसभा चुनावों ने माणिक साहा के नेतृत्व में भाजपा ने शानदार जीत हासिल की थी और राज्य में 25 साल लंबे कम्युनिस्ट शासन का अंत किया था. 2021 में हुए नगर निकाय के चुनावों में भाजपा ने सभी 13 सीटों पर जीत हासिल की थी. इसका श्रेय माणिक साहा को दिया जाता है. अगले साल त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, ऐसे पार्टी का ये फैसला काफी अहम माना जा रहा है. खबरों के मुताबिक पेशे से डेंटिस्ट, माणिक साहा पार्टी के अंदर किसी भी खेमे के नहीं माने जाते हैं. इसके साथ ही साहा त्रिपुरा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं.

बिप्लब देब ने दी बधाई

पूर्व सीएम बिप्लब देब ने ट्विटर पर माणिक साहा को बधाई दी. उन्होंने लिखा,

“माणिक साहा जी को विधायक दल का नेता चुने जाने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं. मुझे विश्वास है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के विज़न और नेतृत्व में त्रिपुरा तरक्की करेगा.”

14 मई की दोपहर को बिप्लब देब ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया था. इस्तीफा देने से एक दिन पहले बिप्लब ने दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. उनके इस इस्तीफे के पीछे पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का फैसला बताया जा रहा है.

Biplab Kumar Deb Resignation Letter
बिप्लब देब का त्याग पत्र (फोटो: इंडिया टुडे)

मीडिया से बात करते हुए बिप्लब ने कहा कि पार्टी सबसे ऊपर है. मैंने पीएम मोदी के नेतृत्व में पार्टी के लिए काम किया. मैंने पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख और मुख्यमंत्री के रूप में त्रिपुरा के लोगों के साथ पूरा न्याय करने की कोशिश की है. कोविड काल में भी मैंने राज्य में शांति और विकास सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश की है.


वीडियो: त्रिपुरा निकाय चुनाव में टीएमसी की करारी शिकस्त, फिर भी इतनी ‘खुश’ क्यों?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

इस घटना ने दिल्ली के लोगों को हिलाकर रख दिया है.

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.